सुशासन मामले में तमिलनाडु टॉप पर, उत्तर प्रदेश को 17वां स्थान

 सुशासन के मामले में तमिलनाडु ने देश के बाकी राज्यों को पछाड़ते हुए पहला स्थान हासिल किया है. तेलंगाना 11 वें, राजस्थान 12 वें, पंजाब 13 वें, ओडिशा को 14 वां, बिहार को 15 वां, गोवा 16 वें, उत्तर प्रदेश 17 वें और झारखंड 18 वें स्थान पर रहा है.  कुछ अलग-अलग संकेतकों के आधार पर इस रैंकिंग में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को तीन समूहों में बांटा गया है. ये समूह बड़े राज्य, पूर्वोत्तर एवं पहाड़ी राज्य तथा केंद्रशासित प्रदेश हैं.

सुशासन मामले में तमिलनाडु टॉप पर, उत्तर प्रदेश को 17वां स्थान

नई दिल्लीः सुशासन के मामले में तमिलनाडु ने देश के बाकी राज्यों को पछाड़ते हुए पहला स्थान हासिल किया है जबकि महाराष्ट्र और कर्नाटक इस मामले में क्रमश : दूसरे व तीसरे स्थान पर रहे हैं. कार्मिक मंत्रालय की ओर से जारी सुशासन सूचकांक (जीजीआई) में छत्तीसगढ़ को चौथा स्थान मिला है. इसके बाद आंध्र प्रदेश को पांचवें , गुजरात छठे, हरियाणा 7 वें और केरल 8 वें पायदान पर रहा है. इस सूचकांक में मध्य प्रदेश नौंवें, पश्चिम बंगाल 10वें स्थान पर रहा है.

तेलंगाना 11 वें, राजस्थान 12 वें, पंजाब 13 वें, ओडिशा को 14 वां, बिहार को 15 वां, गोवा 16 वें, उत्तर प्रदेश 17 वें और झारखंड 18 वें स्थान पर रहा है. कुछ अलग-अलग संकेतकों के आधार पर इस रैंकिंग में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को तीन समूहों में बांटा गया है. ये समूह बड़े राज्य, पूर्वोत्तर एवं पहाड़ी राज्य तथा केंद्रशासित प्रदेश हैं.

पहाड़ी राज्यों में हिमाचल टॉप
पूर्वोत्तर एवं पहाड़ी राज्यों की श्रेणी में , हिमाचल प्रदेश शीर्ष स्थान पर रहा है. इसके बाद उत्तराखंड, त्रिपुरा, मिजोरम, सिक्किम, असम, जम्मू एवं कश्मीर, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश का स्थान रहा है. जम्मू - कश्मीर को अब दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया गया है. केंद्र शासित प्रदेशों में पुडुचेरी पहले पायदान पर है. इसके बाद चंडीगढ़, दिल्ली, दमन एवं दीव, अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह, दादर एवं नगर हवेली और लक्षद्वीप हैं.

कार्मिक मंत्रालय ने कहा , 'मौजूदा समय में राज्यों में सुशासन की स्थिति का निष्पक्ष आकलन करने के लिए कोई एक समान सूचकांक नहीं है. हालांकि, सुशासन सूचकांक राज्यों में सुशासन की स्थिति और राज्य सरकार तथा केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से उठाए गए विभिन्न कदमों के प्रभाव का आकलन करने के लिए एक साधन तैयार करने की दिशा में किया गया प्रयास है.

क्षेत्र आधार पर भी रैंकिंग
इस सूचकांक में क्षेत्र के आधार पर भी रैंकिंग की गई है. कृषि और संबद्ध क्षेत्र में, बड़े राज्यों की श्रेणी में पहले पायदान पर मध्य प्रदेश है. राजस्थान और छत्तीसगढ़ क्रमश: दूसरे और तीसरे पायदान पर हैं. पूर्वोत्तर एवं पहाड़ी राज्यों की श्रेणी में मिजोरम जबकि केंद्र शासित प्रदेशों में दमन एवं दीव पहले स्थान पर रहा है. वाणिज्य एवं उद्योग क्षेत्र के मामले में बड़े राज्यों की श्रेणी में झारखंड पहले स्थान पर है. इसके बाद आंध्र प्रदेश और तेलगांना हैं.

सेना प्रमुख बोले- जो सही नेतृत्व दे वही नेता, ओवेसी ने किया पलटवार