• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 6,28,747 और अबतक कुल केस- 21,53,010: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 14,80,884 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 43,379 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 68.32% से बेहतर होकर 68.78% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 53,878 मरीज ठीक हुए
  • सरकार ने 500 करोड़ का आवंटन आत्म निर्भर अभियान के तहत मधुमक्खी पालन बढ़ाने के लिए किया
  • शहद का उत्पादन 242% बढ़ा और निर्यात 265% बढ़ा
  • 115 जिलों में एमएसएमई पदचिह्न बढ़ाने के लिए पहल
  • ₹50 करोड़ तक का सेक्टर निवेश और MSME की नई परिभाषा में 250 करोड़ तक का कारोबार
  • ₹50 करोड़ तक का सेक्टर निवेश और MSME की नई परिभाषा में 250 करोड़ तक का कारोबार
  • यह डिजिटल और आउटडोर इंस्टॉलेशन से सुसज्जित है, जो स्वछता पर जानकारी और शिक्षा प्रदान करता है
  • अगले पांच वर्षों में पीएलआई योजना के तहत ₹11.5 लाख करोड़ रुपये के मोबाइल फोन और इसके पुर्जे तैयार किए जाएंगे

सुशांत सिंह राजपूत के 'कातिलों' को बचा रही है मुंबई पुलिस? 3 अहम संकेत

सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमयी मौत के मामले में मुंबई पुलिस के कई सारे लूप होल सामने आने लगे हैं. ऐसे में जानबूझकर हुई मुंबई पुलिस की लापरवाही का सच जब सामने आने लगा है तो ये सवाल उठने लगे हैं कि क्या पुलिस कातिलों को बचा रही है?

सुशांत सिंह राजपूत के 'कातिलों' को बचा रही है मुंबई पुलिस? 3 अहम संकेत

नई दिल्ली: सुशांत सिंह केस सिर्फ एक नाम नहीं है, ये नाम एक रहस्य है. जिसकी मौत की गुत्थी सुलझाने के बजाय मुंबई पुलिस ने उसे उलझाकर रख दिया है. मुंबई पुलिस की करतूत को लेकर अब गंभीर आरोप सामने आने लगे हैं. मुंबई पुलिस की जांच को देखकर अब ऐसा लगने लगा है कि मामला सुलझाने का नहीं, बल्कि और उलझाने का प्रयास हो रहा है.

संकेत नंबर 1). मुंबई पुलिस की लापरवाही 'हद पार'

  • बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय का मुंबई पुलिस पर बड़ा आरोप
  • 'सुशांत मामले की जांच में सहयोग नहीं कर रही है मुंबई पुलिस'
  • 'बिहार पुलिस को बहुत सारे दस्तावेज नहीं सौंपे जा रहे हैं'
  • 'सुशांत को इंसाफ दिलाने तक बिहार पुलिस की जांच जारी रहेगी'

'सुशांत के दोषियों को छोड़ेंगे नहीं'

इस बीच बिहार के DGP ने मुंबई पुलिस पर बहुत बड़ा आरोप लगाया है. डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय का आरोप है कि केस से जुड़े दस्तावेज मुंबई पुलिस नहीं दे रही है. मतलब साफ है कि मुंबई पुलिस को राज़ खुलने का डर सता रहा है. इसीलिए वो बिहार पुलिस को जांच में सहयोग नहीं कर रही है. लेकिन बिहार के डीजीपी ने भी ये साफ कर दिया है कि सुशांत के दोषियों को छोड़ेंगे नहीं.

संकेत नंबर 2). चाबी वाले को क्यों छिपा रही है मुंबई पुलिस?

मुंबई पुलिस ने शुरुआत से ही सुशांत सिंह राजपूत की मौत की मिस्ट्री को सुलझाने के बजाय उसपर पर्दा डालने का काम करती रही है. पहले तो बिहार पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट देने से इनकार किया और फिर मुंबई पुलिस एक बड़ी जानकारी छिपाने लगी. सुशांत के केस मामले में अब बिहार पुलिस ने उस चाबी वाले की तलाश शुरू कर दी है, जिसने खुदकुशी के बाद सुशांत के कमरे को खोला था.

बिहार पुलिस को चाबी वाले की जानकारी मुंबई पुलिस नहीं दे रही है. बिहार पुलिस चाबी वाले को मामले में महत्वपूर्ण गवाह मान रही है. सुशांत की खुदकुशी के बाद चाबी वाले ने ही सबसे पहले शव को देखा था.

संकेत नंबर 3). क्या रिया को मुंबई पुलिस दे रही प्रोटेक्शन?

सुशांत की बहन मीतू सिंह ने हाल ही रिया चक्रवर्ती पर बेहद ही गंभीर आरोप लगाया था और कहा था कि सुशांत के फ्लैट में रिया काला जादू कराती थी. इस बीत सुशांत सिंह राजपूत के पूजा-पाठ पर खर्च का पूरा ब्योरा सामने आ रहा है. 

1 महीने में सुशांत ने पूजा-पाठ के लिए करीब 3 लाख रुपये खर्च किये. 14 जुलाई से 15 अगस्त 2019 के बीच सुशांत ने 3 लाख रुपये खर्च किये. सुशांत का परिवार रिया पर काला जादू करने का आरोप लगा चुका है. लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिरकार रिया चक्रवर्ती किस बिल में छिपकर बैठी है?

आखिर रिया और मुंबई पुलिस के बीच ऐसी कौन सी सांठगांठ हुई है, जो जब मुंबई पुलिस इस मामले की पूछताछ के लिए रिया को बुलाती है तो वो मुंह पर कपड़ा बांधकर पहुंच जाती है, लेकिन जब बिहार पुलिस उनसे पूछताछ के लिए संपर्क करती है तो मैडम रिया अपने 'भईया जी' के साथ फरार हो गई. क्या मुंबई पुलिस ने रिया चक्रवर्ती को कोई बड़ा राज़ खुलने के डर से छिपा दिया है?

इसे भी पढ़ें: सुशांत की मौत या 'हाई प्रोफाइल मर्डर'? 'हत्या' में बॉलीवुड माफिया और राजनीतिक कनेक्शन!

रक्षा बंधन से पहले सुशांत सिंह की बहन श्वेता सिंह ने अपील की है. उन्होंने कहा है कि किसी के लिए भी बुरी भाषा का इस्तेमाल करने से बचें. सभी को झुंझलाहट और निराशा है लेकिन हम इस लड़ाई को जीतेंगे. बहरहाल, सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर मुंबई पुलिस की जांच भगवान भरोसे है. मुंबई पुलिस की लापरवाही को देखकर ऐसा लगने लगा है कि क्या सुशांत सिंह राजपूत के 'कातिलों' को मुंबई पुलिस बचा रही है.

इसे भी पढ़ें: सुशांत मर्डर मिस्ट्री: क्या ये डबल मर्डर है?

इसे भी पढ़ें: Ex-मैनेजर दिशा के बाद सुशांत की रहस्यमयी मौत कोई इत्तेफाक नहीं, क्या है कनेक्शन?