• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

जन्मभूमि अयोध्या ही नहीं, अब श्री राम का ननिहाल भी होगा जगमग

भगवान राम के ननिहाल चंदखुरी का सौंदर्य अब पुराणों में वर्णित नगरों जैसा ही होगा. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पास यह गांव स्थित है, जहां गांव में प्राचीन कौशल्या मंदिर है. इस मंदिर की प्राचीनता को यथावत रखते हुए प्रांगण समेत गांव का सुंदरीकरण किए जाने की योजना है. 

जन्मभूमि अयोध्या ही नहीं, अब श्री राम का ननिहाल भी होगा जगमग

रायपुरः श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या में भूमिपूजन तो होने ही वाला है, इसे के साथ रामायणकालीन एक-एक स्थल को फिर से सजीव करने की इच्छाशक्ति बलवती हो उठी है. इसी सिलसिले में अब रायपुर भी शामिल हो गया है. बताया जाता है कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के निकट के गांव में श्री राम की ननिहाल है. छत्तीसगढ़ की सरकार इसे भी सुंदर बनाएगी. 

पुराणों वर्णित नगरें जैसा होगा आकर्षण
जानकारी के मुताबिक, भगवान राम के ननिहाल चंदखुरी का सौंदर्य अब पुराणों में वर्णित नगरों जैसा ही होगा. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पास यह गांव स्थित है, जहां गांव में प्राचीन कौशल्या मंदिर है.

इस मंदिर की प्राचीनता को यथावत रखते हुए प्रांगण समेत गांव का सुंदरीकरण किए जाने की योजना है. 

दुर्लभतम है यह मंदिर
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित चंदखुरी ग्राम में माता कौशल्या का प्राचीन मंदिर विराजमान है. यह मंदिर दुर्लभतम है, जैसे पुष्कर में ब्रह्मा जी का एकमात्र प्राचीन मंदिर है, वैसे ही रायपुर के पास कौशल्या जी का एकमात्र मंदिर स्थित है.

इस मंदिर के गर्भगृह में मां कौशल्या की गोद में बालरुप में भगवान श्रीरामजी की वात्सल्यम प्रतिमा श्रद्धालुओं एवं भक्तों का मन मोह लेती है. 

तैयार हो चुकी है रूपरेखा
पूरे परिसर के सौंदर्यीकरण की रूपरेखा तैयार कर ली गई है. मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी राम वन गमन पथ विकास परियोजना में शामिल चंदखुरी में यह पूरा कार्य 15 करोड़ 75 लाख रुपये की लागत से किया जाएगा. योजना के मुताबिक, चंदखुरी में मंदिर के सौंदर्यीकरण तथा परिसर विकास का कार्य दो चरणों में पूरा किया जाएगा.

पहले चरण में 6 करोड़ 70 लाख रुपए खर्च किए जाएंगे, जबकि दूसरे चरण में 9 करोड़ 8 लाख रुपये खर्च होंगे. योजना के मुताबिक चंदखुरी को पर्यटन-तीर्थस्थल के रूप में विकसित किया जाना है.

बोले चिराग- मैं माता शबरी का वंशज, चाहता हूं मंदिर के साथ-साथ बने भेदभाव मुक्त समाज

राम मंदिर भूमिपूजन: पीएम मोदी के आगमन पर पुलिस ने किया ये खास इंतजाम