close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंस्टाग्राम पर लड़की ने पोस्ट डालकर फॉलोअर्स से पूछा- मर जाऊं या नहीं, लोगों ने कहा- हां, और फिर...

किशोरी ने इंस्टाग्राम पर पोल-पोस्ट डालकर अपने फॉलोअर्स से पूछा कि क्या उसे मर जाना चाहिए, या नहीं. करीब 69 प्रतिशत लोगों ने पोस्ट पर हां में प्रतिक्रिया दी.

इंस्टाग्राम पर लड़की ने पोस्ट डालकर फॉलोअर्स से पूछा- मर जाऊं या नहीं, लोगों ने कहा- हां, और फिर...
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

कुआलालंपुर: मलेशिया में एक 16 वर्षीय किशोरी ने इंस्टाग्राम पोल के बाद आत्महत्या कर ली. बुधवार को मिली मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, किशोरी ने इंस्टाग्राम पर पोल-पोस्ट डालकर अपने फॉलोअर्स से पूछा कि क्या उसे मर जाना चाहिए, या नहीं. करीब 69 प्रतिशत लोगों ने पोस्ट पर हां में प्रतिक्रिया दी, जिसके बाद किशोरी ने अपनी जान ले ली. गार्जियन के मुताबिक, सारावाक राज्य पुलिस ने बताया कि पीड़िता ने फोटो शेयरिंग एप पर पोल-पोस्ट डाला, "बहुत महत्वपूर्ण, चुनने में मदद करें डी/एल (डेथ/लिव)." इसके बाद कई लोगों ने डेथ पर मत दिया, जिसके बाद किशोरी ने खुद को मार डाला.

वहीं इस मौत के बाद एक वकील ने सुझाव दिया कि जिन लोगों ने हां में मत दिया उनपर आत्महत्या के लिए उकसाने का दोष लग सकता है. वकील और पेनाग के एनस्टेट के सांसद रामकरपाल सिंह ने कहा, "आज अगर नेटिजेंस किशोरी को अपनी जान लेने के लिए हत्सोत्साहित करते तो क्या आज वह जिंदा नहीं होती?"

उन्होंने कहा, "उन नेटीजेंस का प्रोत्साहन क्या उसके निर्णय को इतना प्रभावित कर सकता है कि वो अपनी जान ले लेगी? हालांकि इस देश में आत्महत्या का प्रयास अपराध है, तो किसी को आत्महत्या के लिए उकसाना भी अपराध से कम नहीं." वहीं फरवरी में इंस्टाग्राम ने 'संवेदनशील स्क्रीन' लॉन्च करने की घोषणा की थी, जिससे कि खुद को नुकसान पहुंचाने वाली तस्वीरों को ब्लॉक किया जा सके.

यह कदम तब उठाया गया, जब 2017 में 14 साल की ब्रिटिश किशोरी मौली रसेल ने अपनी जान ले ली थी. उसके माता-पिता का मानना था कि उसने खुद की जान लेने से पहले एप पर आत्महत्या और खुदकुशी की तस्वीरें देखीं थी.