• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,76,685 और अबतक कुल केस- 7,93,802: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 4,95,513 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 21,604 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 62.08% से बेहतर होकर 62.42% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 19,135 मरीज ठीक हुए
  • पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 19,135 मरीज ठीक हो चुके हैं, ठीक हुए लोगों और सक्रिय मामलों के बीच का अंतर 2 लाख से अधिक है
  • भारत में प्रति मिलियन आबादी पर कोविड-19 के सबसे कम 538 मामले हैं जबकि वैश्विक औसत 1497 हैं
  • MoHFW ने कोविड-19 के हल्के मामलों में HCQ का उपयोग करने की सिफारिश की और गंभीर रोगियों को इसके सेवन से बचने की सलाह दी
  • एएसआई के स्मारकों में फ़िल्म शूटिंग करने के लिए 15 दिन के अंदर मिलेगी इजाजत
  • 750 मेगावाट की रीवा सौर परियोजना से हर साल करीब 15 लाख टन CO2 बराबर कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी, PM राष्ट्र को करेंगे समर्पित
  • मंत्रालय एक राष्ट्र-एक राशन कार्ड योजना को जनवरी 2021 तक शेष सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में लागू करने के लिए प्रयासरत है
  • MHRD: विज्ञान, तकनीक और कानून आदि जैसे विषयों पर प्राथमिक से PG तक की गुणवत्ता वाली सामग्री विभिन्न प्रारूपों में उपलब्ध है

चीनी Apps पर बैन सिर्फ फैसला नहीं, ड्रैगन पर '5 अचूक प्रहार' है! जानिए कैसे?

हिन्दुस्तान से पंगा लेने का अंजाम क्या होता है? इसका अंदाजा चीन को लग चुका होगा, क्योंकि भारत ने चीन के सिर्फ 59 Apps पर प्रतिबंध नहीं लगाया है, बल्कि उसपर 5 अचूक प्रहार भी किया है..

चीनी Apps पर बैन सिर्फ फैसला नहीं, ड्रैगन पर '5 अचूक प्रहार' है! जानिए कैसे?

नई दिल्ली: सरहद पर गुस्ताखी करने वाले चालबाज चीन इस फिराक में था कि वो कैसे भारत की जमीन पर कब्जा कर ले. उसने सीमा पर अपनी नीचता का प्रदर्शन भी किया, लेकिन उसे अंदाजा भी नहीं था कि भारत उसे इतना तगड़ा झटका देने वाला है.

हिन्दुस्तान के घर-घर में चीन की घुसपैठ वाली साजिश

यहां आपको समझना होगा कि मसला सिर्फ चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाने का नहीं है, बात उस 5 अचूक प्रहार का है, जो इस फैसले के जरिए भारत ने चीन की गंदी नीयत पर किया है. चीन ने हिन्दुस्तानियों के मोबाइल और जिंदगी तक ही सीमित नहीं है, बल्कि घर-घर में चाइनीज सामान के जरिए घुसपैठ कर रखा है.

चमगादड़ चीन पर भारत के 5 अचूक प्रहार

भारत की शांति को चीन ने कमजोरी समझने की गलती कर दी और सरहद पर गुस्ताखी की. भारत-चीन के बीच लंबे वक्त से सीमा विवाद चल रहा है. बैठकों का दौर जारी है, इस बीच भारत ने ऐतिहासिक फैसला लेकर ना सिर्फ चीन के मोबाइल पर प्रतिबंध लगा दिया, बल्कि अपने 5 अचूक प्रहार से भारत ने चीन के पर कतरने का काम किया है.

प्रहार नंबर 1). चीन के खिलाफ पूरी दुनिया को किया सचेत

हिन्दुस्तान के इस ऐतिहासिक फैसले के जरिए पूरी दुनिया चीन की डिजिटल साजिश का शिकार होने से बच जाएगी. भारत ने ये साफ-साफ बता दिया है कि चीन के Apps को कोई भी अपनी आदत में शुमार ना करे, क्योंकि ये एक नशे की तरह आपको अपना शिकार बना लेती है. धीरे-धीरे हर कोई इसपर निर्भर हो जाता है. लेकिन भारत ने ये साबित कर दिया है कि इस नशे को हमेशा के लिए खत्म किया जा सकता है. जिसका सबसे बड़ा उदाहरण भारत है.

भारत के इस संदेश से पूरी दुनिया इस राह पर चलकर चीन की करतूत के लिए उसे सबक सिखाएगी. यानी चीन जिसने दुनियाभर के लोगों की जानकारी इकट्ठा करने का जरिया चाइनीज ऐप्स को बना रखा था, अब उसपर प्रहार हो चुका है.

प्रहार नंबर 2). चीन की हैकिंग कम्युनिटी को लगा तगड़ा झटका

वायरस विलेन नाम से मशहूर देश चीन की एक बड़ी सोच पर भारत ने प्रहार किया है, जो हर देश की राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है. चीन के हैकर्स ऐसे ऐप्स का इस्तेमाल करके अपनी निजी जिंदगी को हैक कर लेते हैं. लेकिन अब भारत ने इसके खिलाफ भी जंग छेड़ दी है.

दुनियाभर के हर देश को भारत के इस प्रहार के जरिए ये समझ आ जाएगा कि चाइनीज ऐप्स का इस्तेमाल करके खुफिया जानकारी तक इकट्ठा की जाती रही हैं, जिसकी जानकारी भारत की खुफिया एजेंसियों ने दी थी. इन Apps के जरिए देशों की राष्ट्रीय सुरक्षा के उपर चीन गिद्ध की नजर गड़ाए बैठा था. लेकिन अब उसकी आंखों में भारत ने तीर दाग दिया है, जो सीधे निशाने पर लगेगा.

प्रहार नंबर 3). अब चीनी Apps के बिना ही चलेगी पूरी दुनिया!

सबसे बड़ी बात ये है कि चीन ने अपने Apps के माध्यम से सबसे अधिक कब्जा भारत के लोगों पर किया था, दुनियाभर की तुलना में भारत में चीन की सबसे बड़ी दुकान है, ऐसे में इस दुकान के टूटना का सिलसिला शुरू हो चुका है. सिर्फ एक प्रहार नहीं बल्कि पहला कदम है, जिससे अमेरिका, यूरोप जैसे देशों से भी चीनी Apps और सामानों को Bye-Bye कर दिया जाएगा. 

प्रहार नंबर 4). आत्मनिर्भर भारत से बर्बाद हो जाएगा चालबाज चीन

भारत ने इस फैसले के जरिए चीन के उपर ऐसा प्रहार किया है कि वो कहीं का नहीं रहेगा. क्योंकि हाल ही में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'आत्मनिर्भर भारत' की मुहिम शुरू की है, ऐसे में चीन को Apps पर प्रतिबंध के बाद स्वदेशी ऐप्स इस आत्मनिर्भर भारत को सफल बनाने में जबरदस्त भूमिका निभाएंगे. हमारे देश के टैलेंट का इस्तेमाल अब दूसरे देश को मजबूत करने के लिए नहीं बल्कि अपने देश को शक्तिशाली बनाने के लिए होगा.

प्रहार नंबर 5). ये तो सिर्फ ट्रेलर है, पिक्चर अभी बाकी है 'मेरे चमगादड़'

पांचवा और सबसे तगड़ा प्रहार भारत ने चीन की सोच पर किया है. चमगादड़ चीन को इस बात की गलतफहमी हो गई थी कि वो सीमा पर गुस्ताखी करेगा और भारत हाथ पर हाथ धरे बैठा रहेगा. अभी तो भारत ने सिर्फ चीन के 59 ऐप्स पर प्रतिबंध लगाया है. अगर वो नहीं सुधरा तो भारत उसे चमगादड़ की तरह उलटा लटकने पर मजबूर कर देगा. 

चालबाज चीन ने अब अगर कोई भी गुस्ताखी की तो उसे सैन्य मोर्चे के साथ-साथ, कूटनीतिक और आर्थिक मोर्चे पर भी हिन्दुस्तान के प्रहार का शिकार होना पड़ेगा. ये तो सिर्फ ट्रेलर है, अगर अब कोई नापाक हरकत चीन ने की तो भारत उसे पूरी पिक्चर दिखा देगा.

चीन के खिलाफ एक्शन की खबर और उसका मतलब समझिए

खबर ये है कि Tik Tok सहित 59 चाइनीज़ ऐप पर सरकार ने प्रतिबंध लगाया है. और इसका साफ-साफ मतलब ये है कि चीन के 'आर्थिक अतिक्रमण' भारत मे पर 'डिजिटल स्ट्राइक' किया.

इसे भी पढ़ें: इन 59 चीनी ऐप्स पर पाबंदी लगाने से भारत को क्या फायदा और चीन को क्या नुकसान?

इसे भी पढ़ें: चीनी Apps पर प्रतिबंध के बाद आपके मन में चल रहे सारे सवाल के जवाब, जानिए यहां

इसे भी पढ़ें: जानिए 59 चीनी ऐप्स बैन होने के बाद TikTok सबसे ज्यादा चर्चा में क्यों?