बर्फ से बना यह होटल मौसम बदलते ही पिघल जाता है, आकर्षण का विशेष केंद्र है 'आइस होटल'

दुनिया में ऐसी कई जगहें हैं, जो अपने अनूठेपन के लिए जानी जाती हैं. पर्यटकों का वहां जमावड़ा लगा रहता है और वे सबके आकर्षण का केंद्र बन जाती हैं.

बर्फ से बना यह होटल मौसम बदलते ही पिघल जाता है, आकर्षण का विशेष केंद्र है 'आइस होटल'
बेहद मशहूर है स्वीडन का आइस होटल

नई दिल्ली: दुनिया में ऐसी कई जगहें हैं, जो अपने अनूठेपन के लिए जानी जाती हैं. पर्यटकों का वहां जमावड़ा लगा रहता है और वे सबके आकर्षण का केंद्र बन जाती हैं. पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई देशों में अजीबोगरीब होटल का निर्माण करवाया गया है, जहां का अनूठापन जानकर आप हैरान रह जाएंगे. किसी होटल को बिना छतों और दीवारों के बना दिया गया है तो किसी में जाने के लिए पर्यटकों को विशेष नियमों का पालन करना पड़ता है. जानिए स्वीडन (Sweden) के एक ऐसे ही अजीबोगरीब आइस होटल (ice hotel) के बारे में.

मशहूर है बर्फ से बना होटल
हजारों द्वीपों, झीलों, पहाड़ों और हरे-भरे जंगलों से भरपूर स्वीडन में पर्यटकों के लिए काफी कुछ है. हालांकि, इन सबके बावजूद जो एक होटल सबका ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करता है, वह है स्वीडन का आइस होटल. जैसा कि नाम से ही समझ में आ रहा है, यह होटल बर्फ से बना है और मौसम के बदलते ही यह पिघल भी जाता है. इस होटल की दीवारें, फर्नीचर, बार आदि सब बर्फ से बने हैं और मौसम में बदलाव के बाद यह होटल पिघलकर नदी बन जाता है.

2016 में मिला स्थाई रूप
इस होटल को हर साल पर्यटन के लिए सर्दी के मौसम में यानी दिसंबर से अप्रैल तक बर्फ से बनाया जाता है. पूरी तरह बर्फ से बना यह होटल वसंत ऋतु के आते ही पिघलकर नदी बन जाता है. इस होटल की उत्पत्ति टॉर्न नदी से होती है. दुनियाभर के पर्यटकों के बीच मशहूर इस होटल के कुछ हिस्सों को 2016 में स्थाई रूप दे दिया गया था और यह सोलर पावर्ड कूलिंग टेक्नोलॉजी के जरिए संभव हो सका था. इस होटल को पहली बार 1992 में खोला गया था और इसमें बर्फ से बने कॉम्प्लेक्स, रेस्त्रां और सेरेमनी हॉल समेत कई चीजें हैं. होटल में लिविंग ओशन सुईट (living ocean suite) भी है, जिसे इंग्लैंड के डिजाइनर जोनाथन ग्रीन ने बनाया है. इस सुईट में कोरल और फिश हैं, जो इसे बेहद आकर्षक लुक देते हैं.

होटल को देखने हर साल लाखों स्वीडन की यात्रा करते हैं. आइस होटल स्वीडन हर साल मध्य अप्रैल तक खुला रहता है.

ट्रैवल संबंधी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें