• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,69,789 और अबतक कुल केस- 7,67,296: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,76,378 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,129 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 61.53% से बेहतर होकर 62.08% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,547 मरीज ठीक हुए
  • कोविड-19 की राष्ट्रीय रिकवरी दर 62.08% पर पहुंची; सक्रिय मामलों की तुलना में ठीक होने वाले लगभग 2 लाख ज्यादा
  • देश में प्रयोगशालाओं की कुल संख्या 1,119 हुई. पिछले 24 घंटे में 2.6 लाख से ज्यादा नमूनों की जांच की गई
  • भारतीय नौसेना का ऑपरेशन समुद्र सेतु पूरा हुआ, इसके तहत 3,992 भारतीय नागरिकों को सफलतापूर्वक स्वदेश लाया गया
  • 30 जून तक 62,870 करोड़ रुपये की क्रेडिट सीमा के साथ 70.32 लाख किसान क्रेडिट कार्ड स्वीकृत किए गए हैं
  • उत्तर प्रदेश में वर्ष 2020-21 में 1.02 करोड़ घरों में नल कनेक्शन देने की योजना है
  • आपकी सुरक्षा आपके हाथों में है, बिना मास्क/फेस कवर पहने घर से बाहर न निकलें
  • कोविड-19 से संबंधित मदद, सलाह और उपायों के लिए 24x7 टोल-फ्री राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1075 पर कॉल करें

बहुत गहरा है देशद्रोह के आरोपी देविंदर सिंह का राज, NIA बारीकी से कर रही है जांच

कश्मीरी आतंकवादियों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश करते हुए जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह तक कानून के लंबे हाथों पहुंच चुके हैं. राष्ट्रीय जांच एजेन्सी(NIA) इतनी बारीकी से देविंदर सिंह के मामले की जांच कर रही है, कि उसका बच पाना नामुमकिन नजर आ रहा है. आईए बताते हैं किस तरह देविंदर की खाल उधेड़ रही है NIA-   

बहुत गहरा है देशद्रोह के आरोपी देविंदर सिंह का राज, NIA बारीकी से कर रही है जांच

नई दिल्ली: रंगे हाथों पकड़े गए देश के गद्दार देविंदर सिंह का करतूतों का पता लगाने में राष्ट्रीय जांच एजेन्सी(NIA) जुट गई है. उसके केस से जुड़ा पूरा रिकॉर्ड श्रीनगर से जम्मू के NIA कार्यालय लाया जा चुका है. 

इलेक्ट्रोनिक जांच से खुलेगा राज
देविंदर सिंह की करतूतों का खुलासा करने के लिए NIA इलेक्ट्रोनिक सबूतों पर ज्यादा ध्यान दे रही है. इसीलिए NIA अधिकारियों ने जम्मू कश्मीर पुलिस से फाइलों के अलावा देविंदर सिंह के केस से जुड़े सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को भी अपने हाथों में ले लिया है. इनमें पेन ड्राइव से लेकर वीडियो सीडी तक शामिल हैं. आरोपी देविंदर सिंह  के पास से बरामद हुए सिम कार्ड और मोबाइल फोन भी NIA को सौंप दिए गए हैं. 

देविंदर के सहयोगियों पर भी निगाह
पिछले कुछ सालों से देविंदर सिंह  जिस टीम के साथ काम कर रहे था, उसके सभी सदस्यों का सर्विस रिकॉर्ड भी NIA के अधिकारी खंगाल रहे हैं. आरोपी देविंदर सिंह किन लोगों के मातहत काम करता था. 
NIA अब ये जानने की कोशिश कर रही है कि देशद्रोही देविंदर सिंह  के कारनामों की सूचना किन किन लोगों को थी. सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि NIA ये भी जांच कर रही है कि आतंकियों के खिलाफ जिन कार्रवाईयों में देविंदर सिंह  शामिल रहा. उन ऑपरेशनों के दौरान जो मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) अपनाई गई थी या नहीं. इसके लिए सभी जरुरी कागजात एनआईए को उपलब्ध कराए जा रहे हैं. 

देविंदर सिंह  की पहुंच कहां तक थी, ये पता लगाने के लिए उसकी टीम के अलावा जम्मू कश्मीर पुलिस महकमे में दूसरे अधिकारियों का भी रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है. 

बेहद रसूखदार था आरोपी देविंदर सिंह
देविंदर सिंह  अपने करतूतों को अंजाम देने के लिए हर नियम को तोड़ता मरोड़ता था. अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक अपनी ऊंची पहुंच के कारण देविंदर सिंह  किसी नियम कानून को नहीं मानता था. 

वह अपने ऑपरेशनों को अपने हिसाब से हैंडल किया करता था. उसके साथ कौन सा ड्राइवर जाएगा, गाड़ी प्राइवेट होगी या सरकारी. गार्ड साथ रहेगा या नहीं. यह सब वह खुद ही तय किया करता था. उसकी ऊंची पहुंच के कारण कोई आवाज भी नहीं उठाता था. 

 NIA अपनी जांच में यह भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि देविंदर सिंह  के ऑपरेशन शुरू होने और उसके खत्म होने की जानकारी जम्मू-कश्मीर पुलिस के किन अधिकारियों के पास होती थी. 
 
 NIA के उच्च अधिकारी कर रहे हैं जांच 
देशद्रोही देविंदर सिंह  का मामला इतना गंभीर है कि NIA के आईजी स्तर के अधिकारी इस मामले की जांच में जुटे हुए हैं. एनआईए अधिकारियों ने जम्मू कश्मीर पुलिस से वह रिपोर्ट भी तलब की है, जिसमें देविंदर सिंह  से अभी तक हुई पूछताछ का ब्यौरा है। 

 NIA की टीम ये भी पता लगा रही है कि आरोपी देविंदर सिंह  के काम करने के तरीके से कौन कौन से अन्य दूसरे लोग वाकिफ थे. सूत्रों ने बताया कि आरोपी देविंदर ने सर्विलांस उपकरणों का इस्तेमाल कब-कब और किसके लिए किया, वो सूची भी जांच एजेंसी इकट्ठा कर रही है. 

बेहद गहरा है देविंदर का राज
देविंदर सिंह  के देशद्रोही नेटवर्क में और कौन कौन से लोग जुड़े हुए थे. उसने और कितनी गैरकानूनी गतिविधियां की हैं. इन सभी सवालों का जवाब अगले सप्ताह तक मिल जाने की उम्मीद है.   NIA की टीम फिलहाल आरोपी देविंदर सिंह  को रिमांड पर लेकर सबूत जुटाने एवं केस की कड़ियां जोड़ने के लिए पंजाब, चंडीगढ़, जम्मू, ऊधमपुर, पठानकोट, पुलवामा, अमृतसर और दिल्ली ले जाने की तैयारी कर रही है. 

ये भी पढ़ें- देविंदर से खिलाफ UAPA के तहत केस दर्ज

ये भी पढ़ें- आखिर देविंदर जैसा देशद्रोही हमेशा से कैसे बचता रहा