close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

12th Result: केजरीवाल के बेटे ने हासिल किए 96.4% नंबर, जानें स्मृति ईरानी के बेटे के कितने आए मार्क्स

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत दिल्ली के कई मंत्रियों ने ट्विटर पर केजरीवाल को बधाई दी.

12th Result: केजरीवाल के बेटे ने हासिल किए 96.4% नंबर, जानें स्मृति ईरानी के बेटे के कितने आए मार्क्स
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बेटे पुलकित केजरीवाल ने सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा में 96.4 प्रतिशत अंक हासिल किए. वहीं केंद्रीय मंत्री और अमेठी से बीजेपी प्रत्याशी स्मृति ईरानी के बेटे ने भी 12 वीं की परीक्षा पास की है. सीबीएसई की 12वीं के नतीजे गुरुवार को घोषित हुए. 

एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि पुलकित ने नोएडा के एक निजी स्कूल में पढ़ाई की. उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत दिल्ली के कई मंत्रियों ने ट्विटर पर केजरीवाल को बधाई दी.

सुनीता केजरीवाल ने ट्वीट कर दी जानकारी
मुख्यमंत्री की पत्नी सुनीता केजरीवाल ने ट्वीट किया, 'ईश्वर की कृपा और शुभचिंतकों के आशीर्वाद से हमारे बेटे ने सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा में 96.4 प्रतिशत अंक पाया है. बहुत बहुत आभार.’

Arvind Kejriwal's son scores 96.4 % in CBSE Class 12 exam

2014 में मुख्यमंत्री की बेटी हर्षिता ने भी सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा में 96 प्रतिशत अंक हासिल किए थे. बाद में उन्होंने आईआईटी संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) भी पास किया.

स्मृति ईरानी ने जाहिर की खुशी
वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट कर अपने बेटे की सफलता पर खुशी जाहिर की. उन्होंने- मुझे मेरे बेटे जोहर पर गर्व है. मुझे यह बताते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है उसने न सिर्फ विश्व केम्पो चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता है बल्कि  सीबीएसई 12वीं परीक्षा में उसने अच्छा स्कोर किया है. बेस्ट 4 सब्जेक्ट्स में उसके 91 फीसदी मार्क्स बन रहे हैं. इकोनॉमिक्स में उसके 94 फीसदी मार्क्स हैं. 

Arvind Kejriwal's son scores 96.4 % in CBSE Class 12 exam

13 लाख छात्र बैठे थे परीक्षा में
केंद्रीय माध्यमिक परीक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने गुरुवार को 12वीं के नतीजे घोषित किए. सीबीएसई की 12वीं कक्षा की परीक्षा 16 फरवरी को शुरू हुई थी जो पिछले साल की तुलना में पहले शुरू की गयी थी. नतीजों की घोषणा आम तौर पर मई के तीसरे सप्ताह में होती है लेकिन यह भी पहले की तुलना में काफी पहले घोषित की गयी है. करीब 13 लाख छात्र परीक्षा में बैठे थे.