10 दिसंबर को होगा जनरल रावत का अंतिम संस्‍कार, रक्षा मंत्री गुरुवार को संसद में देंगे बयान
X

10 दिसंबर को होगा जनरल रावत का अंतिम संस्‍कार, रक्षा मंत्री गुरुवार को संसद में देंगे बयान

दिल्ली शव लाए जाने से पहले वेलिंगटन में CDS रावत को श्रद्धांजलि दी जाएगी. गुरुवार शाम तक शव दिल्ली पहुंचने का अनुमान है. इसके बाद 10 दिसंबर (शुक्रवार) को दिल्ली में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. 

10 दिसंबर को होगा जनरल रावत का अंतिम संस्‍कार, रक्षा मंत्री गुरुवार को संसद में देंगे बयान

नई दिल्ली/कुन्नूर: भारत के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat), उनकी पत्नी और 11 अन्य लोग तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना का शिकार हो गए. इस दुर्घटना में केवल ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ही बचे हैं, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है. पुलिस और रक्षा सूत्रों के मुताबिक जनरल बिपिन रावत व उनकी पत्नी के पार्थिव शरीर को गुरुवार सुबह कोयंबटूर से हवाई मार्ग से दिल्ली ले जाया जाएगा. वहीं इस हादसे पर गुरुवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह संसद में बयान देंगे.

शुक्रवार को होगा अंतिम संस्कार

दिल्ली शव लाए जाने से पहले वेलिंगटन में CDS रावत को श्रद्धांजलि दी जाएगी. गुरुवार शाम तक शव दिल्ली पहुंचने का अनुमान है. इसके बाद 10 दिसंबर (शुक्रवार) को दिल्ली में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. वायुसेना ने एक ट्वीट में कहा, 'बहुत ही अफसोस के साथ इसकी पुष्टि की जाती है कि दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में जनरल बिपिन रावत, श्रीमती मधुलिका रावत और 11 अन्य की मृत्यु हो गई है.' हादसा तब हुआ जब जनरल बिपिन रावत डिफेंस सर्विसेज स्टॉफ कॉलेज (डीएसएससी) जा रहे थे जहां उन्हें शिक्षकों एवं छात्रों को संबोधित करना था. 

‘कोर्ट ऑफ इंक्वायरी’ के आदेश 

वायुसेना ने कहा कि एमआई-17वीएच हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हुआ है और इस हादसे के कारण का पता लगाने के लिए ‘कोर्ट ऑफ इंक्वायरी’ के आदेश दिए गए हैं. हेलीकॉप्टर ने कोयंबटूर के पास सुलुर वायुसेना अड्डे से उड़ान भरी थी. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि हेलीकॉप्टर ने सुबह करीब साढ़े 10 बजे उड़ान भरी थी और कुन्नूर दमकल केंद्र को 12 बजे घटना की सूचना मिली. प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली रक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCS) को दुर्घटना के बारे में जानकारी दी गई और मंत्रिमंडल के शीर्ष सदस्यों ने जनरल रावत के निधन पर शोक व्यक्त किया. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर शामिल थे. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा और कैबिनेट सचिव राजीव गौबा भी बैठक में शामिल हुए. बैठक में सीसीएस के सदस्यों को दुखद हादसे के बारे में जानकारी दी गई.

यह भी पढ़ें: हेलीकॉप्‍टर क्रैश: 14 लोगों में से केवल ग्रुप कैप्‍टन वरुण सिंह ही बच पाए, इलाज जारी

गिरने से पहले मकान से टकराया था हेलीकॉप्टर

आधिकारिक सूत्रों और एक स्थानीय प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार कोहरे की स्थिति में हेलीकॉप्टर कम ऊंचाई पर उड़ रहा था, इसी दौरान एक घाटी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. हेलीकॉप्टर पेड़ों से टकराते हुए जमीन पर गिरा और गिरते ही उसमें आग लग गई. एक प्रत्यक्षदर्शी पेरुमल ने बताया कि हेलीकॉप्टर गिरते समय एक मकान से भी टकराया. हालांकि घर में हादसे के वक्त किसी के नहीं रहने से कोई हताहत नहीं हुआ लेकिन मकान को इससे नुकसान हुआ. उन्होंने बताया कि आग में झुलसे दो व्यक्ति हेलीकॉप्टर से नीचे गिर गए.

LIVE TV

Trending news