close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अजलन शाह कप से सीजन का शानदार आगाज करना चाहेगी भारतीय हॉकी टीम

भारतीय टीम इसके बाद 24 मार्च को कोरिया और 26 मार्च को एशियाई खेलों की सिल्वर मेडल विजेता मलेशिया से भिडे़गी.

अजलन शाह कप से सीजन का शानदार आगाज करना चाहेगी भारतीय हॉकी टीम
भारत 23 मार्च को जापान के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगा. (फोटो साभार: Twitter/Dept of Sports MYAS)

बेंगलुरु: भारतीय पुरुष हॉकी के कप्तान मनप्रीत सिंह को लगता है कि टीम ने पिछले साल विश्व कप की हार से सबक लिया है और मलेशिया के इपोह में अजलान शाह कप से सत्र की सकारात्मक शुरुआत के लिए तैयार है. इपोह रवाना होने से पहले भारतीय कप्तान ने रविवार की रात को मीडिया से कहा कि इपोह की गर्मी और उमस भरे मौसम से सामंजस्य बैठाने के लिए टीम ने यहां राष्ट्रीय शिविर में दोपहर को अभ्यास किया.

मनप्रीत ने कहा, ‘‘ हम ओडिशा में खेले जाने वाले एफआईएच पुरुष सीरीज के फाइनल्स 2019 से पहले सकारात्मक शुरुआत करने के लिए काफी उत्सुक हैं. हमने शिविर में कड़ी मेहनत की है. हम वहां (इपोह) की मौसम से सामंजस्य बैठाने के लिए अक्सर दोपहर में अभ्यास करते थे.’’

भारत 23 मार्च को जापान के खिलाफ अपने अभियान की शुरुआत करेगा और इस टीम के खिलाफ पिछले साल एशियाई चैंपियन्स ट्रॉफी में मिली जीत की लय को जारी रखना चाहेगा.

मनप्रीत ने कहा, ‘‘ हम शुरुआती मैच में एशियाई खेलों के चैंपियन जापान से खेलेंगे और उन्हें हराने के लिए टीम को पूरी मेहनत करनी होगी. हमारी टीम में कई युवा खिलाड़ी हैं. यह उनके और हमारे लिए एक इकाई के रूप में कड़ी परीक्षा होगी.’’

भारतीय टीम इसके बाद 24 मार्च को कोरिया और 26 मार्च को एशियाई खेलों की रजत पदक विजेता मलेशिया से भिडे़गी.

मनप्रीत ने कहा, ‘‘ हम टूर्नामेंट में सर्वोच्च रैंकिंग वाली टीम हैं लेकिन इससे हम खुद आगे नहीं बढ़ सकते. सीधे फाइनल के बारे में सोचने की जगह हम एक बार में एक मैच के बारे में सोचेंगे क्योंकि हमारे लिए कुछ मुकाबले कठिन होंगे.’’

मनप्रीत का मानना है कि ‘2018 ओडिशा विश्व कप’ में टीम को क्वार्टर फाइनल में मिली हार से खिलाड़ियों ने काफी सबक लिया है और अब वह दबाव की स्थिति को बेहतर तरीके से संभाल सकते है. उन्होंने कहा, ‘‘ विश्व कप हम सभी के लिए सीख देने वाला रहा. हम क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं जा पाए थे लेकिन मेरा मानना है कि दुनिया ने एक युवा टीम की अपार संभावनाओं को देखा जिसने मैदान में पूरा जोर लगाया था.’’