1 अक्टूबर से गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना पड़ेगा भारी, अ‍ब लगेगा इतना जुर्माना

आगामी 1 तारीख से गाड़ी चलाने कई सारे नियमों में बदलाव होने जा रहा है. ऐसे में एक नियम वाहन चालकों के लिए आ रहा है, जिसमें गाड़ी चलाते वक्त फोन पर बात करना भारी पड़ेगा.

1 अक्टूबर से गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना पड़ेगा भारी, अ‍ब लगेगा इतना जुर्माना
फाइल फोटो

नई दिल्लीः आगामी 1 तारीख से गाड़ी चलाने कई सारे नियमों में बदलाव होने जा रहा है. ऐसे में एक नियम वाहन चालकों के लिए आ रहा है, जिसमें गाड़ी चलाते वक्त फोन पर बात करना भारी पड़ेगा. इस नए नियम के तहत मोबाइल फोन का इस्तेमाल केवल रूट नेविगेशन के लिए हो सकेगा. बात करते हुए पकड़े जाने पर पांच हजार रुपये तक का जुर्माना देना होगा. 

नोटिफाई किया नया नियम
सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने इस नए नियम को नोटिफाई कर दिया है. नए नियम के मुताबिक गाड़ी चलाते समय हाथ में मोबाइल फोन का इस्तेमाल केवल रूट नेविगेशन (route navigation) के लिए इस तरह से किया जाएगा कि वाहन चलाते समय ड्राइवर का ध्यान भंग न हो. हालांकि, ड्राइविंग करते समय मोबाइल से बात करने पर 1 हजार से 5 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है.

यह नियम पिछले साल मोटर व्हीकल एक्ट में किए गए बदलाव से जुड़े हैं. एक्ट के कुछ नियम पिछले साल लागू हो गए थे. बयान के मुताबिक, आईटी सर्विस और इलेक्ट्रॉनिक मॉनिटरिंग के इस्तेमाल से देश में ट्रैफिक से जुड़े नियम बेहतर तरीके से लागू होंगे. साथ ही ड्राइवरों के उत्पीड़न पर रोक लगेगी.

कागजात की मांग नहीं कर सकेंगे पुलिस अधिकारी
बयान के मुताबिक, वेब पोर्टल पर रिवोक्ड और डिस्क्वालीफाई किए गए ड्राइविंग लाइसेंस की जानकारी क्रोनोलॉजिकली अपडेट की जाएगी. इससे अथॉरिटीज को ड्राइवर्स के व्यवहार की मॉनिटरिंग में मदद मिलेगी. नियमों के मुताबिक, यदि वाहन से जुड़े कागजात की वैधता इलेक्ट्रॉनिक तरीके से हो जाती है तो पुलिस अधिकारी फिजिकल तौर पर कागजात की मांग नहीं कर सकेंगे.

मोबाइल पर बात करना दुर्घटना का बड़ा कारण
गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना वाहन दुर्घटना का एक बड़ा कारण हो गया है. लोग गाड़ी चलाते वक्त भी मोबाइल पर बात करते रहते हैं. ऐसे में उनका सड़क पर चलते वक्त ध्यान भटक जाता है, जिससे दुर्घटनाएं होती हैं. इस नए नियम के लागू होने से मोबाइल को केवल डैशबोर्ड के आगे लगाकर रूट नेविगेशन के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि ऐप आधारित कैब सेवा से जुड़े ड्राइवर ही इस नियम का पालन करते हैं. 

यह भी पढ़ेंः ड्राइविंग लाइसेंस और ई-चालान तक के बदल रहे नियम, आप भी जान लीजिए