जानिए, कौन हैं जावेद अशरफ , जो फ्रांस में भारत के राजदूत बनने जा रहे हैं

जावेद अशरफ को 2016 नवंबर को सिंगापुर में भारत के उच्चायुक्त के तौर पर नियुक्त किया गया था. 1991 में वह भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए थे. वह 1993 से लेकर 1999 तक फ्रैंकफर्ट और बर्लिन में स्थित भारतीय दूतावास में भी तैनात रहे हैं. 

जानिए, कौन हैं जावेद अशरफ , जो  फ्रांस में भारत के राजदूत बनने जा रहे हैं

नई दिल्लीः फ्रांस में भारत के अगले राजदूत के जावेद अशरफ नियुक्त किए गए हैं. अनुभवी राजनयिक जावेद अशरफ 1991 बैच के भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी हैं. अशरफ वर्तमान में वह सिंगापुर में भारत के उच्चायुक्त हैं. विदंश मंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि जावेद के जल्द ही पद संभालने की उम्मीद है.  अशरफ विनय मोहन क्वात्रा की जगह लें रहे हैं.  दोनों देशों के बीच रणनीतिक संबंधों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है. वहीं, क्वात्रा को नेपाल में भारत का राजदूत नियुक्त किया गया है.  

सिंगापुर के उच्चायुक्त रह चुके हैं अशरफ 
जावेद अशरफ को 2016 नवंबर को सिंगापुर में भारत के उच्चायुक्त के तौर पर नियुक्त किया गया था. 1991 में वह भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुए थे. वह 1993 से लेकर 1999 तक फ्रैंकफर्ट और बर्लिन में स्थित भारतीय दूतावास में भी तैनात रहे. इसके बाद 1999 से लेकर 2004 तक उन्होंने नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के अमेरिका डिवीजन में काम किया. फिर 2004 में उन्हें नेपाल का उच्चायुक्त नियुक्त किया गया था. यहां उन्होंने 2007 तक काम किया और अपनी सेवाएं दी थीं.

बॉलीवुड के बी-ग्रेड कलाकार और निर्देशक दिल्ली दंगों के बहाने फिर से हुए एक्सपोज

वॉशिंगटन डीसी में राजनीतिक मामलों के मंत्री पर किया काम
 2007 से लेकर वर्ष 2010 तक जावेद अशरफ ने वाशिंगटन डीसी में राजनीतिक मामलों के लिए काउंसलर और मंत्री के रुप में काम किया. फिर 2010 से 2012 तक नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय में अमेरिका डिवीजन का नेतृत्व किया. जावेद अशरफ ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में वर्ष 2016 तक प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में संयुक्त सचिव के तौर पर भी उन्होंने अपनी सेवाएं दी हैं.

प्रधानमंत्री कार्यालय में उनके पोर्टफोलियो में विदेश मंत्रालय, परमाणु उर्जा अंतरिक्ष और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद शामिल थे.