खेल प्रशासन में होगा बड़ा बदलाव, गोपीचंद जैसे दिग्गजों की टीम सुझाएगी उपाय

Indian Sports: भारतीय खेल प्रशासन में सुधार के लिए खेल मंत्रालय ने नेशनल स्पोर्ट्स कोड 2017 के ड्राफ्ट की समीक्षा करने के लिए 13 सदस्यीय विशेषज समिति का गठन किया है.

खेल प्रशासन में होगा बड़ा बदलाव, गोपीचंद जैसे दिग्गजों की टीम सुझाएगी उपाय
पुलेला गोपीचंद भारतीय राष्ट्रीय बैडमिंटन टीम के प्रमुख कोच हैं. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: भारत के खेल मंत्रालय (Sports Minister of India) ने विवादित नेशनल स्पोर्ट्स कोड 2017 (National Sports Code 2017) के ड्राफ्ट की समीक्षा करने के लिए 13 सदस्यीय विशेषज समिति का गठन किया है. विशेषज्ञों की यह टीम उस समय के कोड और वर्तमान कोड दोनों की समीक्षा करने के साथ ही टीम भारतीय ओलंपकि महासंघ (IOA) और राष्ट्रीय खेल संघों (NFS) की उस पर टिप्पणियों का भी विश्लेषण करेगी. 

समिति में होंगे ये खिलाड़ी
इस समिति में भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचिंग भूटिया (Baichung Bhutia), नेशनल बैटमिंटन टीम के मुख कोच पुलेला गोपीचंद (Pullela Gopichand), ओलंपिक कांस्य पदक विजेदा गगन नारंग (Gagan Narang) और पूरर्व लंबी कूद खिलाड़ी अंजू बॉबी जॉर्ज (Anju Bobby George) को इसमें शामिल किया गया है. 

यह भी पढ़ें: भारत में क्रिकेट का क्रेज, फाइनल के लिए हनीमून कैंसिल कर देते हैं इतने प्रतिशत लोग

यह होगा समिति का खास काम
इस समिति को खेल संबंधी नियमों के लेकर सभी संबंधी संघों के लिए स्वीकार्य बनाने के लिए उपाय सुझाने होंगे. इस समिति की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज मुकुंदकम शर्मा करेंगे. वहीं इस समिति का संचालन खेल मंत्रालय के संयुक्त सचिव करेंगे. 

ये लोग करेंगे राष्ट्रीय खेल संघ का प्रतिनिधित्व
भारत के राष्ट्रीय खेल संघ (NFS) का प्रतिनिधित्व करने वाले बॉक्सिंग फेडेरेशन ऑफ इंडिया (BFI) के प्रमुख अजय सिंह, भारतीय खोखो संघ के सुधांशु मित्तल, एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की एदिली सुमारीवाला, और भारतीय भारत्तोलन संघ (WFI) के बीपी भाष्य शामिल होंगे. 

यह होगा खास प्रावधान
इस प्रारूप में साल 2011 के नियमों में बदलावों की अनुशंसा की जाएगी, जिसमें कुछ मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और सरकारी सेवकों को भारतीय ओलंपकि महासंघ IOA और राष्ट्रीय खेल संघ NFS  के पद हासिल करने की पाबंदी होगी. इसी बीच भारतीय ओलंपकि महासंघ IOA और राष्ट्रीय खेल संघ NFS  के पास अपने संविधान में प्रारूप के अनुसार बदलाव करने के लिए छह महीने का समय होगा.