close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्‍ली : संगम विहार में बंदर ने नवजात को छत पर फेंका, अस्‍पताल में हुई मौत

पुलिस के अनुसार बच्‍चे की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है. एम्‍स में रखवाया गया शव.

दिल्‍ली : संगम विहार में बंदर ने नवजात को छत पर फेंका, अस्‍पताल में हुई मौत
(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली : दिल्‍ली के संगम विहार इलाके में चौंकाने वाली घटना सामने आई है. यहां एक बंदर ने शुक्रवार को एक नवजात बच्‍चे को मकान की छत पर फेंक दिया और भाग गया. म‍कान में रहने वाले व्‍यक्ति ने बच्‍चे को पास के अस्‍पताल में भर्ती कराया लेकिन वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

यह घटना शुक्रवार को दक्षिणी दिल्ली के संगम विहार इलाके में हुई. यहां की गली नंबर 16 स्थित विद्यापति के घर की छत पर शुक्रवार सुबह यह नवजात रोते हुए मिला था. विद्यापति यहां अपने परिवार के साथ रहते हैं. उन्‍होंने बच्‍चे के रोने की आवाज सुनी तो जाकर देखा. उस समय वह बच्‍चा छत पर लावारिस पड़ा था. इस पर उन्‍होंने तुरंत बच्‍चे को उठाया और उसे पास के मजीदिया अस्‍पताल में भर्ती कराया. वहां डॉक्‍टरों ने उसका इलाज शुरू किया. लेकिन उसने इलाज के दौरान ही दम तोड़ दिया.

जब बच्‍चे की मौत हो गई तो अस्‍पताल प्रबंधन ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. मामले की जांच के लिए पुलिस मौके पर पहुंची. इसके बाद विद्यापति ने पुलिस को बताया कि बंदर उसकी छत पर बच्चे को फेंक गया था. नवजात की मौत के बाद उसकी पहचान नहीं हो पाई है. दो दिनों बाद भी पुलिस उसके परिजनों के बारे में जानकारी जुटा रही है.

नवजात की मौत के बाद संगम विहार थाना पुलिस ने बच्चे के शव को एम्स में सुरक्षित रखवा दिया है. मामले की जांच में जुटी पुलिस कई सवालों के जवाब तलाश रही है. जैसे बच्चा किसका है? इसे कहां से बंदर लेकर आया? पुलिस ने दिल्ली के सभी थानों को मैसेज भेजकर इस बच्‍चे की जानकारी दे दी है.

पुलिस के मुताबिक नवजात की प्राथमिक जांच में पता चला है कि उसके शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं हैं. उन्‍होंने यह भी बताया कि बंदर ने उसे उठाकर छत पर फेंका इससे उसकी तबीयत बिगड़ गई और इसी कारण उसे अस्तपाल में भर्ती कराया गया था. बता दें कि दिल्‍ली के संगम विहार इलाके में बंदरों के आतंक से लोग कई दिनों से परेशान हैं. यहां एक महीने के अंदर एक दर्जन से अधिक लोग बंदरों के शिकार हो चुके हैं. बंदर कपड़े और सामान लेकर भाग जाते हैं.