close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रेल से भी तेज भागते सपनों की कहानी है 'रेलवे राजू', 29 मार्च को हो रही है रिलीज

फिल्म में गैंगवार और बनारस की गलियों में पलते सपनों और तनाव का दिखाया गया है. 

रेल से भी तेज भागते सपनों की कहानी है 'रेलवे राजू', 29 मार्च को हो रही है रिलीज

नई दिल्ली: निर्देशक दिनकर राव की फिल्म 'रेलवे राजू' 29 मार्च को रिलीज हो रही है. फिल्म में गैंगवार और बनारस की गलियों में पलते सपनों और तनाव का दिखाया गया है. फिल्म की कहानी रेल से भी तेज भागते सपनों और उन सपनों का पीछा करते राजू उर्फ रेलवे राजू (सनी शाह) के इर्द-गिर्द घूमती है. ग्रेजुएट होकर भी जब नौकरी नहीं मिलती तो राजू (सनी शाह) अपना गांव छोड़कर बनारस आ जाता है. वह टूरिस्ट गाइड, टिकट एजेंट बनकर पैसे कमाना चाहता है लेकिन जिंदगी को कुछ और ही मंजूर है ,वह उसे कुश्ती के अखाड़े तक ले आती है.

जीवन के चक्र में आगे बढ़ते हुए वह गैंगवार के दलदल में फंस जाता है और अपराध की दुनिया में घुस जाता है. सनी शाह के अपोजिट अभिनेत्री लावण्या हैं, जो माया के किरदार में हैं. यह फिल्म ऐसे ही युवाओं की कहानी है जो अपने सपनों का पीछा करते हुए बनारस आ तो गए लेकिन दिशाहीनता की स्थिति में जो भी रास्ता मिला उसी पर चल दिये उनके पास न तो पैसा था न ही ऊंचे सम्पर्क. 

लावण्या राव एक चित्रकार, लेखिका और अभिनेत्री हैं
एक अनजान शहर था और दोस्तों की खाल में छिपे भेड़िये थे. जिन्होंने उनसे उनके सपने देखने की भी कीमत वसूल की. राजू (सनी शॉ) एक स्टार पहलवान है, जो वाराणसी के खूनी गिरोह का कुश्ती दंगल का स्टार है. माया (लावण्या राव) गंगा के किनारे रहने वाली एक लड़की है जिसे "शॉटगन दुल्हन" शादी में मजबूर किया गया है. 


फिल्म अभिनेत्री लावण्या राव

राजू और माया प्यार में पड़ जाते हैं लेकिन राजू के अपराध के अपने जीवन की वजह से अलग हो जाते हैं. बाहुबली भैयाजी और सुलेमान कुरैशी ने गिरोह के बीच शांति समझौते में अपने शोहदे राजू की बलि देने का फैसला करते हैं अंडरवर्ल्ड में खींच गई माया, रेलवे राजू की कहानी बयां करती है. रेलवे राजू उन युवा पुरुषों और महिलाओं के जीवन की पड़ताल करता है जो एड्रेनालाईन महसूस करना पसंद करते हैं, कुछ ऊंचाइयों के साथ, अन्य लोग बंदूक के साथ और उत्तर प्रदेश गिरोह की दुनिया में आते हैं.

बेरोजगारी और भूखे पेटों की लाइन वाले देश में युवा की हताशा मुख्य नायक राजू में प्रकट होती है, जो स्नातक (graduate) होने के बावजूद नौकरी पाने में असफल होने के बाद अंडरवर्ल्ड में प्रवेश करता है. "शॉटगन दुल्हन" माया के जीवन की ऊब से उपजे बोल्ड कदम ले लिए जाने के मूड का उतार-चढ़ाव लाती है, उसे प्यार की तलाश है लेकिन एक अपराधी के साथ प्रेम उसे भावनात्मक अशांति देता है.

राजू (सनी शाह ) क्राइम की दुनिया में घुस चुका है. राजू और उसके चार दोस्त एक दूसरे के बहुत करीब आते हैं और क्राईम और बडे गैंगस्टर बनने के सपने देखते हैं. इस गैंगवार में एक एक कर के मरते हैं. रेलवे राजू का किरदार निभाने वाले अभिनेता सनी शॉ कहते हैं, “मुझे वाराणसी में असली कुश्ती के दंगल से गुजरना पड़ा.

निर्देशक दिनकर राव 
मैंने फिल्म में कई एक्शन सीक्वेंस किए. मेरे लिए यूपी का एक गैंगस्टर खेलना एक "महाकाव्य" अनुभव था क्योंकि मैंने अपना बचपन वहाँ बिताया था.” लावण्या राव एक चित्रकार, लेखिका और अभिनेत्री हैं, लावण्या ने कहा, "यह किरदार करते समय मैं बेहद दुखी हो गई क्योंकि भारत में अधिकतर स्त्रियां इतना ही घुटन भरा जीवन जीती हैं."  

निर्देशक दिनकर राव ने इससे पहले मुंबई और गुजरात में हुए दंगों में एक महिला के बारे में Zoya the black widow को निर्देशित किया था. उस फिल्म का आधिकारिक चयन स्ट्रासबर्ग इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल और मिलान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में किया गया था. यह सीबीएफसी द्वारा प्रतिबंधित कर दिया गया था और अंत में ट्रिब्यूनल द्वारा 26 कट के साथ पास किया गया था. हरिद्वार में अपने शास्त्रीय गायक की राख को विसर्जित करने के लिए चल रही एक बेटी के बारे में उनकी दूसरी फिल्म 'अस्थि' का प्रीमियर कान मेट्रेज में किया गया था. 

वह एक अंतरराष्ट्रीय कलाकारों के साथ एक फिल्म पापू फोटोवाल का निर्देशन कर रहे हैं और यह जॉन निकोल्सन की डायरी के बारे में है, जो 1857 के ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के नायक थे और ब्रिटिश द्वारा छिपाए गए खजाने के बारे में है. थार के स्नेक डांसर के रूप में फिल्म बाजार गोवा में एक और डॉक्यूमेंट्री फिल्म “ Dancing Daughters” डब्ल्यूआईपी लैब में थी और इसे फिल्माया जा रहा है.

रेलवे राजू के बारे में वह कहते हैं, इस " शू स्ट्रिंग “ बजट में गंगा में एक्शन के, गाने के,तथा बाहरी दृश्यों सहित 100+ दृश्यों को शूट करना बहुत कठिन है. मैं हमेशा उत्तर प्रदेश के सामाजिक पहलुओं के भीतर एक “ गिरोह युद्ध फिल्म ” बनाना चाहता था." दिनकर ने बताया कि फिल्म वकाओ और पीवीआर-बुक माय शो के संयुक्त तत्वाधान में 29 मार्च को फिल्म रिलीज कर रही है.