अमेरिका में मिल सकती है आसिया बीबी को शरण, सांसद ने रखा प्रस्ताव

कैलवर्ट ने कहा, "लेकिन आसिया खतरे में हैं और कट्टरपंथी इस्लामी नेता उन्हें ढाल बनाकर भड़काउ भाषण दे रहे हैं.

अमेरिका में मिल सकती है आसिया बीबी को शरण, सांसद ने रखा प्रस्ताव
पाकिस्तान ने बृहस्पतिवार को कहा था कि आसिया एक स्वतंत्र नागरिक हैं और उन्हें देश या विदेश कहीं भी यात्रा करने का अधिकार है.(फाइल फोटो)

वॉशिंगटनः अमेरिका के एक सांसद ने पाकिस्तानी महिला आसिया बीबी को अमेरिका में शरण देने के लिए प्रतिनिधि सभा में एक प्रस्ताव पेश किया है. सांसद ने दावा किया कि आसिया के ईसाई होने की वजह से उस पर अत्याचार किए गए. सांसद केन कैलवर्ट ने कहा, "आसिया पर अत्याचार किए गए, जेल में डाला गया और धमकियां दी गईं, क्योंकि वह पाकिस्तान में ईसाई हैं." सांसद ने कहा कि पाकिस्तान की शीर्ष अदालत द्वारा आसिया की मौत की सजा को खत्म करके उसे जेल से रिहा करना बेशक एक स्वागत योग्य कदम है.

रूस का दावा, अमेरिका के साथ तय समयसीमा से पहले परमाणु संधि पर ‘कोई प्रगति’ नहीं

कैलवर्ट ने कहा, "लेकिन आसिया खतरे में हैं और कट्टरपंथी इस्लामी नेता उन्हें ढाल बनाकर भड़काउ भाषण दे रहे हैं. लिहाजा कांग्रेस और धार्मिक स्वतंत्रता के अन्य रक्षकों के लिए जरूरी है कि उसकी रक्षा के लिए खड़े हों." चार बच्चों की मां आसिया जान को खतरा होने के चलते जल्द पाकिस्तान छोड़ सकतीं हैं. उनकी दो बेटियां पहले से ही कनाडा में रह रही हैं. 

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय का दावा, आसिया बीबी आजाद, कहीं भी कर सकती हैं यात्रा

पाकिस्तान ने बृहस्पतिवार को कहा था कि हाल ही में ईशनिंदा के मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा बरी की गईं आसिया एक स्वतंत्र नागरिक हैं और उन्हें देश या विदेश कहीं भी यात्रा करने का अधिकार है. सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की एक पीठ ने मंगलवार को 47 वर्षीय आसिया को बरी किये जाने के फैसले के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया था. 

पढ़ने के लिए गया अमेरिका, रद्द हुआ वीजा तो लोगों को बेवकूफ बनाकर 800,000 डॉलर का बना मालिक

आसिया को पंजाब प्रांत के ननकाना साहिब इलाके के एक खेत में काम करते हुए मुस्लिम महिला को कथित रूप से अपमान जनक शब्द कहने के लिए 2009 में गिरफ्तार कर लिया गया था. मुस्लिम महिला की शिकायत पर एक मौलाना ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था. 2010 में निचली अदालत ने उन्हें मौत की सजा सुनाई थी जिसे 2014 में लाहौर हाई कोर्ट ने बरकरार रखा था. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल उनकी सजा को खत्म कर दिया था जिसके बाद कई दिन तक हिंसक प्रदर्शन हुए थे.

(इनपुटः भाषा)