• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,64,944 और अबतक कुल केस- 7,42,417: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,56,831 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 20,642 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.13% से बेहतर होकर 61.53% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 16,883 मरीज ठीक हुए
  • डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रति दस लाख आबादी पर सबसे कम मामले हैं
  • स्वस्थ होने वालों की संख्या करीब 4.4 लाख, संक्रमितों और ठीक होने वालों की संख्या का अंतर 1.8 लाख से अधिक
  • आईसीएमआर: पिछले 24 घंटे में 2.41+ लाख नमूनों की जांच की गई, कुल परीक्षणों की संख्या 1.02 करोड़ के पार
  • फिल्म निर्माण शुरू करने को लेकर सरकार जल्द ही एसओपी की घोषणा करेगी, ताकि फिल्म निर्माण में फिर से तेजी लाई जा सके
  • सीबीएसई ने छात्रों को दी बड़ी राहत, कक्षा 9वीं से 12वीं का सिलेबस घटाया गया
  • एमएचआरडी: यूजीसी और स्वयं के द्वारा "इंटरनेशनल बिजनेस" में मुफ्त ऑनलाइन कोर्स उपलब्ध है
  • विश्व बैंक ने गंगा के कायाकल्प हेतु ‘नमामि गंगे कार्यक्रम’ में आवश्यक सहयोग बढ़ाने के लिए 400 मिलियन डॉलर प्रदान किए

जेल से बाहर आया जेसिका का गुनहगार मनु शर्मा

दिल्ली के जेसिका लाल हत्याकांड के करीब 19 साल बाद आजीवन कारावास की सजा काट रहे दोषी सिद्धार्थ शर्मा उर्फ मनु शर्मा को तिहाड़ जेल से रिहा कर दिया गया है.

जेल से बाहर आया जेसिका का गुनहगार मनु शर्मा

नई दिल्ली: दिल्ली में सभी को दहला देने वाले जेसिकालाल मर्डर केस में दोषी मनु शर्मा को रिहा करने का फैसला लिया गया है. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मनु शर्मा को रिहा करने का आदेश दिया है. आपको बता दें कि मनु शर्मा जेसिका लाल मर्डर केस में उम्रकैद की सजा काट रहा है. आजीवन कारावास की सजा काट रहे मनु शर्मा ने अपने रिहाई की मांग की थी.

इस आधार पर किया गया रिहा

 

आपको बता दें कि सजा समीक्षा बोर्ड (एसआरबी) की बैठक में मनु शर्मा की समय पूर्व रिहाई की सिफारिश की गई. इसके बाद इस सिफारिश को उपराज्यपाल को अवगत कराया गया. सजा समीक्षा बोर्ड उन कैदियों को रिहा करने की समीक्षा करता है जिसका आचरण जेल में सही रहता है. करीब 19 कैदियों को रिहा करने का फैसला सजा समीक्षा बोर्ड द्वारा लिया गया था जिस पर आखिरी फैसला उपराज्यपाल द्वारा लिया गया है. दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि  37 मामले मेरिट के आधार पर एसआरबी के सामने आए थे. इनमें से 22 मामले निर्धारित मापदंड के आधार पर रिहाई के योग्य पाए गए.

क्या है जेसिका मर्डर केस

मशहूर मॉडल जेसिका लाल की 29 अप्रैल 1999 की रात दिल्ली के टैमरिंड कोर्ट रेस्टोरेंट में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जेसिका की दोषी ने बहुत संकीर्ण सोच का परिचय देते हुए एक सामान्य बात पर उसे गोली मार दी थी. बताया जाता है कि जेसिका ने दोषी को शराब परोसने से मना कर दिया था. बाद में अदालत में ये साबित हो गया था कि उसका हत्यारा और कोई नहीं मनु शर्मा था.

ये भी पढ़ें- अमेरिकी लॉ मेकर का चीन पर प्रहार! भारत के खिलाफ चीनी आक्रामक रवैये पर नाराजगी

19 साल से ऊपर जेल में रह चुका है मनु शर्मा

गौरतलब है कि जेसिका का गुनाहगार 19 सालों से भी अधिक समय तक जेल में रह चुका है. इसे दिल्ली उच्च न्यायालय ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी. जेल सूत्रों से पता चला है कि मनु शर्मा का आचरण अच्छा रहा था. वो जेल के हर अच्छे एक्टीविटीज ने हिस्सा लेता था और अपने जुर्म की सजा पूरा कर चुका है. मनु शर्मा के अच्छे आचरण को देखते हुए उसे सेमी ओपन जेल में और फिर ओपन जेल में शिफ्ट कर दिया गया था.

आपको बता दें कि कुछ साल पहले जेसिका लाल की बहन सबरीना लाल ने भी दोषी मनु शर्मा को जेल से रिहा करने को लेकर कोई आपत्ति नहीं जताई थी. उनका कहना था कि मनु शर्मा को जेल से छोड़े जाने पर उन्हें कोई एतराज नहीं है.