पाकिस्तान को लगा 'हाई वोल्टेज' झटका, IMF के सामने लगा गिड़गिड़ाने

पाकिस्तान को IMF की तरफ से ऐसा हाई वोल्टेज झटका लगा कि उसके अधिकारियों ने हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाना शुरू कर दिया. यहां पढ़ें, पूरी कहानी और वजह

पाकिस्तान को लगा 'हाई वोल्टेज' झटका, IMF के सामने लगा गिड़गिड़ाने

नई दिल्ली: भारत को आंख दिखाने वाले इमरान खान नियाजी को हाई वोल्टेज झटका लगा है. महंगाई से जूझ रहे पाकिस्तान को IMF से तगड़ा झटका लगा है और बैठक में पाकिस्तानी अधिकारी IMF के सामने गिड़गिड़ाने लगे.

1. 3 फरवरी से पाकिस्तान और IMF की अहम मीटिंग चल रही थी
2. इस मीटिंग में IMF ने पाकिस्तान को बिजली का करंट लगाया है
3. बिजली का करंट हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि IMF ने कर्ज की तीसरी किश्त देने के लिए पाकिस्तान के सामने बिजली का रेट बढ़ाने की शर्त रख दी है
4. IMF ने साफ कह दिया है कि बिजली के रेट बढ़ाकर पाकिस्तान अपना कर्जा चुकाए
5. कहा जा रहा है कि इस कड़ी शर्त के बाद पाकिस्तान अधिकारियों ने IMF के सामने गिड़गिड़ाना शुरू कर दिया, हाथ जोड़कर बिजली के रेट ना बढ़ाने की गुजारिश की

इसके बाद IMF ने पाकिस्तान को इस कड़ी शर्त से कुछ छूट दी या नहीं. आप ये समझिए कि भारत को परमाणु युद्ध की गीदड़भभकी देने वाले पाकिस्तान की अंदरूनी सच्चाई क्या है. इस देश की हालत असल में कितनी खस्ता है.

पाकिस्तान के हाथ में 'कटोरा'

इमरान साहब कहा था ना हमने हिंदुस्तान से पंगा मत लेना. वर्ना, हाथ में कटोरा होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भाईयों बहनों हमने पाकिस्तान के हाथ में कटोरा पकड़ा दिया है कटोरा. ये बात कितनी सच साबित हुई, कर्ज में डूबे पाकिस्तान को IMF ने भी आईना दिखाया. 

इमरान को 'बिजली का झटका' तगड़ा लगा

पाकिस्तान में आईएमएफ के प्रतिनिधिमंडल की ऊर्जा मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक हुई. इस बैठक में IMF ने पाकिस्तान के सामने कर्ज चुकाने के लिए बिजली का रेट बढ़ाने की शर्त रख दी. IMF अधिकारियों ने कहा कि पूरे देश में बिजली के रेट बढ़ाओ, नहीं तो 45 करोड़ डॉलर कर्ज की तीसरी किश्त रोक देंगे. 

कहा जा रहा है कि इसके बाद पाकिस्तानी अधिकारी IMF के सामने हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाने लगे. कहने लगे कि पाकिस्तान में महंगाई पहले ही रिकॉर्ड स्तर पर है. ऐसे में जनता पर अगर बिजली की बढ़ी हुई. कीमत का बोझ डाला गया, तो कोहराम मच जाएगा.

इतना ही नहीं, पाकिस्तानी अधिकारियों ने IMF से नया टैक्स ना लगाने की भीख भी मांगी. जिसपर IMF ने पाकिस्तान को जून तक थोड़ी राहत दे दी.

कंगाल पाकिस्तान को फौरी राहत

बिजली की कीमत नहीं बढ़ाने की मांग पर IMF से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला. ऐसे में माना यही जा रहा है कि पाकिस्तान को IMF से मिलने वाली 45 करोड़ डॉलर की तीसरी किश्त रुक सकती है और तब महंगाई से पहले से बेहाल पाकिस्तान की हालत और खराब होगी. जनता सड़क पर उतरकर इमरान के ख़िलाफ़ हाय-हाय के नारे लगाएगी.

इसे भी पढ़ें: "ब्लैकहोल" में जाने से बचने के लिए इमरान खान नियाजी ने हाफिज को बनाया बलि का बकरा