• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 2,35,433 और अबतक कुल केस- 6,48,315: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 3,94,227 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 18,655 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 60.72% से बेहतर होकर 60.80% हुई; पिछले 24 घंटे में 14,335 मरीज ठीक हुए
  • विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है, यह विकास का युग है- प्रधानमंत्री मोदी
  • नॉन-कंटेनमेंट जोन में एएसआई के सभी केंद्रीय संरक्षित स्मारक 6 जुलाई 2020 से आगंतुकों के लिए खुलेंगे
  • #ICMR सार्वजनिक उपयोग के लिए स्वदेशी #COVID19 वैक्सीन 15 अगस्त तक लॉन्च करेगी
  • 775 सरकारी प्रयोगशालाओं और 299 निजी प्रयोगशालाओं में कोविड-19 के कुल परीक्षणों की संख्या 90 लाख के पार
  • कोविड मरीजों की रिकवरी दर 60% के पार; स्वस्थ होने वालों की संख्या सक्रिय मामलों से 1.5 लाख से भी अधिक
  • एमएचआरडी: माध्यमिक पाठ्यक्रमों के लिए एकलव्य पर ऑडियो एमओओसी उपलब्ध है। विजिट करें
  • PSB द्वारा ECLGS के तहत स्वीकृत ऋण की राशि बढ़ कर 63,234.94 करोड़ रुपये हुई , 01-07-2020 तक 33,349.13 करोड़ रुपये के ऋण वितरित

टीचर का अनोखा कारनामा, एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ाकर 13 महीने में कमाए 1 करोड़

उत्तरप्रदेश में एक महिला टीचर फ्रॉड करने में सभी कुख्यात आरोपियों को भी पीछे छोड़ दिया. उसने एक साथ 25 स्कूलों में छात्रों को पढ़ाया और 13 महीने में 1 करोड़ रुपये का वेतन भी प्राप्त कर लिया.  

टीचर का अनोखा कारनामा, एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ाकर 13 महीने में कमाए 1 करोड़

लखनऊ: उत्तरप्रदेश में शिक्षा व्यवस्था का हाल किसी से भी छिपा नहीं है. बदहाल शिक्षा और अशिक्षित शिक्षकों की फर्जी नियुक्ति का कच्चा चिट्ठा पुरानी सरकारों का अब सामने आ रहे हैं. पूर्ववर्ती राज्य सरकारों ने भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी के ऐसे कारनामे किये हैं जो अब तक लोगों के सामने उद्घाटित हो रहे हैं. मैनपुरी की रहने वाली अनामिका शुक्ला नामक एक टीचर ने भयानक धोखाधड़ी करके एक साथ 25 विद्यालयों में अपना शिक्षक के रूप में पंजीकरण करवा रखा था और सभी से वेतन भी ऐंठ रही थी. इस बड़े खुलासे ने सभी को चौंका दिया है.

समझिये पूरा मामला

आपको बता दें कि यूपी के एक कस्तूरबा गांधी विद्यालय में अनामिका शुक्ला नामक शिक्षिका विज्ञान पढ़ाती थी. कहा जा रहा है उसने फर्जी तरीके से 25 अन्य विद्यालयों में भी अपनी नियुक्ति करवा रखी थी. अब जांच में ये पता लगाया जा रहा है कि वो एक ही समय अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने में कैसे कामयाब हो गयी. यूपी के प्राइमरी स्कूलों में टीचर्स के अटेंडेंस की रियल टाइम मॉनिटरिंग के बावजूद अनामिका शुक्ला नाम की यह टीचर ऐसा कर पाने में सफल रही. इस दौरान इस महिला टीचर ने 13 महीने में 1 करोड़ रुपये धोखाधड़ी से कमा लिये.

ये भी पढ़ें- दिल्ली दंगे: कहां से आती है मजहबी कट्टरपंथियों में इतनी हैवानियत

स्कूली शिक्षा महानिदेशक ने शुरू की जांच

स्कूली शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने मीडिया से बताया है कि हम लोग ये पता लगाने की कोशिश करेंगे कि ऐसा करने में किस किस ने इस महिला की मदद की. लॉकडाउन की वजह से टीचर के रेकॉर्ड्स नहीं मिल सके हैं. मैंने 26 मई को अधिकारियों को रिमाइंडर भेज दिया है.

ये भी पढ़ें- कोरोना वायरस: एक दिन में बढ़े रिकॉर्ड मामले, दिल्ली और महाराष्ट्र में स्थिति भयावह

इस धोखाधड़ी में कई लोग हो सकते हैं शामिल

उन्होंने कहा कि टीचर के बारे में जानकारी सही पाई गई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी. अहम बात ये है कि जब सभी टीचर्स को प्रेरणा पोर्टल पर ऑनलाइन अपनी अटेंडेंस दर्ज करनी है तो फिर कैसे एक टीचर कई जगहों पर उपस्थिति दर्ज करा सकती है. इस संबंध में विस्तृत और बहुस्तरीय जांच की जरूरत है.

कई वरिष्ठ अधिकारियों पर भी शक

आपको बता दें कि प्रारंभिक जांच में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज, अंबेडकरनगर, अलीगढ़, सहारनपुर, बागपत जैसे जिलों के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में अनामिका की पोस्टिंग पाई गई है. गौरतलब है कि इन स्कूलों में टीचर्स की नियुक्ति कॉन्ट्रैक्ट बेसिस पर होती है और हर महीने 30 हजार रुपये की तनख्वाह रहती है. सवाल ये उठता है कि इतने स्कूलों में एक साथ उपस्थिति कैसे दर्ज होती रही थी और अनामिका के द्वारा किये गए इस फ्रॉड में उन सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्यों का कितना हाथ है.