close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

agar malwa 0

MP: राह चलते मनचलों या घरेलू हिंसा से हैं परेशान तो 'बेटी की पेटी' में मिलेगा हर समस्या का समाधान

 इन पेटियों में कोई भी ऐसी शोषित और पीड़ित बेटियां जो अपनी परेशानियां किसी को बताने में हिचकिचाती हैं, वे इन पेटियों में लिखकर अपनी शिकायत या परेशानी या अपने सुझाव डाल सकेंगी. 

Oct 11, 2019, 11:16 AM IST

मध्य प्रदेशः लगातार बारिश से दमोह में एक साथ उजड़े कई आशियाने, आगर-मालवा में भी बिगड़े हालात

इलाके की अधिकांश दुकानों पर भी पानी ने अपना कब्जा जमा लिया और दुकानों में रखा सामान भी तबाह हो गया. शहर की सड़के तालाब बन गई हैं, जिस वजह से लोगों को निकलने तक में दिक्कत जा रही है. 

Sep 14, 2019, 04:43 PM IST

आगर-मालवा में शो-पीस बने हैंडपंप और कुएं, एक ही गड्ढे का पानी पी रहे जानवर और ग्रामीण

सूखी पड़ी नदी और मुंह चिढ़ाते कुएं, प्यासे कंठों को और अधिक मजबूर कर जाते हैं. किसी समय में मालवा क्षेत्र में कल-कल नीर बहता हुआ दिखाई देता था, लेकिन निरंतर अनदेखी के चलते अब एक-एक बूंद के लिए क्षेत्रवासियों को तरसते हुए देखा जा रहा है. 

Jun 8, 2019, 04:17 PM IST

मध्य प्रदेशः गौवंश की अवैध तस्करी के मामले में 2 पर लगा रासुका

इस कारोबार में शामिल दो लोग महबूब खान और रोडमल मालवीय पर बुधवार को रासुका की कार्रवाई की गई और दोनों को गुरुवार को गिरफ्तार कर उज्जैन की जेल भेज दिया गया.

Feb 9, 2019, 02:49 PM IST

मप्रः कुंडालिया डैम का बढ़ा जलस्तर, डूब की कगार पर खेत और मकान

 बांध क्षेत्र में पहली बार रोके गए पानी का लेवल बढ़ जाने से नलखेड़ा तहसील क्षेत्र के किसानों के खेतों और घरों में में बांध का पानी भरने लग गया है.

Jul 26, 2018, 10:01 AM IST

VIDEO: कीचड़ वाला पानी पीने को मजबूर आगर-मालवा के लोग

मध्यप्रदेश के आगर-मालवा में पानी को लेकर हालात दिनों-दिन बदतर होते जा रहे हैं. आगर-मालवा में पानी को लेकर स्थिति ऐसी है कि नलों के गले सूख गए हैं और कुएं पानी की जगह कीचड़ उगल रहे हैं और लोगों की स्थिति ऐसी है कि वे यही कीचड़ वाला पानी पीने को मजबूर हैं. यहां के लोग मीलों दूर से पानी लेकर आते हैं लेकिन, वह भी कीचड़ से भरा. दरअसल, गांव से करीब 1 मील दूर एक 50 फीट गहरा कुआं है. जहां लोग पानी भरने जाते हैं. वैसे तो कुएं का पानी सूख चुका है, लेकिन लोग तलहटी में बचे पानी से ही काम चलाने को मजबूर हैं. क्योंकि गांव के सारे स्त्रोत सूख चुके हैं.

Jun 16, 2018, 06:21 PM IST