अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की तैयारी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग चलाने पर सहमति बनने के आसार दिखाई दे रहे हैं. अमेरिका की डेमोक्रेटिक पार्टियों ने इसके लिए तैयारी कर ली है. 

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की तैयारी
डोनाल्ड ट्रंप की आज बढ़ सकती है मुश्किल

नई दिल्ली: अमेरिका में बुधवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पेश किया जा सकता है. डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने इसके लिए तैयारी शुरु कर दी है. 

ट्रंप ऐसे तीसरे राष्ट्रपति जिनके खिलाफ महाभियोग
डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के ऐसे तीसरे राष्ट्रपति हो सकते हैं जिनके खिलाफ महाभियोग लाया जा सकता है. डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने एक एक करके उनके महाभियोग पर मतदान के लिए तैयार होने की घोषणा कर दी है. अगर ट्रंप के खिलाफ डेमोक्रेट सांसद एकजुट हो गए तो उनके लिए भारी मुश्किल खड़ी हो सकती है. 

ये है महाभियोग की प्रक्रिया
अमेरिका में डेमोक्रेट सांसदों के नेतृत्व वाली प्रतिनिधि सभा में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर मतदान कराए जाने का  प्रस्ताव है. जिसमें यह तय किया जाएगा कि ट्रंप पर लगे आरोपों को स्वीकार किया जाए या नहीं. अगर ट्रंप के खिलाफ आरोप स्वीकार कर लिए जाते हैं तो इसे रिपब्लिकन पार्टी के नेतृत्व वाली सीनेट में भेजा जाएगा. जो कि इस बात पर विचार करेगी कि ट्रंप को पद से हटाने के मामले को आगे बढ़ाया जाए या नहीं.  ट्रंप को कुर्सी से हटाने के लिए दो तिहाई बहुमत की जरुरत होगी. 

ट्रंप के खिलाफ क्या हैं आरोप
डोनाल्ड ट्रंप पर साल 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में संभावित उम्मीदवार और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन समेत दूसरे उम्मीदवारों की छवि खराब करने के लिए यूक्रेन से गैरकानूनी तरीके से मदद मांगने का आरोप है. उन्होंने कथित रुप से अपने विरोधी जो बिडेन और उनके बेटे के खिलाफ यूक्रेन की गैस कंपनी में भ्रष्टाचार के मामले की जांच के लिए यूक्रेन पर दबाव डाला था. इसके अलावा ट्रंप पर संसद के काम में बाधा डालने का भी आरोप है.

क्या कहता है इतिहास?
अमेरिका के संविधान का आर्टिकल 2 का सेक्शन 4 हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव को महाभियोग का अधिकार देता है, और सीनेट को एक कोर्ट की तरह पूरा महाभियोग चलाने का अधिकार देता है. अमेरिका के इतिहास में अब तक दो बार राष्ट्रपति पर महाभियोग चलाया गया है.

1). पहली बार वर्ष 1868 में एंड्रयू जॉनसन पर महाभियोग चलाया गया था, एंड्रयू जॉनसन पर महाभियोग सीनेट में साबित नहीं हो सका था.

2). दूसरी बार वर्ष 1998 में विलियम जेफरसन क्लिंटन पर महाभियोग चलाया गया, बिल क्लिंटन को दो मामलों में दोषी पाया गया था.

हालांकि अमेरिका में अब तक  किसी भी राष्ट्रपति को महाभियोग के बाद हटाया नहीं गया है.  वॉटरगेट कांड में पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन के खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई होती, इससे पहले ही उन्होंने 1974 में इस्तीफा दे दिया था. 

ये भी पढ़ें- क्या है अमेरिका में राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग का इतिहास

ये भी पढ़ें- इतना आसान नहीं है ट्रंप के खिलाफ महाभियोग