Sawan 2020: जानें सावन के महीने में किस शिवलिंग की पूजा से क्या मिलता है फल

भगवान शिव मात्र एक ऐसे देवता हैं जो प्रसन्न हो जाएं तो कुबेर का खजाना बरसा देते हैं और क्रोधित हो जाएं तो अपने तीसरे नेत्र से पूरे ब्रह्माण्ड को भस्म कर दें.

Sawan 2020: जानें सावन के महीने में किस शिवलिंग की पूजा से क्या मिलता है फल

नई दिल्ली: भगवान शिव के प्रिय मास श्रावण मास की शुरुआत हो चुकी है. श्रावण मास में भोले भंडारी अपने भक्तों पर विशेष कृपा बरसाते हैं. भगवान शिव त्रिपुरारी हैं, समस्त संसार के नियामक हैं. भगवती अन्नपूर्णा के पति और गणपति, कार्तिकेय के पिता हैं. शिव परिवार एक मात्र ऐसा परिवार है जो ऋद्धि-सिद्धि सहित पूजित हैं. भगवान शिव मात्र एक ऐसे देवता हैं जो प्रसन्न हो जाएं तो कुबेर का खजाना बरसा देते हैं और क्रोधित हो जाएं तो अपने तीसरे नेत्र से पूरे ब्रह्माण्ड को भस्म कर दें. 

शिव की कृपा पाने के लिए उनके भक्त श्रावण मास में विशेष रूप से शिवलिंग का अभिषेक और पूजन करते हैं. शिवलिंग को भगवान शंकर का निराकार स्वरूप माना जाता है. देश के विभिन्न शिव मंदिरों में शिवलिंग के पूजन के लिए भक्तगण पहुंचते हैं. द्वादश ज्योतिर्लिंग हो या फिर किसी नगर विशेष में स्थित शिव मंदिर, प्रत्येक शिवलिंग का अपना अलग-अलग महत्व है. आइए जानते हैं कि किस विशेष शिवलिंग की पूजा करने पर शिवभक्त को कौन सा आशीर्वाद प्राप्त होता है. 

पारद शिवलिंग- शिवपूजा के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले विभिन्न प्रकार में पारद शिवलिंग की सबसे ज्यादा पूजा होती है. पारद शिवलिंग के पूजन से शीघ्र ही प्रसन्न होकर भगवान भोले भंडारी अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. पारद शिवलिंग का पूजन सर्वकामप्रद, मोक्षप्रद और पापनाशक है. 

ये भी पढ़ें- राशिफल 7 जुलाई: इन 6 राशि वालों को आज धैर्य रखने की है जरूरत, होगा लाभ

सोने का शिवलिंग- सोने से बने शिवलिंग की पूजा करने से शिव साधक की समृद्धि होती है. 

चांदी का शिवलिंग- चांदी का शिवलिंग बनवाकर पूजा करने से शिव के भक्त के धन के भंडार में वृद्धि होती है. 

पीतल का शिवलिंग- पीतल के बने शिवलिंग को पूजा, रुद्राभिषेक आदि करने से साधक की दरिद्रता का नाश होता है. 

लोहे का शिवलिंग- लोहे के बने शिवलिंग का विशेष पूजन सिद्धि प्राप्ति के लिए किया जाता है. 

मोती का शिवलिंग- मोती से बने शिवलिंग का पूजन करने से शिव के साधक को स्त्री सुख दिलाता है. मोती के शिवलिंग के पूजन से साधक की पत्नी के सौभाग्य में वृद्धि होती है. 

स्फटिक का शिवलिंग- स्फटिक से बने शिवलिंग का पूजन करने से शिव साधक की दीर्घ प्रतीक्षित मनोकामना पूरी होती है.

फूल का शिवलिंग- यदि आपको पैतृक संपत्ति या किसी जमीन या मकान की कामना है तो श्रावण मास में फूलों से बने शिवलिंग की अवश्य पूजा करें. फूल से बने शिवलिंग की साधना भू-संपत्ति का आशीर्वाद दिलाती है. 

मिश्री का शिवलिंग- इस कोरोना काल में यदि आप किसी रोग-शोक को लेकर पीड़ित हैं तो आपके लिए मिश्री से बने शिवलिंग की पूजा अत्यंत लाभ देने वाली है. किसी भी प्रकार की बीमारी से मुक्ति पाने के लिए श्रावण मास में मिश्री से बने शिवलिंग की पूजा करनी चाहिए. 

कपूर का शिवलिंग- कपूर से बने शिवलिंग का विधि-विधान तरीके से पूजन और अभिषेक करने से साधक को भक्ति और मुक्ति का आशीर्वाद मिलता है.