अजित पवार के डिप्टी सीएम होने पर संशय बरकरार, शरद ने साधी चुुप्पी

एनसीपी प्रमुख ने कहा, ‘मैंने राउत का बयान पढ़ा है. लेकिन मैं अपनी पार्टी का अध्यक्ष हूं, इसलिए मुझे पता है कि विस्तार में कौन शपथ लेगा. राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने शुक्रवार को हाई कोर्ट के समक्ष दोहराया था कि उसे कथित सिंचाई घोटाले में अजित पवार के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Dec 22, 2019, 08:50 AM IST
अजित पवार के डिप्टी सीएम होने पर संशय बरकरार, शरद ने साधी चुुप्पी

मुंबईः राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार ने शनिवार को इस सवाल पर चुप्पी साधे रखी कि पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उनके भतीजे अजित पवार महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार में उपमुख्यमंत्री बनेंगे या नहीं. पवार ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कैबिनेट विस्तार पर जल्द ही फैसला करेंगे. शिवसेना नेता संजय राउत के उस कथित बयान के बारे में पूछे जाने पर कि अजित पवार शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी सरकार में तब उपमुख्यमंत्री बनेंगे जब कैबिनेट का विस्तार होगा, शरद पवार ने कोई स्पष्टीकरण देने से इनकार कर दिया.

अजीत ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ
एनसीपी प्रमुख ने कहा, ‘मैंने राउत का बयान पढ़ा है. लेकिन मैं अपनी पार्टी का अध्यक्ष हूं, इसलिए मुझे पता है कि विस्तार में कौन शपथ लेगा. राज्य के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने शुक्रवार को हाई कोर्ट के समक्ष दोहराया था कि उसे कथित सिंचाई घोटाले में अजित पवार के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं.

विधानसभा चुनाव के बाद सरकार गठन को लेकर गतिरोध के बीच अजित पवार ने पिछले महीने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार में उपमुख्यमंत्री के तौर पर शामिल होकर सभी को चौंका दिया था लेकिन वह सरकार मात्र 80 घंटे ही चल पाई थी.

हो सकता है कैबिनेट विस्तार
यह पूछे जाने पर कि क्या कैबिनेट विस्तार में सामान्य से अधिक समय लग रहा है, शरद पवार ने 'ना' में जवाब दिया. उन्होंने कहा, हम एक गठबंधन सरकार चला रहे हैं और हमने प्रभारों का पहले ही आवंटन कर दिया है. मुख्यमंत्री विधानसभा के शीतकालीन सत्र के बाद अब कैबिनेट विस्तार की घोषणा कर सकते हैं.

अब जयपुर में भी कांग्रेस ने खोला मोर्चा, CM गहलोत करेंगे धरना प्रदर्शन की अगुवाई

एकनाथ खडसे से हुई थी मुलाकात
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे की उस टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर कि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी का सरकार बनाने के लिए साथ आना मतदाताओं के साथ धोखा है, पवार ने कहा कि सरकार मात्र 15 दिन पुरानी है और ऐसे समय में ऐसी आलोचना करना उचित नहीं होगा. एनसीपी प्रमुख ने कहा, ‘हमें सरकार को काम करने देना चाहिए. जब (शिवसेना नेता) मनोहर जोशी मुख्यमंत्री बने थे,

विपक्ष के नेता के तौर पर मैंने उनसे कहा था कि हम सरकार की कम से कम एक वर्ष तक आलोचना नहीं करेंगे. पवार ने यह भी पुष्टि की कि उन्होंने बीजेपी के नाराज नेता एकनाथ खडसे से नागपुर में मुलाकात की थी लेकिन यह बताने से इनकार कर दिया कि बैठक में क्या बात हुई.

कांग्रेस सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में कल राजघाट पर करेगी धरना प्रदर्शन

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़