close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

LGvsAAP: SC के फैसले पर संजय सिंह का विवादित ट्वीट, 'न्याय में विलंब न्याय नहीं है'

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार और केंद्र के बीच शक्तियों के बंटवारे पर स्पष्टता का मामला वृहद पीठ के पास भेज दिया है.

LGvsAAP: SC के फैसले पर संजय सिंह का विवादित ट्वीट, 'न्याय में विलंब न्याय नहीं है'
फाइल फोटो

नई दिल्लीः आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर विवादित ट्वीट किया है. संजय सिंह ने गुरुवार को एलजी बनाम दिल्ली सरकार के मामले में आए खंडित फैसले पर यह तीखी प्रतिक्रिया दी है. संजय सिंह ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए. उन्होंने कहा है कि न्याय में विलंब न्याय नहीं है" जज को जनता भगवान मानती है लेकिन भगवान भी इंसाफ़ करने में विफल है. संजय सिंह यहीं नहीं रुके उन्होंने कई मामलों में सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का जिक्र करते हुए सवाल उठाए. 

संजय सिंह ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के करोड़ों लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है. 

संजय सिंह ने अपने ट्वीट में राफेल मामला, सीबीआई बनाम सीबीआई मामलों में आए कोर्ट के फैसलों का भी जिक्र किया. 

आप ने फैसले को बताया दुर्भाग्यपूर्ण
दिल्ली की सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी ने गुरुवार को कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्पष्ट नहीं है. फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने संवाददाताओं से कहा कि दिल्ली के लोगों की परेशानियां जारी रहेंगी.

दिल्ली बीजेपी ने किया स्वागत
बीजेपी की दिल्ली इकाई ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इस फैसले से दिल्ली सरकार की शक्तियों को लेकर मौजूद संशय हट गये हैं. दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि ‘‘भ्रम या विवाद’’ के लिये अब कोई जगह नहीं होनी चाहिए और आप सरकार को विनम्रतापूर्वक सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को स्वीकार कर लेना चाहिए.

उन्होंने ट्विटर पर कहा, ‘‘दिल्ली सरकार की शक्तियों को लेकर मौजूद संशय को हटाने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हम स्वागत करते हैं. इस फैसले के बाद भ्रम या विवाद के लिये कोई जगह नहीं रहनी चाहिए. दिल्ली सरकार को विनम्रतापूर्वक इसे स्वीकार कर लेना चाहिए और राजधानी पर उसी तरह से शासन करना चाहिए जैसा कि उनके सत्ता में आने से पहले होता था.’’

(इनपुट भाषा)