close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsWI: अय्यर ने जीता कप्तान कोहली का दिल, पंत से छीन सकते हैं नंबर-4 की पोजीशन

श्रेयस अय्यर का इंटरनेशनल करियर 8 वनडे और 6 टी20 मैचों का है. वे वनडे में 3 फिफ्टी लगा चुके हैं. 

INDvsWI: अय्यर ने जीता कप्तान कोहली का दिल, पंत से छीन सकते हैं नंबर-4 की पोजीशन
श्रेयस अय्यर टीम इंडिया के लिए 18 महीने बाद मैदान पर उतरे और अर्धशतक जमाया. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: 24 साल के श्रेयस अय्यर भारत के उन बल्लेबाजों में गिने जा रहे हैं, जो बड़े शॉट खेल सकते हैं और जरूरत पड़ने पर रुककर एक-एक, दो-दो रनों से भी पारी बढ़ा सकते हैं. उनका यही खेल रविवार (11 अगस्त) को वेस्टइंडीज के खिलाफ (India vs West Indies) देखने को मिला. वे जब बैटिंग करने के लिए मैदान पर उतरे तो भारतीय टीम (Team India) कमोबेश दबाव में थी. टीम के तीन विकेट गिर चुके थे और स्कोर बोर्ड पर अभी 101 रन ही टंगे थे. कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) क्रीज पर थे और उन्हें एक जोड़ीदार की दरकार थी. श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने अपने कप्तान का बखूबी साथ दिया और उन्हें अपनी तारीफ करने के लिए मजबूर भी किया. उन्होंने अपनी इस पारी से यह भी जता दिया कि वे नंबर-4 की उस तलाश को पूरी कर सकते हैं, जो पिछले तीन-चार साल से चल रही है. 

श्रेयस अय्यर गुरुवार को अपने करियर का आठवां वनडे मुकाबला खेल रहे थे. उन्होंने इस मैच में 68 गेंद पर 71 रन बनाए. इस पारी में पांच चौके व एक छक्का शामिल था. यानी, उन्होंने 71 में से 26 रन बाउंड्री लगाकर बनाए. बाकी रन एक-दो रन लेकर जोड़े. मुंबई के इस बल्लेबाज ने अपने कप्तान कोहली के साथ चौथे विकेट के लिए 125 रन की साझेदारी की. यह साझेदारी विराट कोहली के आउट होने से टूटी. 

यह भी पढ़ें: कप्तानी मिलने के बाद ‘वनडे के ब्रैडमैन’ हो गए हैं कोहली, हर चौथी पारी में लगाते हैं शतक

नंबर-4 पर इसलिए फिट हैं अय्यर
क्रिकेट पर नजर रखने वाले खेलप्रेमी जानते हैं कि श्रेयस अय्यर में वे सभी खासियत हैं, जो नंबर-4 के बल्लेबाज के लिए चाहिए. वे क्रीज पर रुककर खेल सकते हैं और लंबे-लंबे शॉट भी खेल सकते हैं. सबसे बड़ी बात यह कि वे टीम मैनेजमेंट द्वारा दी गई भूमिका के मुताबिक अपना खेल ढाल सकते हैं. श्रेयस ने खुद बताया, ‘जब मैं बैटिंग करने आया तो विराट ने मुझसे कहा कि तुम्हें कम से कम 45 ओवर तक टिकना है. इसलिए मैंने ज्यादा जोखिम लिए बिना अपनी पारी आगे बढ़ाई.’ 

नंबर-4 पर पंत से इसलिए बेहतर
टीम मैनेजमेंट विश्व कप के समय से ही नंबर-4 के लिए ऋषभ पंत (Rishabh Pant) पर भरोसा जता रहा है. दूसरी ओर, पंत की बैटिंग में नंबर-4 के लिए जरूरी गंभीरता बिलकुल भी नहीं दिख रही है. उन्होंने बार-बार एक जैसे शॉट खेलकर विकेट गंवाए हैं. वे चौथे नंबर की बजाय पांचवें या इससे भी ज्यादा छठे नंबर के बल्लेबाज की तरह खेलते हैं. जबकि, अय्यर अपनी पारी को एक-दो रन से संवारते हैं. वे आक्रामक बल्लेबाज हैं, लेकिन कभी भी गैरजरूरी जोखिम लेते नहीं दिखते. 

यह भी पढ़ें: क्रिस गेल वेस्टइंडीज के लिए सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी बने, लारा का रिकॉर्ड तोड़ा

बड़ी पारी खेलते हैं अय्यर
श्रेयस अय्यर का वनडे करियर अभी सिर्फ आठ मैचों का है. लेकिन आप उनके इस छोटे से करियर से भी एक ट्रेंड निकाल सकते हैं. अय्यर ने अपने करियर के पहले तीन मैच तीसरे नंबर पर खेले और इनमें से दो में अर्धशतक लगाए. इसके बाद उन्होंने अगली दो पारियों में ओपनिंग की और क्रमश: 18 और 30 रन बनाए. श्रेयस को अगला मौका पांचवें नंबर पर मिला और उन्होंने 71 रन जड़कर अपने इरादे जता दिए. कुल मिलाकर श्रेयस ने आठ में से छह मैचों में बैटिंग की है. उन्होंने इन मैचों में क्रमश: 9, 88, 65, 18, 30, 71 रन बनाए हैं. 

18 महीने बाद मिला मौका 
श्रेयस अय्यर टीम इंडिया के लिए पहली बार 2017 में खेले. उन्होंने इस साल भारत के लिए तीन वनडे मैच खेले. इसके बाद उन्हें 2018 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दो मैचों में खेलने मौका मिला. फिर उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया. उन्हें अगला मौका अब, यानी करीब 18 महीने बाद मिला है. श्रेयस ने खुद पर वापसी का दबाव नहीं आने दिया और 71 रन की पारी खेली. मैच से एक दिन पहले उन्होंने कहा भी था, ‘मैं नंबर के बारे में ज्यादा नहीं सोचता. मेरा एक ही लक्ष्य होता है कि टीम मैनेजमेंट जिस नंबर पर कहे, उस पर अच्छा खेलो.’

यह भी पढ़ें: INDvsWI: विराट कोहली ने बताया- श्रेयस अय्यर ने कैसे आसान बनाया उनका खेल

लीडरशिप में भी आगे हैं श्रेयस 
श्रेयस अय्यर यूं तो पिछले तीन-चार साल से चर्चा बटोर रहे हैं. लेकिन पिछले साल जब दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) ने उन्हें कप्तान बनाया तो क्रिकेटप्रेमी हैरान रह गए. वे आईपीएल में सबसे कम उम्र के कप्तान बने. दिल्ली की इसी टीम ने इस साल प्लेऑफ में जगह बनाई. हालांकि, वह खिताब नहीं जीत सकी, लेकिन अय्यर ने अपनी कप्तानी से यह साबित कर दिया कि टीम मैनेजमेंट ने उन पर गलत दांव नहीं खेला था. 

विराट ने अय्यर को दिया श्रेय
विराट ने इस मैच में 120 रन बनाए. उन्होंने अपनी इस पारी का श्रेय श्रेयस अय्यर को भी दिया. उन्होंने कहा, ‘श्रेयस का आत्मविश्वास अच्छा है. वह सही एटीट्यूड के साथ खेलता है. उसे पता है कि कब सिंगल-डबल खेलने हैं और कब बड़े शॉट खेलने हैं. उसने अच्छी बल्लेबाजी की और इससे मेरा काम आसान हो गया.’ श्रेयस अय्यर ने इस मैच में 68 गेंदों पर 71 रन बनाए. कोहली ने इस मैच में 125 गेंद पर 120 रन की पारी खेली.