आईआईटी गुवाहाटी की बड़ी खोज, सोलर पावर और पानी से बनेगा हाईड्रोजन ईंधन

प्रोफेसर डॉ मोहम्मद कुरैशी  और उनकी टीम का यह शोध अमेरिकी जर्नल द अमेरिकी केमेट्री सोसाइटी में प्रकाशित हुआ है.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Oct 25, 2021, 05:27 PM IST
  • शोधकर्ताओं ने महंगी धातु का विकल्प खोजा है
  • भविष्य में सस्ती सौर ऊर्जा, हाईड्रोजन उत्पन्न होगा
आईआईटी गुवाहाटी की बड़ी खोज, सोलर पावर और पानी से बनेगा हाईड्रोजन ईंधन

नई दिल्ली: IIT गुवाहाटी ने सौर ऊर्जा के जरिए पानी से ऊर्जा से भरपूर हाईड्रोजन अलग करने की नई तकनीक विकसित की है. दावा है इससे ऊर्जा का बेहद सस्ता विकल्प तैयार होगा. 

आईआईटी गुवाहाटी के रसायन विभाग ने प्रमुख डॉ मोहम्मद कुरैशी के नेतृत्व में यह तकनीक विकसित की गई है. प्रोफेसर डॉ मोहम्मद कुरैशी  और उनकी टीम का यह शोध अमेरिकी जर्नल द अमेरिकी केमेट्री सोसाइटी में प्रकाशित हुआ है.

क्या है यह तकनीक, कैसे अलग होता है पानी से हाईड्रोजन
सोलर सेल सामान्य रूप से सूरज की रौशनी को बिजली में बदलती है. वहीं एक दूसरे तरह की सौर ऊर्जा से चलने वाली फोटोइलेक्ट्रोकेमिकल (पीईसी) सेल होती है जो ईंधन के साथ बिजली भी बनाती है.

ये पीईसी सेल सुरक्षित और सामान्य पदार्थ जैसे पानी को हाईड्रोजन और ऑक्सीजन में तोड़ देती है. इसमें से हाईड्रोजन का इस्तेमाल ईंधन के रूप में किया जाता है.

ये भी पढ़िए: कांग्रेस के चुनावी पिटारे से निकला नया दांव, हर बीमारी में 10 लाख तक मुफ्त इलाज देने का वादा

इस प्रक्रिया के लिए नोबल मेटल्स जैसे प्लेटिनम, इरिडियम और रुथेनियम का उपयोग उत्प्रेरक के रूप में होता है. पर ये सभी धातुएं काफी महंगी होती है. प्रोफेसर कुरैशी और उनकी टीम ने इसी महंगी धातु का विकल्प खोजा है.

इस खोज के जरिए भविष्य में सस्ती सौर ऊर्जा और हाईड्रोजन उत्पन्न किया जा सकेगा.

क्या कहते हैं वैज्ञानिक
प्रोफेसर डॉ मोहम्मद कुरैशी ने कहा कि पीईसी सेल काफी कारगर तकनीक है. लेकिन यह व्यवहारिक विकल्प नहीं है क्योंकि इसमें महंगी धातुएं इस्तेमाल में आती हैं लेकिन हमने कोबाल्ट, ग्रैफेन और टीन से एक उत्प्रेरक बनाया है जो पानी को आसानी से हाईड्रोजन और ऑक्सीजन में तोड़ देगा.

ये भी पढ़िए: समीर दाऊद वानखेड़े: जानें एनसीबी निदेशक के नाम और धर्म पर क्यों मचा है बवाल, जवाब भी आया

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

 

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़