• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 5,95,501 और अबतक कुल केस- 19,64,537: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 13,28,337 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 40,699 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.15% से बेहतर होकर 67.62% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 51,706 मरीज ठीक हुए
  • गोवा MyGov के जनभागीदारी मंच में शामिल हुआ. सरकार के साथ अपनी राय, विचार और सुझाव साझा करने के लिए नागरिक रजिस्टर करें
  • कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली पुलिस की मदद करने के लिए 'कोरोना क्लीनर' का विकास
  • IIT दिल्ली के स्नातकों ने यूवी विकिरण का उपयोग करके 'कोरोना क्लीनर' का विकास किया
  • 74वें स्वंतत्रता दिवस का जश्न सेना, नौसेना और भारतीय वायु सेना के बैंड की संगीतमय प्रस्तुति के साथ मनाया जा रहा है
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना चरण-1 : अप्रैल 2020 से जून 2020
  • राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों ने एनएफएसए लाभार्थियों के बीच अप्रैल-जून 2020 की अवधि के लिए आवंटित खाद्यान्न का 93.5% वितरित किय
  • भारतीय रेलवे द्वारा अयोध्या स्टेशन को राम मंदिर के मॉडल के तर्ज विकसित किया जाएगा

मत भूलें, चुनौतियां ही हमें मजबूत बनाती हैं

जीवन में मुश्किलें और चुनौतियां आते देखकर हम सब घबरा जाते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये संघर्ष हमें मजबूत बनाता है. पढ़िए ये छोटी सी कहानी जिसमें बड़ा आध्यात्मिक संदेश छुपा हुआ है.   

मत भूलें, चुनौतियां ही हमें मजबूत बनाती हैं

नई दिल्ली: एक बार एक किसान परमात्मा से बड़ा नाराज हो गया. कभी बाढ़ आ जाये, कभी सूखा पड़ जाए, कभी धूप बहुत तेज हो जाए तो कभी ओले पड़ जाए. हर बार कुछ ना कुछ कारण से उसकी फसल थोड़ी ख़राब हो जाती थी. 

एक दिन बड़ा तंग आ कर उसने परमात्मा से कहा, "देखिये प्रभु,आप परमात्मा हैं, लेकिन लगता है आपको खेती बाड़ी की ज्यादा जानकारी नहीं है. एक प्रार्थना है कि एक साल मुझे मौका दीजिये, जैसा मैं चाहूं वैसा मौसम हो, फिर आप देखना मै कैसे अन्न के भण्डार भर दूंगा!" 

परमात्मा मुस्कुराये और कहा, "ठीक है, जैसा तुम कहोगे वैसा ही मौसम दूंगा, मै दखल नहीं करूँगा!"

किसान ने गेहूं की फ़सल बोई. जब धूप चाही तब धूप मिली, जब पानी चाहिए तब पानी. तेज धूप, ओले, बाढ़, आंधी तो उसने आने ही नहीं दी. समय के साथ फसल बढ़ी और किसान की ख़ुशी भी. क्योंकि ऐसी फसल तो आज तक नहीं हुई थी. 

किसान ने मन ही मन सोचा अब पता चलेगा परमात्मा को कि फ़सल कैसे करते हैं. बेकार ही इतने बरस हम किसानो को परेशान करते रहे.

फ़सल काटने का समय भी आया. किसान बड़े गर्व से फ़सल काटने गया. लेकिन जैसे ही फसल काटने लगा, एकदम से छाती पर हाथ रख कर बैठ गया. गेहूं की एक भी बाली के अन्दर गेहूं नहीं था, सारी बालियाँ अन्दर से खाली थी. 

बहुत दुखी होकर उसने परमात्मा से कहा, "प्रभु ये क्या हुआ?"

तब परमात्मा बोले, "ये तो होना ही था. तुमने पौधों को संघर्ष का ज़रा सा भी मौका नहीं दिया. ना तेज धूप में उनको तपने दिया, ना आंधी ओलों से जूझने दिया, उनको किसी प्रकार की चुनौती का अहसास जरा भी नहीं होने दिया. इसीलिए सब पौधे खोखले रह गए. 

जब आंधी आती है, तेज बारिश होती है ओले गिरते हैं तब पौधा अपने बल से ही खड़ा रहता है, वो अपना अस्तित्व बचाने का संघर्ष करता है और इस संघर्ष से जो बल पैदा होता है वही उसे शक्ति देता है, उर्जा देता है, उसकी जीवटता को उभारता है. सोने को भी कुंदन बनने के लिए आग में तपने, हथौड़ी से पिटने, गलने जैसी चुनोतियो से गुजरना पड़ता है तभी उसकी स्वर्णिम आभा उभरती है, उसे अनमोल बनाती है.

उसी तरह जिंदगी में भी अगर संघर्ष ना हो, चुनौती ना हों तो आदमी खोखला ही रह जाता है. उसके अन्दर कोई गुण नहीं आ पाता. ये चुनौतियां ही हैं जो आदमी रूपी तलवार को धार देती हैं. उसे सशक्त और प्रखर बनाती हैं. अगर प्रतिभाशाली बनना है तो चुनौतियां तो स्वीकार करनी ही पड़ेंगी, अन्यथा हम खोखले ही रह जायेंगे. 

अगर जिंदगी में प्रखर बनना है, प्रतिभाशाली बनना है, तो संघर्ष और चुनौतियों का सामना तो करना ही पड़ेगा.