ईरान की जेल में बंद ब्रिटिश-ईरानी महिला जघारी-रैटक्लिफ को ब्रिटेन देगा 'राजनयिक संरक्षण'

जघारी-रैटक्लिफ, थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन और ब्रिटिश सरकार ने उनके खिलाफ लगे आरोपों से लगातार इनकार करता रहा है. ब्रिटेन सरकार कई बार ईरान से उनको रिहा करने की अपील कर चुकी है.

ईरान की जेल में बंद ब्रिटिश-ईरानी महिला जघारी-रैटक्लिफ को ब्रिटेन देगा 'राजनयिक संरक्षण'
जघारी-रैटक्लिफ को स्वास्थ्य संबंधी कई दिक्कतें आ रही हैं.

लंदन: ब्रिटेन ने कहा है कि वह जासूसी के आरोपों में ईरान की जेल में बंद एक ब्रिटिश-ईरानी मां नाजनीन जघारी-रैटक्लिफ को राजनयिक संरक्षण देने का ‘‘बेहद असामान्य’’ कदम उठाएगा.

विदेश मंत्री जेरेमी हंट ने कहा कि यह निर्णय दोहरी नागरिकता रखने वाली महिला की तीन साल की हिरासत के दौरान चिकित्सा देखभाल में कमी और उनके लिए उचित उपचार की व्यवस्था नहीं किये जाने की वजह से लिया गया है. 

उन्होंने गुरुवार को एक बयान में कहा, ‘‘मैंने आज फैसला किया है कि ब्रिटेन महिला को राजनयिक सुरक्षा प्रदान करने का बेहद असाधारण कदम उठाएगा.’’ जघारी-रैटक्लिफ को स्वास्थ्य संबंधी कई दिक्कतें आ रही हैं.

गौरतलब है कि थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन में एक परियोजना प्रबंधक जघारी-रैटक्लिफ को अप्रैल 2016 में उस वक्त गिरफ्तार कर लिया गया था जब वह अपनी नन्हीं बच्ची के साथ छुट्टियां बिता कर ईरान से लौट रही थी. सितंबर 2016 में ईरानी सरकार को कथित रूप से गिराने की कोशिश करने के आरोप में उन्हें पांच साल की जेल की सजा सुनाई गई थी.

जघारी-रैटक्लिफ, थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन और ब्रिटिश सरकार ने उनके खिलाफ लगे आरोपों से लगातार इनकार करता रहा है. ब्रिटेन सरकार कई बार ईरान से उनको रिहा करने की अपील कर चुकी है.

(इनपुट- भाषा)