close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ENGvsSA ICC World Cup: 145 की रफ्तार से अमला के हेलमेट से टकराई गेंद, जानिए- फिर क्या हुआ

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup 2019) का पहला मैच इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेला जा रहा है. 

ENGvsSA ICC World Cup: 145 की रफ्तार से अमला के हेलमेट से टकराई गेंद, जानिए- फिर क्या हुआ
हाशिम अमला पांच रन बनाकर पवेलियन लौट गए. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप (World Cup 2019) गुरुवार (30 मई) को इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका (England vs South Africa) के मुकाबले के साथ शुरू हो गया. इंग्लैंड (England) ने ओवल (लंदन) में खेले जा रहे मैच में पहले बैटिंग की और 8 विकेट पर 311 का स्कोर बनाया. उसकी ओर से चार खिलाड़ियों ने फिफ्टी लगाई. इसके जवाब में दक्षिण अफ्रीका ने शुरुआत ही की थी कि उसे बड़ा झटका लग गया. यह झटका भी उसे बिना विकेट गिरे ही लगा. 

दक्षिण अफ्रीकी (South Africa) पारी की शुरुआत हाशिम अमला (Hashim Amla) और क्विंटन डिकॉक ने की. अभी पारी का चौथा ओवर ही था और स्कोर पर 14 रन ही जुड़े थे कि हाशिम अमला चोटिल हो गए. वे जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) की एक बाउंसर को सही ढंग से नहीं पढ़ पाए और जब तक वे उस गेंद को खेलते, तब तक वह उनके हेलमेट से टकरा चुकी थी. इस गेंद की रफ्तार 144.8 किमी प्रति घंटे थी. 

यह भी पढ़ें: ICC World Cup: रबाडा और आर्चर ने दिखाया दम, ये 6 गेंदबाज हो सकते हैं गेम चेंजर

हाशिम अमला ने हेलमेट उतारकर अपने माथे को सहलाया. इंग्लैंड के खिलाड़ी भी उनके करीब जा पहुंचे. सबने कुशलक्षेम पूछी. तब तक दक्षिण अफ्रीकी फिजियो और डॉक्टर पहुंच गए. उन्होंने अमला की चोट देखी, उनसे बात की और उन्हें पवेलियन लौटने की सलाह दी. अमला ने उनकी बात मान ली. जब वे पवेलियन लौट रहे थे, तब तक वे पांच रन बना चुके थे. 

अभी आधिकारिक तौर पर यह नहीं बताया गया है कि हाशिम अमला फिर से बैटिंग करेंगे या नहीं. लेकिन अगर हम पहली नजर में उनकी चोट देखने के आधार पर बात करें तो वे दोबारा बैटिंग करने लौट सकते हैं. 

यह भी पढ़ें: इमरान ताहिर 44 साल के ICC World Cup इतिहास में पहला ओवर फेंकने वाले पहले स्पिनर बने

हाशिम अमला के पास इस मैच में एक रिकॉर्ड बनाने का मौका है. अगर वे 90 रन बना लेते हैं, तो वनडे क्रिकेट में सबसे कम पारियों में 8000 रन पूरे कर लेंगे. लेकिन ऐसा तभी होगा, जब उन्हें पर्याप्त ओवर बैटिंग का मौका मिलेगा.