IND vs BAN: संगकारा ने पंत को दी सलाह, इस बात का रखना होगा ध्यान

IND vs BAN: संगकारा ने पंत को दी सलाह, इस बात का रखना होगा ध्यान

India vs Bangladesh: ऋषभ पंत लगातार टी20 मैचों में गलतियां कर रहे हैं. इस पर कुमार संगकारा ने उन्हें एक अहम सलाह दी है. 

IND vs BAN: संगकारा ने पंत को दी सलाह, इस बात का रखना होगा ध्यान

नई दिल्ली: भारत और बांग्लादेश (India vs Bangladesh) के बीच हुए राजकोट टी20 में ऋषभ पंत विकेटकीपिंग करते हुए एक बड़ी गलती पर सोशल मीडिया तक में ट्रोल हो गए. वे इस मैच में लिटन दास को चहल की गेंद पर स्टंप कर चुके थे, लेकिन जब थर्ड अंपयार ने देखा कि पंत ने गेंद विकेट के आगे  से पकड़ ली है तो इस पर लिटन दास को जीवन दान मिल गया. पंत को सोशल मीडिया पर इस गलती के लिए खूब ट्रोल किया गया. इस घटना पर श्रीलंका के पू्र्व विकेटकीपर और कप्तान ने पंत को एक खास सलाह दी है. 

क्षमताओं पर देना होगा ध्यान
संगकारा का मानना है पंत को अपनी विकेटकीपिंग क्षमताओं पर ध्यान देना होगा, इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पंत को अपनी बैटिंग की कमजोरियों से भी उबरना होगा. यह तब और ज्यादा अहम है जब टीम इंडिया अगले साल टी20 विश्व कप खेलने की तैयारी कर रही है. पंत विकेटकीपिंग के साथ ही टी20 बैटिंग में भी लगातार गलतियां कर रहे हैं. 

यह भी पढ़ें: IND vs BAN: तस्वीरों में देखें, कैसा जीता रोहित की टीम इंडिया ने राजकोट टी20

पंत के लिए जरूरी है कि वे समझें
संगकारा ने एक टीवी शो में कहा, यदि आप विश्व कप को देख रेह हैं को पंत के लिए जरूरी है कि वे अपनी भूमिका को समझें कि वे अपने कप्तान को सही जानकारी कैसे दे सकते हैं. बतौर विकेटकीपर यह ज्यादा मायने रखता है कि आप विकेट के पीछे सफाई से काम करें जो उन्हें आत्मविश्वास देगा. इससे वे अपने कप्तान को रीव्यू करने में अच्छे से मदद कर सकेंगे."

आलोचकों के निशाने पर हैं पंत
जब से पंत सीमित ओवरों में धोनी की जगह आए हैं, कई लोग उनकी आलोचना कर रहे हैं. वे बैटिंग, विकेटकीपिंग और यहां तक कि रीव्यू लेने में भी आलोचकों के निशाने पर हैं. बांग्लादेश के खिालफ चर रही सीरीज के पहले टी20 मैच में पंत की रीव्यू में रोहित को दी सलाह पर आलोचना हुई थी. इस मामले में संगाकारा ने कहा कि पंत को चीजों को सरलता से लेना होगा न कि किसी दबाव को तौर पर. 

कमजोरी समझनी होंगी
संगकारा ने कहा, "पंत को चीजों को सरल रखना होगा और अपनी कमजोरी समझनी होगी. एक बार इन मामलों में काम करने लगें तो उन्हें केवल योजना बनानी होगी. क्योंकि फिलहाल जरूरी है कि वे चीजों को सरल रखें और दबाव न लें. यह भी जरूरी है कि कोई उनसे बल्लेबाजी के बारे में बात करे और फ्री होकर खेलने में मदद करे."

Trending news