मिलिए टीम इंडिया की टी20 कप्तान हरमनप्रीत कौर से, तूफानी बैटिंग के लिए हैं मशहूर

भारत की महिला टी20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर इस समय महिला टीम इंडिया की बेहतरीन बल्लेबाज हैं. 

मिलिए टीम इंडिया की टी20 कप्तान हरमनप्रीत कौर से, तूफानी बैटिंग के लिए हैं मशहूर
हरमनप्रीत कौर को उनकी तेज बल्लेबाजी के लिए जाना जाता है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आईसीसी महिला टी20 वर्ल्ड कप सोमवार को वेस्टइंडीज में शुरू हो रहा है. इस बार टीम इंडिया की कमान हरमनप्रीत कौर के हाथों में हैं. वह टीम इंडिया की खास बल्लेबाज हैं. हरमनप्रीत उस समय चर्चा में आईं थी, जब पिछले साल जुलाई में आईसीसी वुमन वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में 171 रनों की तूफानी पारी खेली थी. हरमनप्रीत के इस प्रदर्शन ने टीम इंडिया को उस वर्ल्डकप के न केवल फाइनल में पहुंचाया बल्कि पूरे देश में भारतीय महिला क्रिकेट के प्रति लोगों में एक नई जागृति ला दी. इसके बाद ही भारत में महिला क्रिकेट के प्रति नजरिया बदल गया. 

महिला वर्ल्ड कप के बाद टीम इंडिया का दक्षिण अफ्रीका दौरा हुआ जिसमें टीम इंडिया ने बढ़िया प्रदर्शन किया. यहां हरमनप्रीत टी20 टीम की कप्तान थीं. पांच मैचों की यह सीरीज टीम इंडिया ने 3-1 से जीती थी. इसके बाद भारत में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के साथ हुई त्रिकोणीय टी20 सीरीज में भारत का प्रदर्शन निराशाजनक रहा. वहीं ऑस्ट्रेलिया के साथ हुई वनडे सीरीज भी निराशाजनक रही, लेकिन इंग्लैंड के साथ वनडे सीरीज में तीन वनडे मैचों की सीरीज भारत ने 2-1 से जीती. 

ऐसे हुई शुरुआत
8 मार्च 1989 को पंजाब के मोगा में जन्मीं हरमनप्रीत बचपन में अक्सर अपने पिता के साथ गुरु नानक स्टेडियम जाया करती थीं. यह स्टेडियम उनके घर के सामने ही पड़ता था. वहां वह लड़कों के साथ क्रिकेट खेलती. इस दौरान सरकारी स्कूल टीम सदस्य हॉकी और एथलेटिक्स को भी तवज्जो देते थे. ऐसे में क्रिकेट की दुनिया में एक लड़की का पहचान बनाना काफी मुश्किल था. 

पहली बार ऐसे सुर्खियों में आई हरमनप्रीत कौर
2009 की बात है, जब हरमनप्रीत कौर पहली बार सुर्खियों में आई. भारतीय टी 20 टीम में चुने जाने से पूर्व उसने चैलेंजर ट्रॉफी में बल्ले से शानदार प्रदर्शन किया. हरमनप्रीत ने टूर्नामेंट की दो पारियों में केवल 8 रन बनाए लेकिन 2013 में इंग्लैंड के खिलाफ बनाए उनके शतक ने टीम में उनकी जगह बचाए रखी.

महिला वर्ल्डकप के सेमीफाइनल के 171 रन
महिला वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में आस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की जीत में हरमनप्रीत की पारी यादगार रही.  भारत ने  42 ओवरों के कर दिए गए मैच में चार विकेट पर 281 रन बनाए थे जिसमें हरमनप्रीत ने तूफानी 171 रनों की पारी खेली  भारतीय महिला वनडे की संभवत: सर्वश्रेष्ठ पारी खेली. कौर ने 115 गेंदों पर 20 चौकों और सात छक्कों की मदद से नाबाद 171 रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया की टीम इसके जवाब में 40.1 ओवर में 245 रन पर आउट हो गई और टीम इंडिया ने फाइनल में जगह बना ली. 

ऑस्ट्रेलिया में 110 मीटर लंबा छक्का मारा था
 ऑस्ट्रेलिया में अपना पहला वर्ल्ड कप खेलते हुए हरमन प्रीत 110 मीटर लंबा छक्का मारा था. बाद में हरमन ने बताया कि मैं सिर्फ यह देखना चाहती थी कि क्या इसके लिए अतिरिक्त वेट की जरूरत होती है. 

करियर के शुरू में निचले क्रम पर बल्लेबाजी की
पोर्ट एडिलेड क्रिकेट क्लब पर हैड कोच यादवेंद्र का कहना है, ''अपने करियर की शुरुआत में हरमन निचले क्रम में बल्लेबाजी करती थीं लेकिन मुंबई में 2013 में इंग्लैंड के खिलाफ बनाए उनके शतक ने उनका आत्मविश्वास बढ़ाया और उन्होंने अपनी जगह तय की.'' 

पिता के मुताबिक कई बेटों पर भारी हरमन
मैच के बाद हरमन के पिता हरमंदर भुल्लर ने कहा कि, मेरी बेटी कई बेटों पर भारी है. हरमन के पिता ने कहा कि वे अपनी बेटी को और आगे बढ़ाना चाहते हैं और वे चाहते हैं कि उनकी बेटी विश्वकप जीते और देश का नाम रोशन करे. उन्होंने कहा कि उनकी बेटी ने उनके सपने को पूरा किया और मोगा जैसे छोटे से शहर को दुनिया के नक्शे पर ले आई. 

बिग बैश लीग में पहली भारतीय महिला
पिछले साल हरमन प्रीत वुमंस बिग बैश लीग में खेलने वाली पहली भारतीय बनीं. उन्हें लेकर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर और आक्रामक बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने ट्वीट भी किया था और हरमन को आक्रामक बल्लेबाजी के लिए प्रेरित किया था. गिलक्रिस्ट ने उनसे कहा था कि वे ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ियों के वीडियो देखें ताकि उनकी गेंदबाजी को बेहतर ढंग से समझ सकें. हरमन प्रीत को आज भी वह तारीख और समय याद है जब गिलक्रिस्ट ने यह ट्वीट किया था. हरमन के लिए यह ट्वीट किसी ट्रॉफी जीतने से कम नहीं है. हरमन अपने विकेटकीपिंग के स्किल को भी गंभीरता से लेती हैं. 

टीम को मैगी बनाकर खिलाती हैं हरमन
हरमन ने स्कूल में पहली ट्रॉफी एथलेटिक्स में जीती थी, उस दिन वह उसी तरह भागी थी जैसे उसने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बल्लेबाजी की है. लेकिन हरमन अपने बैट और पैड्स को हमेशा साफ रखती है. हरमन की मां हंसते हुए बताती हैं, अब तो हरमन ने मैगी बनाना भी सीख लिया है, कभी कभी वह जब कैंप में होती है तो अपनी टीम मैट्स को मैगी बनाकर खिलाती हैं. 

वनडे रिकॉर्ड
हरमनप्रीत का वनडे रिकॉर्ड शानदार है, अब तक 90 वनडे मैचों की 76 पारियों में हरमन ने 68.83 के स्ट्राइक रेट और 34.68 के औसत से किुल 2220 रन बनाए हैं जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ 171 रन है. हरमन के नाम 3 वनडे शतक और 11 अर्द्धशतक है. गेंदाबाजी में हरमप्रीत ने 51 पारियों में 46.90 के औसल और 5.33 की इकोनॉमी से 22 विकेट लिए हैं.

टी20 में भी धमाल
टी20 में हरमनप्रीत ने 88 मैचों की 77 पारियों में 1703 रन बनाए हैं जिसमें 6 अर्द्धशतक शामिल है. इसके अलावा इन मैचों की 41 पारियों में गेंदबाजी कर वे 24 विकेट भी ले चुकी हैं.उन्होंने टी20 में 34 कैच भी लिए हैं.