close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IGIA: यूएई जाने के लिए नेपाली युवती ने किया कुछ ऐसा, जान कर रह जाएंगे हैरान

इमीग्रेशन अधिकारियों को चकमा देने के लिए नेपाल मूल की इस महिला ने अपने पासपोर्ट में की चार तरह की कारस्‍तानी, एयरपोर्ट अधिकारी भी देखकर रह गए हैरान. 

IGIA: यूएई जाने के लिए नेपाली युवती ने किया कुछ ऐसा, जान कर रह जाएंगे हैरान
रोजगार की तलाश में विदेश जाने के इच्‍छुक युवक-युवती गैरकानूनी तरीकों का कर रहे हैं इस्‍तेमाल (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: रोजगार की तलाश में विदेश जाने की चाहत में नेपाल मूल की युवती ने कुछ ऐसा किया, जिसे देखकर इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट के सुरक्षा अधिकारी भी हैरान हो गए. दरअसल, इस युवती ने अपने पुराने गुनाहों पर पर्दा डालने के लिए पहले पासपोर्ट में छेड़छाड़ की और बाद में फर्जी इम्‍प्‍लायमेंट परमिट बनाकर इमीग्रेशन अधिकारियों को चकमा देने का प्रयास किया. नेपाल मूल की यह युवती अपने मंसूबों में सफल हो पाती, इससे पहले इमीग्रेशन अधिकारियों ने उसकी हर चालाकी पर से पर्दा उठा दिया. फिलहाल, नेपाल मूल की यह युवती दिल्‍ली एयरपोर्ट पुलिस की गिरफ्त में है. दिल्‍ली एयरपोर्ट पुलिस ने इस युवती के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 468, 471 और पासपोर्ट एक्‍ट की धारा 12 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. 

यह भी पढ़ें: भारतीय पोसपार्ट पर इंडोनेशिया जाने की कोशिश में था म्यांमार मूल का नागरिक, गिरफ्तार

एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात एक वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, नेपाल मूल की इस युवती की पहचान प्रमिला के रूप में हुई है. प्रमिला अमीरात एयरलाइंस की फ्लाइट EK-517 से संयुक्‍त अरब अमीरात जाने के लिए दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट पहुंची थी. नेपाल मूल की प्रमिला पहले चरण में चेक-इन काउंटर पर तैनात एयरलाइंस अधिकारियों को चकमा देने में सफल रही, लेकिन इमीग्रेशन जांच के दौरान उसकी हर चालाकी पर से पर्दा उठ गया. दरअसल, पासपोर्ट की जांच के दौरान, इमीग्रेशन अधिकारियों ने पाया कि पासपोर्ट के पेज नंबर 11 और 12 में दर्ज इमीग्रेशन कैंसिलेशन स्‍टैंप को छिपाने के लिए आरोपी ने यूएई का वीजा स्‍टीकर चिपका दिया था. वहीं पेज नंबर दस पर लगे स्‍टीकर को भी बड़ी सावधानी से हटाया गया था, जो कि एक गैरकानूनी कदम है. 

यह भी पढ़ें: अगरतला एयरपोर्ट: इनके कदमों पर CISF की नजर, दो विदेशी पहुंचे सलाखों के पीछे

यह भी पढ़ें: मां की हसरत पूरा करने के लिए किया यह गुनाह, सलाखों के पीछे पहुंच गए बेटा और बहू

एयरपोर्ट की सुरक्षा में तैनात वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान इमीग्रेशन अधिकारियों ने पासपोर्ट के पेज नंबर 27 पर लगे फारेन इंप्‍लायमेंट परमिट को भी फर्जी पाया. जांच में पता चला कि यह  फारेन इंप्‍लायमेंट परमिट बीके कमल नामक एक शख्‍स को असल में जारी किया गया है. इतना ही नहीं, पूछताछ के दौरान नेपाल मूल की यह युवती लगातार इमीग्रेशन अधिकारियों को गुमराह करने की कोशिश करती रही. इमीग्रेशन अधिकारियों ने जब हर गुनाह के साक्ष्‍य सामने रखना शुरू किए तो यह युवती टूट गई और अपना गुनाह कबूल कर लिया. नेपाल मूल की इस युवती का कबूलनामा लेने के बाद इमीग्रेशन अधिकारियों ने इस प्रमिला को दिल्‍ली एयरपोर्ट पुलिस के हवाले कर दिया है. दिल्‍ली एयरपोर्ट पुलिस ने प्रमिला के खिलाफ विभिन्‍न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. 

यह भी पढ़ें: मुंबई एयरपोर्ट से CISF ने बरामद की लाखों की विदेशी नकदी, दो विदेशी नागरिक गिरफ्तार

सूत्रों के अनुसार, मामले की जांच कर रही एयरपोर्ट पुलिस का मानना है कि पासपोर्ट में इतनी बारीकी से छेड़छाड करना सिर्फ आरोपी युवती के अकेले का काम नही है. इस गुनाह में किसी अन्‍य शख्‍स ने भी उसकी मदद की है. एयरपोर्ट पुलिस आरोपी प्रमिला से पूछछात कर इस गुनाह में शामिल अन्‍य लोगों के बाबत जानकारी जुटाने में लगी हुई है. एयरपोर्ट पुलिस को जांच में यह भी पता चला है कि कुछ इसी तरह एक बार पहले भी आरोपी युवती संयुक्‍त अरब अमीरात जाने की कोशिश कर चुकी है. पिछली बार भी इमीग्रेशन अधिकारियों ने ऐन वक्‍त पर इस युवती को ऑफ लोड कराया था. कानूनी प्रक्रिया से बाहर आने के बाद यह युवती एक बार फिर विदेश जाने की कोशिश में लग गई, जिसे इमीग्रेशन अधिकारियों ने समय रहते नाकाम कर दिया.