कोरोना से जंग में भारत बेहतर, दस लाख में सिर्फ 9 संक्रमण के मामले

भारत में सवा सौ करोड़ वाली जनसंख्या के परिदृश्य में 10 लाख की आबादी पर सिर्फ 9 लोगों को संक्रमण और इस तरह कोरोना से जंग में भारत की स्थिति बहुत अच्छी है..

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Apr 19, 2020, 12:15 PM IST
    1. संक्रमण के प्रसार में भी भारत की सफलता
    2. सबसे प्रभावित अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन समेत अन्य देशों का हाल
    3. आईसीएमआर ने दिए आंकड़े
कोरोना से जंग में भारत बेहतर, दस लाख में सिर्फ 9 संक्रमण के मामले

नई दिल्ली: भारत कोरोना से युद्ध में दुनिया के बाकी देशों से बेहतर चल रहा है. ये जानकारी मिली है भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों से. भारत की कुल जनसंख्या को ध्यान में रख कर हर 10 लाख की आबादी में कोरोना के सिर्फ 9 मरीज पाए गए हैं और यह अनुपात दुनिया में सबसे कम है. दुनिया में नज़र डालें तो प्रत्येक 10 लाख की आबादी में अमेरिका में 1,946 मरीज हैं,  इटली में 2,732, फ्रांस में 2,265 और स्पेन में सर्वाधिक 3,864 मरीज हैं.

संक्रमण के प्रसार में भी भारत की सफलता

भारत ने कोरोना संक्रमण के प्रसार में भी सफलता दर्ज की है. भारत में कोरोना मौतें भी कम हुई हैं. आंकड़े बताते हैं कि प्रति 10 लाख आबादी पर भारत में कोरोना से होने वाली मौतें विश्व में सबसे कम हैं जिनका प्रतिशत 0.3 है. दुनिया में कोरोना मौतों के आंकड़े देखें तो अब तक फ्रांस में 263, इटली में 358 और स्पेन में कोरोना से 402 मौतें हुई हैं.

संक्रमण के प्रसार के नियंत्रण के दुनियावी आंकड़े देखें तो भी भारत की सफलता साफ़ दर्शित होती है. भारत में जिस समय संक्रमण के मामले 10 हजार के हुए थे तब तक 2,17,554 लोगों की कोरोना जांच कर ली गई थी.

सबसे प्रभावित अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन समेत अन्य देशों का हाल

वहीं, कनाडा में इतने मामले 2,95,065 लोगों की जांच के बाद सामने आए थे। अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन समेत कई देशों में संक्रमितों की संख्या दो-तीन दिनों में ही 75 से 3,000 हो गई। जबकि भारत में इतना ही संक्रमण फैलने में चार दिन लगे थे। इसी तरह 6,000 से 12,000 मामले होने में भारत को छह दिन लगे, जबकि दूसरे देशों में चार दिन लगे।

आईसीएमआर ने दिए आंकड़े

आईसीएमआर द्वारा दिए गए आंकड़े बताते हैं कि ब्रिटेन में साढ़े तीन लोगों की जांच में एक मामला संक्रमण का सामने आता है वहीं भारत में 24 की जांच में एक पॉजिटिव मामला प्राप्त होता है. इसी तरह  आईसीएमआर ने बताया कि जापान में एक कोरोना पॉजिटिव के पीछे साढ़े ग्यारह लोगों जांच की जाती है, और इटली में इसके लिए साढ़े छह लोगों की तथा अमेरिका में साढ़े पांच लोगों की जांच होने पर एक संक्रमण का मामला सामने आता है.

इसे भी पढ़ें: मॉरीशस, भूटान और सेशेल्स को भी भारत की मदद का आश्वासन

इसे भी पढ़ें: नहीं सुधर रहे जाहिल, इंदौर में स्वास्थ्य विभाग की टीम पर किया जानलेवा हमला

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़