Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'लंबे गहरे सांस भरने और छोड़ने से शरीर के अंदर के सभी तंत्र ऊर्जावान हो जाते हैं.'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'जिसकी इम्युनिटी हाई होगी, उसे कोई रोग नहीं होगा'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

श्रीहरिकोटा

इसरो ने 48 घंटे के लिए टाली काटरेसैट-3 की लॉन्चिंग, अब इस दिन होगा लॉन्च

 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने गुरुवार को कहा कि उसने काटरेसैट-3 सैटेलाइट और 13 वाणिज्यिक नैनो सैटेलाइटों को पीएसएलवी रॉकेट से अंतरिक्ष में लॉन्च का कार्यक्रम 28 घंटे यानी कि दो दिन आगे बढ़ा दिया है. अब ये सैटेलाइट 27 नवंबर को लॉन्च किए जाएंगे. इसरो के अनुसार, काटरेसैट-3 को ले जाने वाले पीएसएलवी-एक्सएल वैरियंट को अब 27 नवंबर को सुबह 9.28 बजे लॉन्च किया जाएगा. 

Nov 21, 2019, 02:58 PM IST

आखिर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर ही क्‍यों उतरेगा चंद्रयान-2? यहां जानें सारी अहम बातें

मिशन चंद्रयान-2 के तहत लैंडर विक्रम और रोवर 48 दिन बाद चांद पर उतरेंगे. यह चांद के दक्षिणी ध्रुव पर विभिन्‍न शोध करेंगे. 

Jul 22, 2019, 04:14 PM IST

पृथ्‍वी की कक्षा पर स्‍थापित हुआ चंद्रयान-2, जानें कितनी कीमत का है यान और बाहुबली रॉकेट

इसरो ने इसे 44 मीटर लंबे और लगभग 640 टन वजनी जियोसिंक्रोनाइज सैटेलाइट लांच व्हीकल- मार्क तृतीय (जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1) से लॉन्‍च किया है.

Jul 22, 2019, 03:46 PM IST

ISRO चीफ बोले, 'यह भारत के लिए चांद की ऐतिहासिक यात्रा की शुरुआत है'

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आज दोपहर 2:43 बजे चांद पर शोध के लिए चंद्रयान-2 लॉन्‍च कर दिया है.

Jul 22, 2019, 03:10 PM IST

ISRO का 'बाहुबली रॉकेट' अंतरिक्ष में लेकर गया चंद्रयान-2, जानें क्‍यों पड़ा इसका नाम

इसरो ने 44 मीटर लंबे और लगभग 640 टन वजनी जियोसिंक्रोनाइज सैटेलाइट लांच व्हीकल- मार्क तृतीय (जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1) से इसे लॉन्‍च किया है.

Jul 22, 2019, 02:47 PM IST

RISAT-2B: भारत ने अंतरिक्ष में छोड़ा ताकतवर रडार इमेजिंग निगरानी सैटलाइट, आतंकी नहीं कर पाएंगे घुसपैठ

RISAT-2B सैटेलाइट का इस्तेमाल किसी भी तरह के मौसम में टोही गतिविधियों, रणनीतिक निगरानियों और आपदा प्रबंधन में आसानी से किया जा सकेगा. रीसैट-2बी सैटेलाइट के साथ इसरो ने आकाशगंगा में सिंथेटिक अपर्चर रडार (सार) इमेजर भेजा गया है.

मई 22, 2019, 07:57 AM IST

अंतरिक्ष में भारत ने आज रचा एक और नया कीर्तिमान

आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से भारत अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानि इसरो ने PSLV-C 45 रॉकेट के जरिए एक साथ 29 सैटैलाइट को लॉन्च किया. जिसमें भारत ने एमीसैट सैटेलाइट को लॉन्च किया

Apr 1, 2019, 04:42 PM IST

संचार उपग्रह GSAT-7A के प्रक्षेपण के लिए उल्टी गिनती शुरू

भारत के भूस्थैतिक संचार उपग्रह जीसैट-7ए को श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपण यान जीएसएलवी-एफ11 से प्रक्षेपित करने के लिए 26 घंटे की उल्टी गिनती मंगलवार को शुरू हो गई. इसरो ने यह जानकारी दी है. 

Dec 18, 2018, 11:38 PM IST

ISRO को मिली बड़ी कामयाबी, देश का सबसे ताकतवर इमेजिंग सैटेलाइट किया लॉन्च

रॉकेट ने 28 घंटे की उलटी गिनती समाप्त होने के बाद श्रीहरिकोटा के पहले लांच पैड से सुबह 9:57 बजे शानदार तरीके से उड़ान भरी.

Nov 29, 2018, 02:39 PM IST

VIDEO: आज इतिहास रचने को तैयार है ISRO, यहां देखिए PSLV-C42 की लाइव लॉचिंग

श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से पीएसएसवी-सी42 के लांच का काउंटडाउन शुरू हो गया है. भारत के लिए ये ऐतिहासिक अवसर इसलिए है क्योंकि ये इसरो का पहला पूरी तरह कमर्शियल लांच है.

Sep 16, 2018, 03:44 PM IST

भारत का पहला छोटा रॉकेट अगले साल उड़ेगा, जानें क्या होगी क्षमता

छोटे रॉकेट को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित वर्तमान रॉकेटपोर्ट से लॉन्च किया जाएगा. 

Sep 15, 2018, 06:18 PM IST

ISRO के कार्टोसैट-2 ने आसमान से भेजी तस्वीर, खिल उठे लोगों के चेहरे

इसरो ने हाल ही में प्रक्षेपित किए गए मौसम संबंधी कार्टोसैट-2 श्रृंखला के उपग्रह द्वारा ली गई पहली तस्वीर जारी की है.

Jan 17, 2018, 03:35 PM IST

ISRO के इतिहास रचने में रामपुर के इस वैज्ञानिक का बड़ा हाथ, पूरा देश कर रहा सलाम

 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार को एक और इतिहास रचते हुए अपने 100वें उपग्रह का अंतरिक्ष में प्रक्षेपण किया. 

Jan 17, 2018, 08:03 AM IST

ISRO ने रचा इतिहास, 100वां सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजा

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार को एक और इतिहास रचते हुए अपने 100वें उपग्रह का अंतरिक्ष में प्रक्षेपण किया. चेन्नई से 110 किलोमीटर दूर स्थित श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से इस 100वें उपग्रह के साथ 30 अन्य उपग्रह भी अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किए गए.

Jan 12, 2018, 03:59 PM IST

ISRO ने रचा इतिहास, 28 विदेशी उपग्रहों के साथ अपना 100वां सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजा

अपने इस 42वें मिशन के लिए इसरो ने भरोसेमंद कार्योपयोगी ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी40 को भेजा, जो कार्टोसेट-2 श्रृंखला के उपग्रह और 30 सह-यात्रियों (जिनका कुल वजन करीब 613 किलोग्राम है) को लेकर सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर उड़ान भरी.

Jan 12, 2018, 08:18 AM IST

अंतरिक्ष में नई उड़ान भरने के लिए तैयार भारत, ISRO एक साथ लॉन्च करेगा 31 सैटेलाइट

इस मिशन में काटरेसैट-2 के अलावा भारत का एक नैनो उपग्रह और एक माइक्रो उपग्रह भी लॉन्च किया जाएगा.

Jan 8, 2018, 10:48 PM IST

इसरो अंतरिक्ष में एक और नई कामयाबी की उड़ान के लिए तैयार, सबसे भारी रॉकेट से छोड़ेगा जीसैट-19 संचार उपग्रह

 भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो सोमवार (पांच जून) को अपने सबसे भारी रॉकेट के जरिए संचार उपग्रह जीसैट-19 को लॉन्च करेगा. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, जीएसएलवी मार्क3 (जीएसएलवी-एमके3) रॉकेट को पांच जून को शाम 5.28 बजे छोड़ा जाएगा. यह रॉकेट भौगोलिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) तक चार टन वजन ढोने में सक्षम है.

Jun 5, 2017, 09:40 AM IST

अंतरिक्ष में भारत की एक और उड़ान, इसरो 5 जून को छोड़ेगा जीसैट-19 संचार सैटेलाइट

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो ने मंगलवार (30 मई) को कहा कि पांच जून को अपने सबसे भारी रॉकेट के जरिए संचार उपग्रह जीसैट-19 को लॉन्च किया जाएगा. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के मुताबिक, जीएसएलवी मार्क3 (जीएसएलवी-एमके3) रॉकेट को पांच जून को शाम 5.28 बजे छोड़ा जाएगा. यह रॉकेट भौगोलिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) तक चार टन वजन ढोने में सक्षम है. रॉकेट जीसैट-19 उपग्रह को ले जाएगा, जिसका वजन 3,136 किलोग्राम है. इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से छोड़ा जाएगा.

मई 31, 2017, 12:40 AM IST

Zee जानकारी: कूटनीति की कक्षा में स्थापित हुआ भारत का सैटेलाइट

SAARC देशों के लिए एक साझा Satellite लॉन्च करने का Idea सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ही दिया था। वर्ष 2014 में जब भारत के PSLV रॉकेट ने 4 देशों के 5 Satellites को अंतरिक्ष में स्थापित किया था तब प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि वैज्ञानिकों को एक ऐसा Satellite बनाना चाहिए, जिससे SAARC में शामिल सभी देशों को फायदा पहुंचे और आज 3 वर्षों के बाद प्रध

मई 6, 2017, 12:35 AM IST