पाकिस्तान ने फिर किया अपना बचाव, कहा, 'भारत ने नहीं गिराया हमारा F-16 लड़ाकू विमान'

भारत सरकार और भारतीय मीडिया अपनी विफलताओं और उसके बाद की शर्मिंदगी से बचने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय और भारतीय लोगों को भ्रमित करने के लिए लगातार गलत जानकारी फैला रहा है.

पाकिस्तान ने फिर किया अपना बचाव, कहा, 'भारत ने नहीं गिराया हमारा F-16 लड़ाकू विमान'
पाकिस्तान ने कहा कि घरेलू राजनीतिक फायदे को ध्यान में रखकर भारतीय सरकार लगातार लोगों को 'भ्रमित' कर रही है. (फाइल फोटो)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने भारत के उस दावे को 'पूरी तरह निराधार' बताकर खारिज किया है, जिसमें कहा गया था कि हाल में हुई हवाई झड़प के दौरान भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी वायुसेना के एक एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था. पाकिस्तान ने कहा कि घरेलू राजनीतिक फायदे को ध्यान में रखकर भारतीय सरकार लगातार लोगों को 'भ्रमित' कर रही है. 

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने शनिवार को नई दिल्ली में मीडिया को बताया गया था कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान द्वारा उड़ाए जा रहे भारतीय वायुसेना के मिग-21 बाइसन विमान ने पाकिस्तान के एक एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था और इस बात के प्रत्यक्षदर्शी गवाह और इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य भी हैं. कुमार के इस बयान के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय का यह बयान आया है. 

पाकिस्तानी विदेश कार्यालय (एफओ) ने शनिवार देर शाम कहा कि भारत सरकार और भारतीय मीडिया घरेलू राजनीतिक फायदे और अपनी विफलताओं और उसके बाद की शर्मिंदगी से बचने के लिये अंतरराष्ट्रीय समुदाय और भारतीय लोगों को भ्रमित करने के लिये लगातार गलत जानकारी फैला रहा है.

इसमें कहा गया, “एक भारतीय विमान के पाकिस्तानी एफ-16 को मार गिराने के झूठे दावे पूरी तरह निराधार हैं और इनका मकसद सिर्फ भारतीय लोगों को संतुष्ट करना था, लेकिन इस प्रक्रिया में उन्होंने एक के बाद एक झूठ उजागर कर दिया.” 

 

भारत ने शनिवार को यह भी कहा था कि उसने अमेरिका से इस बात की जांच के लिए भी कहा है कि क्या भारत के खिलाफ एफ-16 का इस्तेमाल इस्लामाबाद को बेचे गए लड़ाकू विमानों की शर्तों के मुताबिक है. बयान में पुलवामा आतंकी हमले के पीछे पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद का हाथ होने के भारत के रुख को भी खारिज करते हुए कहा गया, स्थानीय विस्फोटकों और गाड़ियों के इस्तेमाल समेत स्वदेशी मूल और नियंत्रण रेखा से कई मील की दूरी से भारत के दावों का कोई तुक नहीं बनता. 

इसमें कहा गया कि आत्मघाती हमले के संदर्भ में भारत से भेजे गए डॉजियर की जांच की जा रही है. इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इसमें कहा गया कि डॉजियर की जांच की जा रही है और इस पर और जानकारी आने वाले समय में साझा की जाएगी.