close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Budget 2019: जानें कैसे पेश होता है बजट, क्या है इसकी प्रक्रिया

बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर 13 फरवरी तक चलेगा.

Budget 2019: जानें कैसे पेश होता है बजट, क्या है इसकी प्रक्रिया
अब आम बजट के साथ ही रेल बजट को भी पेश किया जाता है. (फाइल)

नई दिल्ली: अंतरिम बजट (Budget 2019) की तैयारी पूरी हो चुकी है. वित्त मंत्रालय में दस्तावेज छापे जा रहे हैं. 1 फरवरी को बजट पेश किया जाएगा. उम्मीद की जा रही है कि पीयूष गोयल इस साल बजट पेश करेंगे. फिलहाल, अरुण जेटली अमेरिका में अपना इलाज करवा रहे हैं. उनकी गैर मौजूदगी में पीयूष गोयल ही वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभाल रहे हैं. इस साल बजट सुबह 11 बजे पेश किया जाएगा. बजट में वित्त मंत्री 31 मार्च 2018 से 1 अप्रैल 2019 के बीच सरकारी आय-व्यय का ब्यौरा देंगे. बता दें, लोकसभा चुनाव की वजह से यह अंतरिम बजट होगा. नई सरकार पूर्ण कालिक बजट पेश करेगी. बजट सत्र 31 जनवरी से शुरू होकर 13 फरवरी तक चलेगा.

क्या-क्या होती है प्रक्रिया?
1 फरवरी को वित्त मंत्रालय से बजट के पेपर को लोकसभा लाया जाएगा. उसके बाद पीएम मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक होगी. बैठक में बजट से जुड़े फैसलों पर चर्चा होती है. कैबिनेट बैठक के बाद ही वित्त मंत्री लोकसभा में अंतरिम बजट पेश करेंगे. बजट भाषण 2-3 घंटे का होगा. इस हिसाब से यह प्रक्रिया 2 बजे तक खत्म हो जाएगी.

Budget 2019 Exclusive: तीन खास मंत्रों पर आधारित होगा इस साल का रेल बजट, 'सेफर, फास्टर, बेटर'

पहले रेल बजट को अलग से पेश किया जाता था. लेकिन, अब रेल बजट भी साधारण बजट के साथ पेश किया जाता है. इतिहास पर नजर दौराएं तो पाएंगे कि 1999 से पहले तक शाम  पांच बजे 5 बजट पेश किया जाता था. 1999 में पहली बार तत्कालीन वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने इस परंपरा को बदलते हुए सुबह 11 बजे पजट पेश किया. बता दें,  बजट से एक दिन पहले आर्थिक सर्वे पेश किया जाता है, लेकिन अंतरिम बजट होने की वजह से इस साल आर्थिक सर्वे पेश नहीं किया जाएगा.

बजट सत्र में राफेल पर CAG रिपोर्ट पेश करेगी सरकार, 'अब होगा दूध का दूध पानी का पानी'

मोदी सरकार के इस बजट से लोगों को बहुत उम्मीदें हैं. सैलरी क्लास को उम्मीद है कि उन्हें इनकम टैक्स में राहत दी जाएगी. वे टैक्स स्लैब में बदलाव छूट की सीमा बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. दूसरी तरफ किसानों और MSMS सेक्टर को भी इस बजट से काफी उम्मीदें हैं. ऐसी भी संभावना है कि मोदी सरकार इस बजट में यूनिवर्सिल बेसिक इनकम (UBI) की घोषणा कर दे.