भारत से दुश्‍मनी पड़ रही भारी, अब एक-एक टमाटर को तरस रहे पाकिस्तानी

मध्य प्रदेश के झाबुआ के किसानों ने अपना टमाटर पाकिस्तान को भेजने से साफ इनकार कर दिया है.  किसानों का कहना है कि भले टमाटर खराब हो जाएं लेकिन, पाकिस्तान नहीं भेजेंगे.  

भारत से दुश्‍मनी पड़ रही भारी, अब एक-एक टमाटर को तरस रहे पाकिस्तानी
फाइल फोटो

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले से पूरा देश गुस्से में हैं. पुलवामा अटैक के चलते मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा छिनने के बाद भारत ने पाकिस्तान को दूसरा झटका तब दिया, जब भारत ने पाकिस्तान निर्यात किए जाने वाले सामानों पर बेसिक कस्टम ड्यूटी को 200 फीसदी तक बढ़ा दी. इस एक्शन के बाद अब पाकिस्तान को भारत की तरफ से निर्यातित उत्पादों पर पहले से ज्यादा टैक्स देना होगा. पुलवामा में पाकिस्तान की कायरना हरकत से सरकार के साथ देश के किसानों ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की है. मध्य प्रदेश के झाबुआ के किसानों ने अपना टमाटर पाकिस्तान को भेजने से साफ इनकार कर दिया है. आलम ये है कि अब पाकिस्तान में टमाटरों की कीमत 'लाल' हो चली है. 

भारत में टमाटर की कीमत से आप वाकिफ होंगे. लेकिन, क्या आप पाकिस्तान में टमाटरों की कीमत को जानते हैं. दरअसल, पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान निर्यात किए जाने वाले सामानों पर बेसिक कस्टम ड्यूटी को 200 फीसदी तक बढ़ा दी. वहीं, देश के कई किसानों ने टमाटर पाकिस्तान निर्यात करने से मना कर दिया, जिसके बाद पाकिस्तान के लाहौर में टमाटर 180 रुपये प्रतिकिलो बिक रहे हैं. पाकिस्‍तान में टमाटर का भाव आसमान छू रहा है. टमाटर के बढ़ते दामों की वजह भारत-पाकिस्‍तान के रिश्‍तों में पड़ी खटास है. 

पाकिस्तान को भारत से दुश्‍मनी अब काफी मंहगी पड़ेगी. क्योंकि, अब तक टमाटर भारत से निर्यात हुए करते थे. भारत ने बेसिक कस्टम ड्यूटी बढ़ाई तो किसानों ने भी पाकिस्तान को कारारा जवाब दिया है. किसानों ने पाकिस्तान को अपना टमाटर भेजने से इनकार कर दिया है. 

 

पुलवामा हमले के बाद वे सरकार की सख्ती के साथ खड़े हैं. हालांकि, किसानों को अपने इस फैसले से काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है. लेकिन, देश हित में किसान इस नुकसान को उठाने के लिए भी तैयार हैं. झाबुआ के किसानों ने मोदी सरकार से अपील की है कि क्षेत्र के टमाटरों को बेचने के लिए खाड़ी देशों या अन्य जगह पर नए बाजार को खोज की जाए. 

आपको बता दे कि साल 2017 में भी दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के चलते आपूर्तिं बंद कर दिया था, जिसके बाद लाहौर और पंजाब प्रांत के कुछ हिस्सों में टमाटर की कीमत बढ़कर 300 रुपये किलो के स्तर पर जा पहुंची थी.