भारत के साथ रोका था पाकिस्तान ने व्यापार, अब घुटनों के बल आया, मांग रहा है जीवनरक्षक दवाएं

पाकिस्तान द्वारा भारत के साथ व्यापार पर लगाए गए प्रतिबंध को एक महीना भी पूरा नहीं हुआ है और वहां मरीजों की सांसें उखड़ने लगी हैं. 

भारत के साथ रोका था पाकिस्तान ने व्यापार, अब घुटनों के बल आया, मांग रहा है जीवनरक्षक दवाएं
पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय ने इसे लेकर वैधानिक नियामक आदेश (Statutory regulatory order) जारी किया है.

इस्‍लामाबाद: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान (Pakistan) ने बौखलाहट में भारत (India) के साथ व्यापार (Trade) पर रोक लगा दी थी. पाकिस्तान ने भारत के साथ व्यापारिक संबंधों पर रोक लगाकर खुद के ही पैरों में कुल्हाड़ी मार ली थी. अब यह रोक पाकिस्तान को भारी पड़ने लगी है और अब वह भारत के सामने घुटनों पर आ गया है. दरअसल, पाकिस्तान में इन दिनों जीवनरक्षक दवाओं (Life Saving Drugs) की भारी कमी हो गई है. इसे खत्म करने के लिए पाकिस्तान ने भारत से जीवनरक्षक दवाओं के आयात को मंजूरी दे दी है. 

पाकिस्तान द्वारा भारत के साथ व्यापार पर लगाए गए प्रतिबंध को एक महीना भी पूरा नहीं हुआ है और वहां लोगों की सांसें उखड़ने लगी हैं. इसी के चलते सोमवार को पाकिस्तान ने भारत के साथ आंशिक व्यापार को बहाल कर दिया है. अब पाकिस्तान भारत से जीवनरक्षक दवाएं आयात करेगा. पाकिस्तान द्वारा व्यापार पर लगाई गई रोक का भारत पर कोई बड़ा असर नहीं पड़ा है. भारत पर लगाए प्रतिबंध को अभी एक महीना भी नहीं हुआ है और पाकिस्तान में जरूरत की चीजें बमुश्किल से उपलब्ध हो पा रही हैं. 

 

पाकिस्तानी न्यूज चैनल के अनुसार, पाकिस्‍तान सरकार ने भारत से जीवनरक्षक दवाओं के आयात को मंजूरी दे दी है. पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय ने इसे लेकर वैधानिक नियामक आदेश (Statutory regulatory order) जारी किया है. जीवनरक्षक दवाओं की कमी से जूझ रहे पाकिस्‍तान के तेवर अब ढीले पड़ते नजर आ रहे हैं. बता दें कि भारत से व्यापारिक रिश्ते खत्म होने की वजह से दवाओं के आयात पर भी रोक लग गई थी. प्रतिबंध की कुछ ही दिनों बाद पाकिस्तान के अस्पतालों में जीवनरक्षक दवाओं की कमी हो गई. दवाओं के अभाव में मरीजों की जान तक पर बन आई. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.