वैक्सीन से बीमार होने का दावा करने वाले पर सौ करोड़ के दावे की सीरम की चेतावनी

सीरम इंस्टिट्यूट ने कोरोना वैक्सीन से समस्या पैदा होने के आरोपों को सीधी तौर पर अस्वीकार कर दिया है और वैक्सीन से बीमार होने का दावा करने वाले वालंटियर पर सौ करोड़ का दावा ठोकने की चेतावनी भी दी है..

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Nov 30, 2020, 10:25 AM IST
  • ''कम्पनी की गरिमा को चोट पहुंचाई''
  • तीसरे चरण में की थी शिकायत
  • शिकायत पर हुई पड़ताल शुरू
वैक्सीन से बीमार होने का दावा करने वाले पर सौ करोड़ के दावे की सीरम की चेतावनी

नई दिल्ली.  एसआईआई अर्थात सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा है कि वैक्सीन से बीमार होने वाली बात सीधी तौर पर बेबुनियाद है. वैक्सीन से होने वाले साइड इफेक्ट्स के आरोपों को साफ़ तौर पर खारिज करते हुए  सीआइआइ ने इस तरह का दावा करने वाले वालंटियर पर वैक्सीन के विरुद्ध दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया है और इस वालंटियर पर सौ करोड़ का दावा ठोकने की चेतावनी भी दे डाली है. 

''कम्पनी की गरिमा को चोट पहुंचाई''

कोरोना का टीका तैयार कर रही कंपनी एसआईआई ने कोविड टीके के परीक्षण में शामिल हुए वालंटियर  के आरोपों को खारिज कर दिया है. कम्पनी ने इसे उसकी कोरोना वैक्सीन के विरुद्ध दुष्प्रचार का षड्यंत्र करार दिया है और इस वालंटियर के खिलाफ कंपनी की गरिमा को चोट पहुंचाने को लेकर भारी भरकम जुर्माना वसूलने की चेतावनी भी दे डाली है. 

तीसरे चरण में की थी शिकायत 

एसआईआई की कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण के दौरान प्रतिकूल प्रभाव की ये शिकायत  सामने आई थी. चेन्नई के एक वालंटियर ने इस परीक्षण के दौरान दी गई वैक्सीन की डोज के प्रतिकूल प्रभाव की शिकायत की थी जिसे  सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने सीधे ही खारिज कर दिया है. सीआईआई ने इसे मनगढ़ंत और आधारहीन आरोप की संज्ञा दी है और साथ ही इस आरोप के कारण छवि को पहुंचने वाली क्षति की भरपाई के लिए आरोप लगाने वाले इस वालंटियर पर इंस्टीट्यूट ने सौ  करोड़ रुपये का दावा ठोकने की बात कह डाली है. 

ये भी पढ़ें. Farmers Protest : केंद्रीय गृह सचिव ने किसानों को भेजा खत

पड़ताल हो गई शुरू 

आरोपों को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट करते हुए सीरम इंस्टिट्यूट का कहना है कि टीके के ट्रायल का वालंटियर की स्थिति के साथ कोई लेनादेना नहीं है. कंपनी ने कह दिया है कि वह मजबूती के साथ इस तरह के नुकसान पहुंचाने के आरोपों के खिलाफ अपना बचाव करेगी. उधर इन आरोपों को लेकर ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया और इंस्टीट्यूशनल एथिक्स कमेटी ने इस संबंध में अपनी जांच प्रारम्भ कर दी है. इन दोनों एजेंसियों की जांच इस विषय पर केंद्रित होगी कि जिस प्रतिकूल प्रभाव का दावा किया गया है, वालंटियर को कोरोना वैक्सीन की दी गई डोज़ से उसका कोई संबंध है या नहीं.

ये भी पढ़ें.  किसानों ने ठुकराया सशर्त बातचीत का प्रस्ताव, नड्डा ने बुलाई बैठक

देश और दुनिया की हर एक खबर अलग नजरिए के साथ और लाइव टीवी होगा आपकी मुट्ठी में. डाउनलोड करिए ज़ी हिंदुस्तान ऐपजो आपको हर हलचल से खबरदार रखेगा... नीचे के लिंक्स पर क्लिक करके डाउनलोड करें-

Android Link - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.zeenews.hindustan&hl=en_IN

iOS (Apple) Link - https://apps.apple.com/mm/app/zee-hindustan/id1527717234

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़