गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण के दिन बन रहा है गज केसरी योग, रखें इन बातों का खास ध्यान

ग्रहण सुबह 8 बजकर 38 मिनट से शुरू होगा और सुबह 11 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा. 

गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण के दिन बन रहा है गज केसरी योग, रखें इन बातों का खास ध्यान

नई दिल्ली: साल का तीसरा चंद्र ग्रहण 5 जुलाई को लगने वाला है. इससे पहले पांच जून को चंद्र ग्रहण लगा था. चंद्र ग्रहण का समय 2 घंटा 43 मिनट और 24 सेकंड होगा. यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 38 मिनट से शुरू होगा और सुबह 11 बजकर 22 मिनट पर खत्म होगा. हालांकि 5 जुलाई को लगने वाला चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा और इसलिए इसमें कोई सूतक काल नहीं माना जाएगा. ये उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा. 

Lunar Eclipse 2020: इसलिए अद्भुत है चंद्र ग्रहण का संयोग, इन जगहों पर देगा दिखाई

इन राशियों के जातकों को मिलेगा लाभ
चंद्र ग्रहण पर खास गज केसरी योग बन रहा है और इसका 5 राशि वालों पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ेगा. चंद्रमा और गुरु इस दौरान धनु राशि में होंगे. एक राशि में दोनों ग्रहों की युति गज केसरी योग बनाती है. चंद्र ग्रहण के दौरान बना गज केसरी योग कई राशि के जातकों के लिए अच्छा साबित हो सकता है. मिथुन, कर्क, वृश्चिक, धनु और मकर राशि के जातकों को चंद्र ग्रहण पर गज केसरी योग का ज्यादा लाभ मिलेगा.

हालांकि ज्योतिष शास्त्र में ऐसी सलाह दी जाती है कि ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ काम करने से बचना चाहिए. ग्रहण के दौरान ज्यादा से ज्यादा मंत्रों का जाप करें. ग्रहण खत्म होने के बाद स्नान करें और पूरे घर में गंगा जल का छिड़काव करें. किसी भी तरह के हथियार, चाकू, कैंची को करीब न रखें. ज्योतिष के अनुसार, ग्रहण गर्भवती महिलाओं और उनके पेट में पल रहे भ्रूण को प्रभावित करता है इसलिए सलाह दी जाती है कि वह घर से बाहर न निकलें.