Indian Railways: वंदेभारत से सफर करने वालों के ल‍िए आई बड़ी खुशखबरी, सुनकर खुशी से उछल पड़े यात्री
topStories1hindi1461520

Indian Railways: वंदेभारत से सफर करने वालों के ल‍िए आई बड़ी खुशखबरी, सुनकर खुशी से उछल पड़े यात्री

IRCTC: रेलवे म‍िन‍िस्‍ट्री की तरफ से नई तकनीक को आने वाली ट्रेनों में से एक चौथाई में इम्‍पलीमेंट क‍िया जाएगा. इससे ट्रेन को लंबी दूरी तय करने में पहले के मुकाबले कम समय लगेगा.

Indian Railways: वंदेभारत से सफर करने वालों के ल‍िए आई बड़ी खुशखबरी, सुनकर खुशी से उछल पड़े यात्री

Vande Bharat Express: भारतीय रेलवे का अगस्‍त 2023 तक देश के 75 शहरों को सेमी हाईस्‍पीड ट्रेन वंदे भारत से जोड़ने का प्‍लान है. फ‍िलहाल देश के पांच अलग-अलग रूट पर वंदे भारत ट्रेनों का संचालन क‍िया जा रहा है. इन ट्रेनों के चलने से यात्र‍ियों के ल‍िए काफी सहूल‍ियत हो गई है. अब कम समय में ज्‍यादा सफर तय क‍िया जा सकता है. कई मीड‍िया र‍िपोर्ट में दावा क‍िया गया था क‍ि आने वाले समय में इंटरस‍िटी और शताब्‍दी एक्‍सप्रेस को वंदे भारत ट्रेनों से र‍िप्‍लेस क‍िया जाएगा.

ट्रेन को धीमा करने की जरूरत नहीं होगी
अब खबर है क‍ि आने वाले समय में वंदे भारत ट्रेन की रफ्तार को और बढ़ाने के ल‍िए रेलवे म‍िन‍िस्‍ट्री तकनीक में बदलाव करने का प्‍लान कर रही है. इससे मोड़ पर ट्रेन को धीमा करने की जरूरत नहीं होगी और ट्रेन एक समान रफ्तार पर ट्रैक को पार कर जाएगी. रेलवे म‍िन‍िस्‍ट्री की तरफ से नई तकनीक को आने वाली ट्रेनों में से एक चौथाई में इम्‍पलीमेंट क‍िया जाएगा. इससे ट्रेन को लंबी दूरी तय करने में पहले के मुकाबले कम समय लगेगा.

ट्रेन की औसत गत‍ि कम हो जाती है
आपको बता दें अभी घुमावदार ट्रैक पर ट्रेन को धीमा करके न‍िकालना होता है. इस कारण ट्रेन की औसत गत‍ि कम हो जाती है और ट्रेन को ज्‍यादा टाइम लगता है. नई तकनीक यूज होने पर ट्रेन तेज रफ्तार में मोड़ से गुजर सकेगी. सूत्रों से म‍िली जानकारी के अनुसार मौजूदा ट्रैक पर ही 'झुकाव तकनीक' वाली वंदे भारत ट्रेन को चलाने की तैयारी चल रही है. इस टेक्‍नीक के बाद ट्रेन खुद घुमावदार ट्रैक पर झुक जाएगी, इसका पता ट्रेन में बैठे यात्री को भी नहीं लग सकेगा.

आने वाले समय में रेल मंत्रालय का प्‍लान देशभर में 400 वंदे भारत ट्रेन चलाने का है. इन 400 ट्रेनों में से लंबी दूरी की 100 ट्रेनों में 'झुकाव तकनीक' का इस्‍तेमाल क‍िया जाएगा. अभी इस तकनीक पर इटली, रूस, स्विट्जरलैंड, चीन, जर्मनी आद‍ि देशों में ट्रेनें चल रही हैं.

पाठकों की पहली पसंद Zeenews.com/Hindi, अब किसी और की जरूरत नहीं

Trending news