CAA पर मोदी सरकार का विरोध करने वालों को राम माधव ने दी ये सलाह

राम माधव ने कहा, 'CAA के आने के बाद देश में कई प्रकार के झूठे प्रचार किए गए, लोगों को भड़काने का प्रयास कुछ शक्तियां कर रही हैं. ये कानून किसी के खिलाफ बिल्कुल नहीं है. मुस्लिमों के साथ भेदभाव का सवाल ही नहीं है. जो भी विपक्षी दल और सांप्रदायिक शक्तियां अशांति का माहौल फैला रहे हैं, उन्हें इसे तत्काल बंद करना चाहिए.'

CAA पर मोदी सरकार का विरोध करने वालों को राम माधव ने दी ये सलाह
CAA का विरोध करने वालों को बीजेपी महासचिव राम माधव ने जवाब दिया है.

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर देशभर में हुए विरोध प्रदर्शन पर बीजेपी के महासचिव राम माधव ने कहा है कि विपक्षी दल और सांप्रदायिक शक्तियां देश में अशांति फैला रही हैं. राम माधव ने कहा, 'CAA के आने के बाद देश में कई प्रकार के झूठे प्रचार किए गए, लोगों को भड़काने का प्रयास कुछ शक्तियां कर रही हैं. ये कानून किसी के खिलाफ बिल्कुल नहीं है. मुस्लिमों के साथ भेदभाव का सवाल ही नहीं है. जो भी विपक्षी दल और सांप्रदायिक शक्तियां अशांति का माहौल फैला रहे हैं, उन्हें इसे तत्काल बंद करना चाहिए.' बीजेपी महासचिव ने सलाह दी है कि जो लोग भी CAA का विरोध कर रहे हैं, वे पहले इस एक्ट को ध्यान से पढ़ें, पूरा भरोसा है कि उनके मन में उठ रहे सारे सवालों का जवाब मिल जाएगा.

सीएए को लेकर बीजेपी की बैठक
नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के मुद्दे को लेकर गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) एक अहम बैठक कर रही है. पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा की अध्यक्षता में यह बैठक यहां पार्टी मुख्यालय में हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को हुई रैली में दावा करते हुए कहा था कि एनआरसी की कोई बात नहीं हुई है, जिसके बाद से राष्ट्रीय राजधानी में सीएए को लेकर हुए शुरुआती विरोध प्रदर्शनों का असर कम होता जा रहा है. इसी क्रम में बीजेपी नए कानून को लेकर जनता की धारणा को अपने पक्ष में करने का प्रयास कर रही है.

बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी.एल. संतोष, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल, मुख्तार अब्बास नकवी, किरेन रिजिजू, अर्जुन राम मेघवाल और गजेंद्र सिंह शेखावत भी शामिल हैं.

अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने पर पार्टी की स्थिति स्पष्ट कर अल्पसंख्यक समुदाय के एक मुखर नए नेता के तौर पर उभरे लद्दाख सांसद जमयांग सेरिंग नामग्याल, पार्टी के सांसद और सोशल मीडिया पर भी लोकप्रिय नेता राजीव चंद्रशेखर और जी.वी.एल. नरसिम्हा राव जैसे नेता भी इसका हिस्सा हैं.

गुरुवार को बंद दरवाजे के पीछे हो रही इस बैठक का मकसद विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम पर पार्टी के स्टैंड को और अधिक मजबूत कर इसे नागरिकों के बीच इसे अधिक आश्वस्त करना है. बैठक में उपस्थित लोगों को पार्टी के रुख को आगे बढ़ाने के लिए विशिष्ट जिम्मेदारियां दी जा सकती हैं.

ये भी देखें-: