यहां सब्जियों की तरह खुले बाजार में बिकती है Drugs, कीमत किसी कैंडी से भी कम

ड्रग्स और नशे की लत को भारतीय समाज में बुरा माना जाता है. साथ ही सेहत के लिहाज से भी इसकी कई गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं. लेकिन दुनिया में एक ऐसा शहर भी है जहां ड्रग्स सब्जियों की तरह बिकता है और उसकी कीमत किसी टॉफी या कैंडी से भी कम है. इस शहर का नाम है साओ पाउलो (Sao Paulo). ब्राजील के इस शहर में आपको सड़कों पर नशेड़ी घूमते मिल जाएंगे और क्रैक ड्रग्स की बिक्री की वजह से इस इलाके को ही अब क्रैकलैंड (Crackland) का नाम दिया गया है.

Aug 04, 2021, 21:02 PM IST
1/5

ड्रग्स कैपिटल बना ये शहर

drugs capital of Sao Paulo

मिरर की खबर के मुताबिक क्रैकलैंड की सड़कें जॉम्बी जैसे दिखने वाले लोगों से भरी पड़ी हैं. लोग नशा करने के बाद यहां बेसुध हालत में कहीं भी डले रहते हैं. ब्राजील के साओ पाउलो में कोकीन का चलन सबसे ज्यादा है जो खुलेआम धड़ल्ले से बिकती है. इस इलाके को ब्राजील की ड्रग्स कैपिटल तक कहा जाने लगा है. 

2/5

पुलिस आंख मूंद लेती है

Kitty of Crackland

हालत ये है कि पुलिस ने भी यहां नशेड़ियों को पकड़ना अब बंद कर दिया है. हर कोई बगैर किसी डर के ड्रग्स की खरीद-फरोख्त करता है. अभी हाल ही में एक ऐसी ड्रग्स पेडलर को पकड़ा गया जिसे 'किटी ऑफ क्रैकलैंड' कहा जाता है, जो अपने अंडरवियर में ड्रग्स छुपाकर तस्करी कर रही थी.

3/5

तस्करी के अनोखे तरीके

drugs addicts

पुलिस ने बताया कि 19 साल की लॉरेन अपनी ब्रा में कोकीन और गांजा छिपाकर तस्करी करती थी. पुलिस ने जब इसके ठिकाने पर छापा मारा तो वहां से भारी तादाद में ड्रग्स की खेप बरामद हुई. ब्राजील का यह इलाका दुनिया का सबसे बड़ा क्रैक कोकीन का मार्केट है. 

4/5

दुकानों पर ड्रग्स की बिक्री

cocaine sale in daylight

क्रैकलैंड में नशेड़ी खुलआम बगैर कपड़ों के घूमते पाए जाते हैं और दुकानों पर फ्री सैंपल के तौर पर ड्रग्स की बिक्री की जाती है. यहां तक कि लोगों को पहले मुफ्त में ड्रग्स चखाकर उन्हें इसकी लत लगाई जाती है ताकि वह बाद में इसके लिए कीमत चुकाएं. यहां नशेड़ियों की भीड़ को देखकर ऐसा लगता है कि यह इलाका इंसानों के किसी चिड़ियाघर जैसा हो. 

5/5

सालाना 10 लाख लेते हैं ड्रग्स

Brazil Crackland of drugs

दुनिया में सबसे ज्यादा कोकीन पैदा करने वाले बोलीविया, पेरू और कोलंबिया जैसे देशों के साथ ब्राजील की सीमा लगती है. यही वजह है कि इस देश में साल में करीब 10 लाख लोग ड्रग्स का इस्तेमाल करते हैं. यहां क्रैक ड्रग्स की कीमत किसी कैंडी से भी कम है जो आपको खुले बाजार में आसानी से मिल सकती है. (सभी फोटो: सांकेतिक)