close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जन्मदिन नहीं इस वजह से सचिन की जिंदगी में खास है '24' तारीख, जानिए कौन से हैं वे अहम पल

सचिन उन चंद महान बल्लेबाजों में से एक रहे हैं जिन्हें देखने के लिए विरोधी टीम के दर्शक मैदान पर खिंचे चले आते थे. 

जन्मदिन नहीं इस वजह से सचिन की जिंदगी में खास है '24' तारीख, जानिए कौन से हैं वे अहम पल
उन्होंने इस दिन अपने बचपन के दोस्त विनोद कांबली के साथ हैरिस शील्ड के सेमीफाइनल में नाबाद 664 रन की चमत्कारिक साझेदारी की थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट से अलविदा लिए करीब 6 साल हो चुके हैं, लेकिन आज भी उनकी शानदार पारियां लोगों के जेहन में ताजा हैं. सचिन 46वां जन्मदिन मना रहे हैं और हमारी तरह पूरी दुनिया उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं दे रही है. क्रिकेट में लगभग 34,347 रन बनाने वाले सचिन का जन्म मायानगरी मुंबई में 24 अप्रैल, 1973 को एक मराठी परिवार में हुआ था. शायद ही दुनिया में कोई ही ऐसा ही व्यक्ति हो जो क्रिकेट की थोड़ी सी भी बात जानता हो और वह सचिन का नाम नहीं जानता हो. सचिन उन चंद महान बल्लेबाजों में से एक रहे हैं जिन्हें देखने के लिए विरोधी टीम के दर्शक मैदान पर खिंचे चले आते थे. 

क्रिकेट के भगवान ‘सचिन’ हुए 46 साल के, फैंस ने उनके खास क्रिकेट लम्हों को किया याद

24 तारीख को जन्मे सचिन का इस तारीख से कुछ खास ही कनेक्शन है. बता दें कि सचिन तेंदुलकर की शादी  24 मई 1995 को अंजलि से हुई थी. सचिन और अंजलि की पहली संतान उनके बेटे का जन्म भी 24 तारीख को ही हुआ था. अर्जुन तेंदुलकर का जन्म 24 सितंबर 1999 के हुआ था.

IPL-12: विराट के साथी क्रिकेटर ने कहा- जीत रही टीम को बीच में छोड़कर जाना शर्मनाक

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और 24 तारीख से एक अजब ही तरह का रिश्ता है. यह वह दिन है, जिससे न सिर्फ उनके जीवन की शुरुआत हुई , बल्कि इसी तारीख को उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में कई मुकाम भी हासिल किए थे.

सचिन का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर 1989-2013 यानी 24 साल का रहा. 29 साल पहले आज ही के दिन यानि 24 तारीख को सचिन ने 664* रन की चमत्कारिक साझेदारी भी की थी. 24 फरवरी 1988 को सचिन ने क्रिकेट जगत की सुर्खियों में अपना नाम शामिल कर लिया था.

विनोद कांबली के साथ चमत्कारिक साझेदारी 

उन्होंने इस दिन अपने बचपन के दोस्त विनोद कांबली के साथ हैरिस शील्ड के सेमीफाइनल में नाबाद 664 रन की चमत्कारिक साझेदारी की थी. उस भागीदारी के दौरान सचिन 326 और विनोद कांबली 349 रन पर नाबाद रहे थे. मुंबई के आजाद मैदान पर शारदाश्रम विद्यामंदिर टीम के स्कूली खिलाड़ियों की यह जादुई बल्लेबाजी किसी करिश्मा से कम नहीं थी, जिसे 19 साल बाद हैदराबाद में मनोज कुमार और मो. शैबाज ने 721 रन की साझेदारी कर तोड़ दिया. 

सबसे कम उम्र में कर दिया था ये कारनामा

24 नबंबर 1989 ते दिन ही सचिन ने 16 साल की उम्र में अपने टेस्ट करियर की पहली हाफ सेंचुरी (59 रन) बनाई थी. पाकिस्तान के खिलाफ अपने पहले दौरे में फैसलाबाद में उन्होंने सबसे कम उम्र में यह कारनामा किया था.

जमाया था ऐतिहासिक दोहरा शतक

24 फरवरी 2010 यानि आज से सात साल पहले सचिन ने ग्वालियर के कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम में वह ऐतिहासिक पारी खेली, जिसके बारे में किसी ने सोचा तक नहीं था. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 200 रन की पारी खेल कर वनडे क्रिकेट के 39 साल के इतिहास की पहली डबल सेंचुरी लगा दी. सचिन ने 147 गेंदों पर 25 चौके और 3 छक्के की मदद से नाबाद 200 रन बनाए थे.