ई-कॉमर्स साइट पर नहीं बिक पाएंगे Made in China उत्पाद, ड्रैगन को चौतरफा घेरने की तैयारी

देश भर में चल रही चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मुहिम के बीच अब सरकार को व्यापारी संगठन ने एक सुझाव दिया है. 

ई-कॉमर्स साइट पर नहीं बिक पाएंगे Made in China उत्पाद, ड्रैगन को चौतरफा घेरने की तैयारी
फाइल फोटो

नई दिल्लीः देश भर में चल रही चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मुहिम के बीच अब सरकार को व्यापारी संगठन ने एक सुझाव दिया है. कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने सरकार से कहा है कि ऑनलाइन कंपनियों द्वारा बेचे जाने वाले उत्पादों पर भी इस तरह का जिक्र होना चाहिए कि वो किस देश में बना है. कैट का कहना है कि ज्यादातर ई-कॉमर्स कंपनियों पर चीनी उत्पादों को बेचा जा रहा है. 

इनको दिया सुझाव
व्यापारी संगठन ने केंद्रीय कॉमर्स मंत्री पीयूष गोयल को इस बात का सुझाव देते हुए कहा है कि इन कंपनियों के लिए ऐसा करने का प्रावधान जरूरी किया जाए. हमारी सहयोगी वेबसाइट zeebiz.com के अनुसार,  कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इससे ग्राहकों को सामान खरीदने या नहीं खरीदने के लिए निर्णय लेने में आसानी होगी. संगठन के मुताबिक ज्यादातर ई-कॉमर्स पोर्टल चीन में बने उत्पाद बेचते हैं. लेकिन ग्राहकों को इस बात की जानकारी नहीं होती. ऐसे में चीनी सामान का बहिष्कार करने की इच्छा रखने वाले ग्राहक ऐसा नहीं कर पाते हैं.

बना लिया है सरकार ने नियम
केंद्र सरकार ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए एक नया नियम ला रही है. हालांकि इसकी अभी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है.  इसके तहत कंपनियों को बेचे जाने वाले अपने सभी उत्पादों पर यह लिखना होगा कि वे भारत में बने हैं या किसी अन्य देश में.

भारत सरकार के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक, चीन को चौतरफा घेरने की तैयारी हो गई है. इसके लिए आर्थिक मोर्चे पर चीन को सबसे ज्यादा चोट पहुंचाई जाएगी. इसके लिए सरकार की तरफ से पूरा खाका भी तैयार किया गया है. इसके साथ ही भारत में आने से पहले चीन की कंपनियों की कड़ी जांच पड़ताल होगी. 

यह भी पढ़ेंः क्‍या सरकार जल्द ही करने वाली है एक और आर्थिक पैकेज का ऐलान?

ये भी देखें-