CBSE Board Exams 2021 Update: English और Sanskrit विषयों में किए गए बदलाव, नए Academic Session से होंगे लागू

सीबीएसई (CBSE) बोर्ड ने आगामी परीक्षा (CBSE Board Exams 2021) से पहले दो अहम विषयों, संस्कृत (Sanskrit) और अंग्रेजी (English) में बदलाव किए हैं. दोनों विषयों को दो लेवल पर पेश किया जाएगा. पहले ये दो लेवल सिर्फ मैथ और हिन्दी विषय में ही उपलब्ध थे.

CBSE Board Exams 2021 Update: English और Sanskrit विषयों में किए गए बदलाव, नए Academic Session से होंगे लागू
CBSE ने किया विषयों में बदलाव

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कुछ विषयों में बदलाव किए हैं. आने वाले नए एकेडमिक सेशन से इंग्लिश (English) और संस्कृत (Sanskrit) दो लेवल पर पेश किए जाएंगे. हाल ही में आए एक बयान में शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) ने कहा है कि सीबीएसई साल 2021 से इंप्रूवमेंट परीक्षा (Improvement Exam) भी शुरू करने वाला है. मैथ और हिन्दी विषय पहले से ही दो लेवल में उपलब्ध हैं.

 आपकी जानकारी के लिए बता दें, 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं (CBSE 10, 12 Board Exams 2021) में कंपीटेंसी (Competency) आधारित प्रश्न शुरू होंगे. 

रिवाइज्ड सिलेबस के आधार पर पूछे जाएंगे सवाल

केंद्रीय विद्यालय (Kendriya Vidyalaya) के शिक्षकों और छात्रों के साथ बातचीत करते हुए शिक्षा मंत्री (Education Minister) रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि रिवाइज्ड सिलेबस (Revised Syllabus) के आधार पर 10वीं और 12वीं के बोर्ड एग्जाम (CBSE Board Exams 2021) में सवाल पूछे जाएंगे और साथ ही जेईई (JEE) और नीट (NEET) एग्जाम में भी रिवाइज्ड सिलेबस (Revised Syllabus) के आधार पर ही सवाल पूछे जाएंगे.

शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक, स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने भी इस मामले में कदम उठाने शुरू कर दिए हैं.

यह भी पढ़ें- कब होगी UP Board की परीक्षा? Panchayat Chunav की वजह से 56 लाख छात्र हैं परेशान

नई शिक्षा नीति से एजुकेशन को मिलेगा बढ़ावा

हाल की रिपोर्ट के मुताबिक, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (New National Education Policy) के ज्यादातर फीचर्स एनसीएफ (नेशनल करीकुलम एंड फ्रेमवर्क, National Curriculum and Framework) के अंतर्गत कवर होंगे और स्कीम को सेंट्रल गवर्नमेंट के तहत स्पॉन्सर किया जाएगा. एनसीएफ (NCF) को लागू करने का काम शुरू हो चुका है, एकेडमिक सेशन 2021-22 (Academic Session) में इसे और भी ज्यादा बढ़ाया जाएगा.

नई शिक्षा नीति (New Education Policy) पर शिक्षा मंत्री ने कहा था कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को भारत के भविष्य को ध्यान में रखकर बनाया गया है. इसमें किताबी ज्ञान के बजाय प्रैक्टिकल नॉलेज (Practical Knowledge) पर ज्यादा जोर दिया गया है. स्कूल लेवल से ही बच्चों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) से इंट्रोड्यूस किया जाएगा.

शिक्षा से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.