नेपाल में बड़ा सियासी संकट, बहुमत खो चुके पीएम ओली की कुर्सी जाना तय

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को तगड़ा झटका लगा है. वह सदन में बहुमत साबित करने में विफल हो गए हैं.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 10, 2021, 07:11 PM IST
  • नेपाली संसद में ओली को नहीं मिला बहुमत
  • केपी शर्मा ओली की कुर्सी जाना तय
नेपाल में बड़ा सियासी संकट, बहुमत खो चुके पीएम ओली की कुर्सी जाना तय

नई दिल्ली: नेपाल की राजनीति में बड़ा बदलाव हुआ है. केपी शर्मा ओली के नेतृत्व वाली सत्तारूढ़ पार्टी सदन में बहुमत साबित करने में नाकाम रही है. अब प्रधानमंत्री पद से केपी शर्मा ओली को इस्तीफा देना पड़ सकता है.

केपी शर्मा ओली की कुर्सी जाना तय

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली को तगड़ा झटका लगा है. वह सदन में बहुमत साबित करने में विफल हो गए हैं. अब उन्हें प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना होगा. नेपाल की राजनीति में ये बड़ा फेरबदल का समय है.

नेपाली संसद में ओली को नहीं मिला बहुमत

नेपाल की संसद प्रतिनिधि सभा में विश्वास का मत लेने के लिए हुए मतदान में ओली के पक्ष में सिर्फ 93 वोट ही पड़े.जबकि विपक्ष में 124 सांसदों ने मतदान किया. ओली की अपनी पार्टी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी यूएमएल के 28 सांसदों ने व्हिप का उल्लंघन करते हुए सदन में अनुपस्थित हो गए थे.  

ये भी पढ़ें- श्रीलंका दौरे पर दिग्गजों की गैरमौजूदगी में इन खिलाड़ियों को मिलेगा हुनर दिखाने का मौका

खुद पार्टी के नेताओं ने दिया धोखा

फ्लोर टेस्ट के पहले ही ओली को एक बड़ा झटका लगा था जब उनकी पार्टी के सांसदों के एक वर्ग ने सोमवार को संसद के विशेष सत्र में भाग नहीं लेने का फैसला किया था. पार्टी के एक नेता भीम रावल ने कहा था कि पार्टी के असंतुष्ट गुट के 20 से अधिक विधायकों ने सत्र का बहिष्कार करने का फैसला किया.

केपी शर्मा ओली को फरवरी 2018 में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओवादी सेंटर) के समर्थन से प्रधानमंत्री चुना गया था जिसके अध्यक्ष पुष्प कमल दहल उर्फ प्रचंड हैं लेकिन मार्च में सुप्रीम कोर्ट ने पार्टी के विलय को रद्द कर दिया था. बीते साल से भारत और नेपाल के संबंधों में कड़वाहट बढ़ गई है.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़