close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ईरान के जनरल बोले- हम पर अगर एक भी गोली चली, तो अमेरिका को भुगतने होंगे गंभीर परिणाम

दक्षिण-पश्चिम एशिया में सशस्त्र बल के जनरल स्टाफ के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल अबुलफज़ल शेकरची ने कहा, ‘ईरान की ओर एक भी गोली चली तो अमेरिका और उसके सहयोगियों के हितों में आग लग जाएगी.’

ईरान के जनरल बोले- हम पर अगर एक भी गोली चली, तो अमेरिका को भुगतने होंगे गंभीर परिणाम

तेहरान: ईरान ने शनिवार को अमेरिका को चेतावनी दी कि इस्लामी गणतंत्र के खिलाफ किसी भी कार्रवाई से क्षेत्र में अमेरिकी हितों को बड़ा नुकसान पहुंचेगा और उसे इसके लिए गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे.

दक्षिण-पश्चिम एशिया में सशस्त्र बल के जनरल स्टाफ के प्रवक्ता ब्रिगेडियर जनरल अबुलफज़ल शेकरची ने तसनीम समाचार एजेंसी से कहा, ‘ईरान की ओर एक भी गोली चली तो अमेरिका और उसके सहयोगियों के हितों में आग लग जाएगी.’

अमेरिका ने नहीं दी कोई चेतावनी 
इससे पहले पहले ईरान ने शुक्रवार को उस खबर को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने आसन्न हमले को लेकर चेतावनी दी थी. इसमें ईरान गणराज्य के अमेरिकी ड्रोन विमान को मार गिराने का बदला लेने की बात कही गई थी.

ईरान की सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता केयवान खोसरवी ने कहा, ‘अमेरिका ने ईरान के लिए ओमान के जरिए ऐसा कोई संकेत नहीं भेजा.’ राज्य टेलीविजन पर जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि इसमें कोई सच्चाई नहीं है.

विदेशी मीडिया में ईरानी अधिकारियों के हवाले से कहा गया था कि ओमान ने ईरान को ट्रम्प का एक संदेश दिया है जिसमें कहा गया था कि जबतक ईरानी गणराज्य बातचीत के लिए तैयार नहीं हो जाता तबतक अमेरिकी हमले का खतरा बना रहेगा. गौरतलब है कि ईरान और अमेरिका के मध्य राजनयिक संबंध नहीं है और ओमान ही दोनों देशों के मध्य बातचीत का जरिया बनता है.

ट्रंप ने कहा था ईरान पर हमले की कोई जल्दी नहीं
बता दें अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें ईरान पर हमला करने की कोई ‘जल्दी नहीं’ है. उन्होंने खुलासा किया कि अमेरिकी फोर्स जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार थे लेकिन बड़े पैमाने पर लोगों के हताहत होने की आशंका के मद्देनजर उन्होंने बलों को वापस बुला लिया. ईरान ने गुरुवार को दावा किया था कि उसने उसके हवाई क्षेत्र का उल्लंघन होने पर अमेरिकी सैन्य निगरानी ड्रोन को गिरा दिया.