बड़ी खबर: Batla House Encounter के दोषी Ariz Khan को मिली फांसी की सजा, दिल्ली की साकेत कोर्ट ने सुनाया फैसला

Batla House Encounter को रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस मानते हुए साकेत कोर्ट (Saket Court) ने दोषी आरिज खान (Ariz Khan) को फांसी की सजा सुनाई है. कोर्ट ने कहा कि आरिज जैसे लोग समाज के लिए खतरा हैं.

बड़ी खबर: Batla House Encounter के दोषी Ariz Khan को मिली फांसी की सजा, दिल्ली की साकेत कोर्ट ने सुनाया फैसला

नई दिल्ली: बाटला हाउस एनकाउंटर (Batla House Encounter) के दोषी आरिज खान (Ariz Khan) को कोर्ट ने फांसी की सजा देने का फैसला दिया है. सोमवार को दिल्ली की साकेत कोर्ट (Saket Court) में सजा पर हुई बहस के बाद अदालत ने ये फैसला सुनाया है. कोर्ट ने इस अपराध को रेयरेस्ट ऑफ रेयर केस माना है और आरिज खान को समाज के लिए खतरा बताया है. 

11 लाख का जुर्माना भी लगाया

एडीशनल सेशन जज संदीप यादव की अदालत ने दोपहर 12 बजे सजा पर बहस की शुरुआत करते हुए आरिज पर 11 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया. इसमें से 10 लाख रुपये बाटला हाउस एनकाउंटर के दौरान शहीद हुए दिल्ली पुलिस में इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा (Mohan Chand Sharma) के परिवार को दिए जाएंगे. 

आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिद्दीन से जुड़ा है आरिफ

इंडियन मुजाहिद्दीन के कथित आतंकी आरिज खान को साल 2018 में नेपाल से गिरफ्तार करके यहां लाया गया था. वह घटना के बाद दिल्ली से भागकर वहां छिप गया था. उसे  देश के विभिन्न हिस्सों में हुए बम धमाकों की साजिश में शामिल बताया गया था. 19 सिंतबर 2008 को हुए इस एनकाउंटर में आरिज खान और शहजाद पुलिस टीम पर हमला करके फरार हो गए थे. इसमें शहजाद को पहले ही उम्रकैद की सजा हो चुकी है जबकि आरिज खान फरवरी 2018 में गिरफ्तार हुआ था.

ये भी पढ़ें:- बेहद खूबसूरत हैं जसप्रीत बुमराह की वाइफ संजना गणेशन, देखिए उनकी 10 बेहद ग्लैमरस तस्वीरें

UP के आजमगढ़ का रहने वाला है आरिफ

आरिज खान उर्फ जुनैद यूपी के आजमगढ़ का रहने वाला है. 10वीं तक आजमगढ़ में पढ़ाई करने के बाद आरिज खान यूपी के अलीगढ़ में अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने चला गया, लेकिन फेल हो गया था. आरिज खान के साथ दूसरे आतंकी आतिफ अमीन, आसादुल्ला अख्तर उर्फ हड्डी, मिर्जा शादाब बेग, मोहम्मद हाकिम और अजहर भी थे, वो भी फेल हो गए थे.

ये भी पढ़ें:- होली पर घर जाने की कर रहे हैं तैयारी, रेलवे की पढ़ लें नई गाइडलाइन

लखनऊ कोर्ट में किया पहला बम धमाका

पुलिस के मुताबिक, साल 2007 में लखनऊ कोर्ट में आरिज खान ने पहला बम धमाका किया था और ठीक धमाके से 5 मिनट पहले सभी मीडिया हाउस को मेल भेजकर इसकी जानकारी दी थी. जिसके बाद इंडियन मुजाहीद्दीन का नाम पहली बार सामने आया था. नंवबर 2007 में वाराणसी, फैजाबाद और लखनऊ में बम धमाके किए गए थे क्योंकि लखनऊ की कोर्ट में जैश के 3 आतंकियों की वकीलों ने पिटाई की थी.

भारत के कई शहरों में सीरियल ब्लास्ट

इसके बाद आरिज ने बाकी आतंकियों के साथ मिलकर साल 2008 में जयपुर, अहमदाबाद, सूरत और दिल्ली में बम धमाकों की योजना बनाई और धमाके किए. इन बम धमाकों में 165 लोगों की मौत हुई थी और 535 घायल हुए थे.

ये भी पढ़ें:- J&K: सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में जैश के टॉप कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर

बाटला हाउस एनकाउंटर

13 सिंतबर 2008 को दिल्ली में बम धमाकों के लिए आरिज खान बड़ा साजिद के साथ दिल्ली की लाजपत राय मार्केट से अलार्म घड़ी, सर्किट वायर, प्रेशर कुकर और दूसरे सामान लाया. फिर आतिफ आमीन के साथ दिल्ली की जीके एम ब्लॉक मार्केट में बम रखा. 19 सितंबर 2008 को दिल्ली पुलिस को इस बात बात की जानकारी मिली थी कि दिल्ली बम धमाकों के आरोपी बाटला हाउस में रुके हुए हैं. जिसके बाद रेड की गई. इस रेड में इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा शहीद हुए थे, वहीं आतिफ अमीन और छोटा साजिद मारे गए थे. आरिज खान और शहजाद मोहन चंद शर्मा पर गोलियां चलाते हुए भागने में कामयाब हो गए थे. 

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.