बिहार में जनसंख्या नियंत्रण का मुद्दा क्यों चर्चा में है?

बिहार में इन दिनों जनसंख्या वृद्धि पर सियासत गरमाती जा रही है. असदुद्दीन ओवैसी के विधायक अख्तरुल ईमान ने तो ये तक कह दिया कि 'आबादी बढ़ाना मर्दानगी का काम है.'

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Feb 25, 2021, 03:26 PM IST
  • ओवैसी के विधायक अख्तरुल ईमान ने दिया विवादित बयान
  • जनसंख्या वृद्धि मर्दानगी का काम, जिसमें दम है वो बढ़ाए- अख्तरुल
बिहार में जनसंख्या नियंत्रण का मुद्दा क्यों चर्चा में है?

नई दिल्ली: बिहार में जनसंख्या वृद्धि का मुद्दा काफी सुर्खियां बंटोर रहा है, इन दिनों विधानसभा में प्रजनन दर के मुद्दे पर हुई चर्चा के बाद सियासी घमासान छिड़ गया है. AIMIM विधायक ने तो ये तक कह दिया कि आबादी बढ़ाना मर्दानगी का काम है.

जनसंख्या नियंत्रण पर बिहार के बवाल को समझिए

दरअसल, पूरा हंगामा बीजेपी के एक विधायक के बयान से बढ़ा है और मुद्दा धर्म को बनाया जा रहा है. सत्ताधारी बीजेपी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने कहा कि एक धर्म विशेष के लोग आबादी बढ़ा रहे हैं.

ओवैसी के विधायक अख्तरुल ईमान की ‘मर्दानगी’

बीजेपी विधायक के इस बयान के बाद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के विधायक अख्तरुल ईमान नाराज हो गए और विवादित बयान दे डाला. उन्होंने कहा कि जनसंख्या वृद्धि तो मर्दानगी का काम है, जिसमें दम है वो बढ़ाए.

अख्तरुल ईमान ने कहा कि 'आबादी बढ़ाना मर्दानगी का काम है, जिसमें है वो बढ़ाए. आबादी कभी नुकसान नहीं करती. हिंदुस्तान बहुत बड़ा मुल्क है, यहां सबको जीने की आजादी है. कुछ लोग फिरकापरस्त हैं जो माहौल को खराब करना चाहते हैं, लेकिन यह सम्भव नहीं है.'

अख्तरुल ईमान हैं कि मानते नहीं!

हैरानी तो इस बात की है अख्तरुल ईमान को अपने इस बयान में अब भी मर्दानगी नजर आ रही है. उनके इस बयान पर विवाद तेज हुआ तो हमारे सहयोगी चैनल ज़ी बिहार झारखंड ने अख्तरुल से खास बातचीत की.

एआईएमआईएम विधायक अख्तरुल ईमान ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कुत्ते पर खर्च करने वाले जनसंख्या नियंत्रण पर बोलते हैं तो अच्छा नहीं लगता.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि मेरा बयान उन लोगों के लिए था, जो जनसंख्या बढ़ोतरी के लिए खास समुदाय को दोषी बता रहे हैं. अख्तरुल ईमान ने कहा कि अगर कानून बनाना है तो जानकार लोग साथ बैठकर विमर्श करें.

जनसंख्या नियंत्रण पर बोले आरसीपी सिंह

जेडीयू अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने देश की बढ़ती जनसंख्या पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि आबादी इतनी ना हो जाए कि धरती कराहने लगे. उन्होंने कहा कि कानून के नजरिए से नहीं, बल्कि सामाजिक, स्वास्थ्य के नजरिए से देखना होगा. ये समस्या गंभीर है, सबका सहयोग होना चाहिए.

ओवैसी की राह पर चल रहे हैं अख्तरुल ईमान

अख्तरुल ईमान ही नहीं उनकी पार्टी के सुप्रीमो और AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी भी कुछ कम नहीं हैं. ओवैसी ने भी कुछ साल पहले ऐसा ही विवादित बयान दिया था. जिस पर खूब बखेड़ा हुआ था.

तब ओवैसी ने औरंगाबाद के एक पान वाले का जिक्र किया था और कहा था कि कोहिनूर पान बच्चे पैदा करने में मददगार होता है.

पूरा देश जानता है कि जनसंख्या वृद्धि कितना बड़ा मुद्दा है. पीएम मोदी ने दो साल पहले लाल किले की प्राचीर से जनसंख्या विस्फोट का मुद्दा उठाया था. तब प्रधानमंत्री मोदी ने बढ़ती आबादी को देश के लिए संकट बताया था.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने मंगलवार को कहा था कि राज्य के प्रजनन दर (Fertility rate) में कमी आई है जो कि अच्छी बात है. सरकार इसे और नीचे ले जाने की कोशिश करेगी.

इसे भी पढ़ें- किसानों आंदोलन के बीच PM Modi से मिले नीतीश, कृषि कानून पर कही ये बात

सवाल है कि बेलगाम आबादी में मजहब और मर्दानगी का आखिर क्या काम जब पूरा देश जनसंख्या वृद्धि से जूझ रहा है, तब ओवैसी के विधायक को ‘मर्दानगी’ सूझ रही है.

इसे भी पढ़ें- Bengal Election में भाजपा के 'त्रिदेव' करेंगे तृण-मूल का 'नाश'!

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़